BREAKING NEWS

DRDO ने जमीन से हवा में मार करने वाली VL-SRSAM मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾बिना कांग्रेस के विपक्ष का कोई भी फ्रंट बनना संभव नहीं, संजय राउत राहुल गांधी से मुलाकात के बाद बोले◾केंद्र की गलत नीतियों के कारण देश में महंगाई बढ़ रही, NDA सरकार के पतन की शुरूआत होगी जयपुर की रैली: गहलोत◾अमरिंदर ने कांग्रेस पर साधा निशाना, अजय माकन को स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त करने पर उठाए सवाल◾SKM की बैठक खत्म, क्या समाप्त होगा आंदोलन या रहेगा जारी? कल फाइनल मीटिंग◾महाराष्ट्र: आदित्य ठाकरे ने 'ओमिक्रॉन' से बचने के लिए तीन सुझाव सरकार को बताए, केंद्र को भेजा पत्र◾गांधी का भारत अब गोडसे के भारत में बदल रहा है..महबूबा ने केंद्र सरकार को फिर किया कटघरे में खड़ा, पूर्व PM के लिए कही ये बात◾UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾12 निलंबित सदस्यों को लेकर विपक्ष का समर्थन,संसद परिसर में दिया धरना, राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित ◾JNU में फिर सुलगी नए विवाद की चिंगारी, छात्रसंघ ने की बाबरी मस्जिद दोबारा बनाने की मांग, निकाला मार्च ◾

दिल्ली उच्च न्यायालय ने सुब्रहमण्यम स्वामी की सुनंदा पुष्कर मौत मामले में याचिका खारिज कर दी

दिल्ली उच्च न्यायालय ने आज भाजपा नेता सुब्रहमण्यम स्वामी की उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें कांग्रेस सांसद शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत की अदालत की निगरानी में एसआईटी जांच की मांग की गई थी। साथ ही अदालत ने उनकी जनहित याचिका को राजनीतिक हित याचिका का एक स्पष्ट उदाहरण करार दिया। न्यायमूर्ति एस मुरलीधर और न्यायमूर्ति आई एस मेहता की पीठ ने कहा कि स्वामी की याचिका पर जनहित याचिका के तौर पर सुनवाई नहीं हो सकती।

 पीठ ने यह भी कहा कि अदालत के समक्ष जो भी तथ्य रखे गये उसके आधार पर यह नहीं कहा जा सकता कि विशेष जांच दल द्वारा की जा रही जांच को किसी भी पक्ष द्वारा प्रभावित किया गया है। अदालत ने कहा कि उसका यह भी मानना है कि स्वामी ने वह जानकारी छिपाई जिसके आधार पर उन्होंने थरूर और दिल्ली पुलिस के खिलाफ आरोप लगाए थे क्योंकि उन्होंने आज अपने उस स्रोत या कारण का खुलासा करने वाला हलफनामा देने की पेशकश की जिसके आधार पर उन्होंने आरोप लगाए थे।

 अदालत ने कहा, ''सुब्रहमण्यम स्वामी से जब यह स्पष्ट रूप से पूछा गया कि उन्होंने याचिका में किस आधार पर आरोप लगाए तो उन्होंने दावा किया कि उन्होंने कोई डेटा या जानकारी नहीं छिपाई। हालांकि हलफनामा दायर करने के लिए समय मांगने वाले उनके जवाब से यह स्पष्ट दिखता है कि वह जानकारी नहीं दी गई जिसका पहली बार में खुलासा करना चाहिए था। दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा कि अदालतों को इस मामले में सावधानी बरतने की आवश्यकता है कि राजनीतिक व्यक्ति अपने हितों के लिए न्यायिक प्रक्रिया का इस्तेमाल नहीं करें।''

पीठ ने कहा, ''इसका मतलब यह नहीं है कि राजनीतिक व्यक्ति जनहित याचिका दायर नहीं कर सकते लेकिन अदालतों को तब अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए जब अन्य राजनीतिक व्यक्तियों के खिलाफ आरोप लगाए जाते हैं।'' अदालत ने कहा कि स्वामी की याचिका पर जनहित याचिका के तौर पर सुनवाई नहीं की जा सकती क्योंकि ऐसा लगता यह जनहित याचिका के भेष में राजनीतिक हित याचिका का एक स्पष्ट उदाहरण है।

सुनवाई के दौरान केंद्र और दिल्ली पुलिस की ओर से पेश हुए अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल संजय जैन ने कहा कि वे स्वामी के इस विचार से इथेफाक नहीं रखते कि इस मामले में जांच को कांग्रेस नेता लगातार प्रभावित कर रहे हैं। सुनंदा 17 जनवरी 2014 की रात को दिल्ली के एक पांच सितारा होटल के कमरे में रहस्यमयी परिस्थितियों में मृत पाई गई थीं।