BREAKING NEWS

J&K : घाटी में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी , लश्कर का शीर्ष कमांडर सहित 2 आतंकवादी ढेर◾खुले में नमाज पढ़ने के विरोध में उतरी भीड़, लोगों ने भजन-कीर्तन करते हुए दर्ज कराई आपत्ति◾यूपी विधानसभा चुनाव : जयंत चौधरी बोले- सपा के साथ गठबंधन को लेकर बातचीत चल रही है◾अखिलेश का भाजपा पर हमला, बोले- उन्हें सिर्फ 'जीभ चलाना' और 'जीप चढ़ाना' ही आता है ◾अब बिना आधार कार्ड वालों को भी लगेगी कोरोना की वैक्सीन, CM नीतीश ने दिए निर्देश◾ कश्मीर में आतंकियों का खूनी खेल जारी, कायर आतंकियों ने अब गोलगप्पे वाले की ली जान ◾PM मोदी 25 अक्टूबर को सिद्धार्थनगर में सात मेडिकल कालेजों का उद्घाटन करेंगे: CM योगी◾तमाम सियासी अटकलों को खारिज करते हुए तेजस्वी ने कहा- लालू बिहार आने को इच्छुक, लेकिन स्वास्थ्य नहीं दे रहा साथ◾लंबे समय बाद करीब पांच घंटे चली CWC मीटिंग, अगले साल चुना जा सकता है कांग्रेस अध्यक्ष◾लखीमपुर में मगरमच्छी आंसू बहा रहे थे भाई-बहन, क्या छत्तीसगढ़ ले जाएंगे मुंगेरी लाल के हसीन सपनों का रथ : BJP ◾अध्यक्ष बनने की मांग पर राहुल गांधी का जवाब- दबाव बनाया गया तो पुन: बन सकता हूं कांग्रेस प्रमुख ◾कांग्रेस वर्किंग कमेटी कम और 'परिवार बचाओ वर्किंग' कमेटी ज्यादा लगती है CWC की बैठक : BJP◾श्रीनगर के 5 में से 3 आतंकवादियों को हमने 24 घंटे से भी कम समय में ढेर कर दिया है: IGP विजय कुमार◾ अंडमान-निकोबार: अमित शाह ने कहा-यहां की हवाओं में हैं सावरकर और बोस, उनके साथ अन्याय हुआ◾राम वियोग में 'दशरथ' ने मंच पर ही त्याग दिए प्राण, रामलीला मंचन के दौरान हार्ट अटैक से कलाकार की मौत◾पुलवामा मुठभेड़ में ढेर हुआ लश्कर का खूंखार कमांडर उमर मुश्ताक, दो पुलिसकर्मियों की हत्या में था शामिल◾कांग्रेस केंद्रीय नेतृत्व को निशाने पर लेते हुए बोले CM शिवराज- ‘सर्कस’ जैसी हो गई है पार्टी की स्थिति◾कौन है Fletcher Patel? नवाब मलिक ने ट्वीट कर NCB से पूछे कई सवाल◾सिंघु बॉर्डर हत्या मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट के दरबार में, आंदोलनकारी प्रदर्शन की आड़ में कानून की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे ◾UN का दावा- लड़कियों को स्कूलों में पढ़ाई की इजाजत पर जल्द घोषणा करेगा तालिबान◾

किसान आंदोलन को 7 महीने पूरे, कांग्रेस बोली-अन्नदाताओं पर अत्याचार कर रही है मोदी सरकार

केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले साल नवंबर से जारी आंदोलन को आज सात महीने हो चुके हैं। इस दौरान किसानों की समस्या को सुलझाने के लिए केंद्र सरकार और किसान नेताओं के बीच 10-11 दफा चर्चाएं हो चुकी हैं, बावजूद अन्नदाताओं की समस्या का कोई संधान नहीं निकला है। किसान संगठन इन कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हैं। वहीं सरकार ने कानूनों को रद्द करने से साफ़ इंकार कर दिया है।

किसान आंदोलन के सात महीने होने पर कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि देश के अन्नदाताओं के साथ सात महीनों से अत्याचार किया जा रहा है और षड्यंत्र करके उन्हें बदनाम करने का प्रयास हो रहा है। सुरजेवाला ने एक बयान में कहा, ‘‘समूचे विश्व में आज तक किसी निर्दयी और निर्मम सत्ता का ऐसा अत्याचार देखने को नहीं मिला जो मोदी सरकार धरती के भगवान कहे जाने वाले अन्नदाता किसानों के साथ लगातार 7 माह से कर रही है। यह सरकार कभी उन पर लाठी बरसाती है, कभी उनकी राहों में कील और कांटे बिछाती है। किसानों को मोदी सरकार कभी आतंकी, कभी खालिस्तानी बताती है।’’

'सीधी-सीधी बात हम सत्याग्रही अन्नदाता के साथ', किसान आंदोलन पर राहुल का ट्वीट

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस पूरी प्रतिबद्धता और दृढ़ता से देश के किसान भाइयों के साथ खड़ी है। आज होने वाले किसानों के शांतिपूर्ण प्रदर्शन का पार्टी पुरजोर समर्थन करती है।’’ कांग्रेस महासचिव ने दावा किया, ‘‘एक तरफ सरकार कह रही है कि किसानों को 6 हज़ार रुपये प्रतिवर्ष सम्मान निधि देकर हम किसानों की सहायता कर रहे हैं मगर दूसरी ओर मोदी सरकार ने गत सात वर्षों में डीजल की कीमत 55.49 रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर आज 88.65 रुपये कर दी है।’’

उन्होंने सवाल किया, ‘‘क्या सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने झूठा शपथपत्र नहीं दिया कि किसानों से चर्चा करके ये तीनों काले कानून लाए गए हैं, जबकि सूचना के अधिकार के तहत दिए जवाब में सरकार ने स्वीकारा कि कानून लाने से पहले किसानों से चर्चा के कोई प्रमाण मौजूद नहीं हैं?’’ सुरजेवाला ने यह भी पूछा, ‘‘क्या जब तीन काले कानून लागू किए गए तब से ही सरकारी अनाज मंडिया लगातार बंद करना जारी नहीं है? क्या किसान को मंडियों से बाहर देश में कहीं भी अपनी फसल बेचने की आजादी नहीं? अगर यह सही है, तो फिर तीन खेती विरोधी काले कानूनों की क्या जरूरत है?’’ 

दिल्ली में राज निवास की सुरक्षा कड़ी, किसानों को एलजी बैजल से मिलने की इजाजत नहीं

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, ‘‘सरकार किसानों के खिलाफ षड्यंत्र कर उन्हें ‘थका दो और भगा दो, प्रताड़ित करो और परास्त करो, बदनाम करो और फूट डालो’ की नीति पर काम कर रही है।’’ गौरतलब है कि केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनकारी किसान पिछले साल 26 नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं। वे इन तीनों कानूनों को रद्द करने और फसल के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी देने के लिए एक नया कानून लाने की मांग कर रहे हैं।