BREAKING NEWS

सीएम केजरीवाल की सभी गैर भाजपा दलों से अपील - राज्यसभा में कृषि विधेयकों का करें विरोध◾कांग्रेस का तीखा वार : सरकार से उठ चुका है किसानों का विश्वास, प्रधानमंत्री किसान विरोधी◾गूगल ने पेटीएम ऐप को ऐप स्टोर से हटाया, जानिये अब उपयोगकर्ताओं की जमा राशि का क्या होगा ◾दिल्ली में 5 अक्टूबर तक सभी छात्रों के लिए बंद रहेंगे स्कूल, केजरीवाल सरकार ने जारी किया आदेश◾चीन ने पहली बार माना, खुलासे में बताया गलवान झड़प में मारे गए थे PLA के जवान◾मंत्रियों एवं सांसदों के वेतन, भत्ते में कटौती संबंधी विधेयकों को राज्यसभा ने मंजूरी दी ◾पीएम मोदी ने कोसी रेल महासेतु राष्ट्र को किया समर्पित, MSP को लेकर विपक्ष पर लगाया झूठ बोलने का आरोप◾राज्यसभा में कांग्रेस का वार - बिना सोचे समझे लागू किया लॉकडाउन, 'कोरोना की जगह रोजगार समाप्त'◾विरोध के बाद बैकफुट पर आई योगी सरकार, गाजियाबाद में नहीं बनेगा डिटेंशन सेंटर◾चीन सीमा गतिरोध : LAC विवाद पर आज होगी सरकार की बड़ी बैठक, सेना के अधिकारी भी होंगे शामिल◾मोदी सरकार के कृषि बिल के विरोध में पंजाब के किसान ने खाया जहर, हालत गंभीर◾ड्रग्स केस : NCB की हिरासत में आया ड्रग तस्कर राहिल, अन्य पैडलरों से हैं संबंध◾कोविड-19 : देश में पॉजिटिव मामलों की संख्या 52 लाख के पार, 10 लाख से अधिक एक्टिव केस◾कोरोना वॉरियर्स के डाटा को लेकर राहुल का वार- थाली बजाने, दिया जलाने से ज्यादा जरूरी हैं उनकी सुरक्षा◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 3 करोड़ के पार, अब तक साढ़े 9 लाख के करीब लोगों की मौत◾राष्ट्रपति ने हरसिमरत कौर बादल का इस्तीफा किया स्वीकार, इन्हें सौंपा गया अतिरिक्त प्रभार ◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 11 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 24,619 नए केस◾विपक्ष के भारी विरोध के बीच,लोकसभा में कृषि से जुड़े 2 अहम बिल हुए पास, वोटिंग से पहले विपक्ष ने किया वॉकआउट ◾J&K में पुलवामा जैसा हमला टला, J&K हाईवे के पास 52 किलो विस्फोट बरामद ◾राजधानी दिल्ली में कोरोना का कहर बरकरार, बीते 24 घंटे में 4,432 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 2.34 लाख के पार ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

चीन सीमा विवाद पर रक्षामंत्री बोले - देश का मस्तक झुकने नहीं देंगे, बड़े और कड़े कदम उठाने को तैयार

केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने संसद के मॉनसून सत्र के दौरान राज्यसभा में पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध पर आज यानी गुरुवार को बयान दिया। रक्षामंत्री ने कहा, "सदन के माध्यम से मैं, हमारे 130 करोड़ देशवासियों को आश्वस्त करना चाहता हूं, कि हम देश का मस्तक झुकने नहीं देंगे |  यह हमारा, हमारे राष्ट्र के प्रति दृढ संकल्प है। "

राजनाथ सिंह ने कहा, "इस सदन से दिया गया, एकता व पूर्ण विश्वास का संदेश, पूरे देश और पूरे विश्व में गूंजेगा, और हमारे जवान, जो कि चीनी सेनाओं से आंख से आंख मिलाकर अडिग खड़े हैं, उनमें एक नए मनोबल, ऊर्जा व उत्साह का संचार होगा। 

यह सच है कि हम लद्दाख में एक चुनौती के दौर से गुजर रहे हैं, लेकिन साथ ही मुझे पूरा भरोसा है कि हमारा देश और हमारे वीर जवान इस चुनौती पर खरे उतरेंगे। मैं इस सदन से अनुरोध करता हूँ कि हम एक ध्वनि से अपनी सेनाओं की बहादुरी और उनके अदम्य साहस के प्रति सम्मान प्रदर्शित करें।"

जवानों के हौसले की बात करते हुए राजनाथ सिंह ने सदन में कहा , " महोदय, हमारे जवानों का हौसला बुलंद है , उनके लिए बर्फीली ऊॅंचाइयों के अनुरूप विशेष प्रकार के गरम कपड़े, उनके रहने का विशेष टेंट तथा उनके सभी अस्त्र-शस्त्र एवं गोला बारूद की पर्याप्त व्यवस्था की गई है।हमारे यहाँ कहा गया है, कि ‘साहसे खलु श्री वसति।हमारे सैनिक तो साहस के साथ-साथ संयम-शक्ति, शौर्य और पराक्रम की जीती-जागती प्रतिमूर्ति हैं।प्रधानमंत्रीजी के बहादुर जवानों के बीच जाने के बाद हमारे कमांडर तथा जवानों में यह संदेश गया है कि देश के 130 करोड़ देशवासी जवानों के साथ हैं।" 

सीमा की स्थिति पर बोलते हुए उन्होंने कहा , "मैं देशवासियों को यह विश्वास दिलाना चाहता हूँ कि हमारे आर्म्ड फोर्सेज के जवानों का जोश एवं हौसला बुलंद है, और हमारे जवान किसी भी संकट का सामना करने के लिए दृढ़ प्रतिज्ञ हैं। इस बार भी, सीमा पर हमारे वीरों ने, किसी भी प्रकार की आक्रामकता दिखाने की बजाय,धैर्य और साहस का परिचय दिया।"

सीमा विवाद : भारतीय सेना पूर्वी लद्दाख में आर-पार की जंग लड़ने के लिये पूरी तरह तैयार

रक्षा मंत्री ने ये भी कहा कि बीते समय में भी चीन के साथ हमारे बॉर्डर एरिया में लम्बे स्टैंड ऑफ की स्थिति कई बार बनी है जिसका शांतिपूर्ण तरीके से समाधान किया गया था। हालांकि, इस वर्ष की स्थिति, चाहे वो पलटनों की तैनाती हो या फ्रिक्शन पॉइंट्स की संख्या हो, वह पहले से बहुत अलग है। इसके कारण वे बॉर्डर एरिया में अधिक अलर्ट रह सकते हैं, और जरूरत पड़ने पर बेहतर जवाबी कार्रवाई कर सकते हैं। आने वाले समय में भी सरकार इस उद्देश्य के प्रति पूरी तरह से प्रतिबद्ध रहेगी। देश हित में हमें कितना ही बड़ा और कड़ा कदम उठाना पड़े, हम पीछे नहीं हटेंगे। 

बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर विकास के बारे में जानकारी देते हुए राजनाथ ने कहा कि सदन को जानकारी है कि पिछले कई दशकों में चीन ने बड़े पैमाने पर इंफ्रास्ट्रक्चर  एक्टिविटी शुरू की है, जिनसे बॉर्डर एरिया में उनकी डिप्लॉयमेंट क्षमता बढ़ी है। इसके जबाव में हमारी सरकार ने भी बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर विकास के लिए बजट बढ़ाया है, जो पहले से लगभग दुगुना हुआ है। एक ओर किसी को भी हमारे सीमा की सुरक्षा के प्रति हमारे दृढ़ निश्चय के बारे में संदेह नहीं होना चाहिए, वहीँ  भारत यह भी मानता है कि पड़ोसियों के साथ शांतिपूर्ण संबंधों के लिए आपसी सम्मान और आपसी संवेदनशीलता रखना आवश्यक हैं। 

उन्होंने कहा, ‘‘ भारत तथा चीन दोनों ने औपचारिक तौर पर यह माना है कि सीमा का प्रश्न एक जटिल मुद्दा है जिसके समाधान के लिए संयम की आवश्यकता है तथा इस मुद्दे का उचित, व्यवहारिक और एक दूसरे को स्वीकार्य समाधान, शांतिपूर्ण तरीके से बातचीत के द्वारा निकाला जाए।’’ राजनाथ सिंह ने कहा कि अभी तक भारत-चीन के सीमावर्ती क्षेत्रों में साझा रूप से चिन्हित वास्तविक नियंत्रण रेखा नहीं है और वास्तविक नियंत्रण रेखा को लेकर दोनों पक्षों की समझ अलग-अलग है। 

PM मोदी का 70वां जन्मदिन आज, कोविंद और शाह समेत कई नेताओं ने दी हार्दिक शुभकामनाएं

उन्होंने कहा कि इसलिए शांति बहाल रखने के वास्ते दोनों देशों के बीच कई तरह के समझौते और प्रोटोकॉल हैं। सिंह ने कहा, ‘‘ हमने चीन को राजनयिक तथा सैन्य माध्यमों के जरिये यह अवगत करा दिया, कि इस प्रकार की गतिविधियां, स्थिति को यानी यथास्थिति को एक तरफा बदलने का प्रयास है। यह भी साफ कर दिया गया कि ये प्रयास हमें किसी भी सूरत में मंजूर नहीं है।’’ 

उन्होंने कहा,‘‘ मैंने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि हम मुद्दे का शांतिपूर्ण ढंग से समाधान करना चाहते हैं और चीनी पक्ष इस पर हमारे साथ काम करे। लेकिन किसी को भी भारत की सम्प्रभुता और अखंडता की रक्षा को लेकर हमारी प्रतिबद्धता पर रत्ती भर भी संदेह नहीं होना चाहिए ।’’ 

रक्षा मंत्री ने कहा कि चीन, भारत की लगभग 38,000 वर्ग किलोमीटर भूमि पर अनधिकृत कब्जा लद्दाख में किए हुए है। इसके अलावा, 1963 में एक तथाकथित सीमा समझौते के तहत, पाकिस्तान ने पीओके की 5,180 वर्ग किमी भारतीय जमीन अवैध रूप से चीन को सौंप दी है। सिंह ने अप्रैल के बाद से पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध के हालात और सीमा पर शांति के लिए कूटनीतिक तथा सैन्य स्तर पर किये गये प्रयासों का भी उल्लेख किया। 

उन्होंने कहा कि भारत और चीन के बीच सीमा निर्धारण का प्रश्न अभी अनसुलझा है और दोनों पक्ष मानते हैं कि सीमा जटिल मुद्दा है तथा शांतिपूर्ण बातचीत के जरिये इसका समाधान निकाला जाना चाहिए। रक्षा मंत्री ने कहा, ‘‘ 1993 और 1996 के समझौते में इस बात का जिक्र है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास दोनों देश अपनी अपनी सेनाओं के सैनिकों की संख्या कम से कम रखेंगे। समझौते में यह भी शामिल है कि जब तक सीमा मुद्दे का पूर्ण समाधान नहीं हो जाता है, तब तक वास्तविक नियंत्रण रेखा का सख्ती से सम्मान किया जाएगा।’’