BREAKING NEWS

कोविड-19 : राजधानी में 24 घंटो में कोरोना के 13,785 नए मामले सामने आये, 35 लोगो की हुई मौत◾CDS जनरल बिपिन रावत के छोटे भाई कर्नल विजय रावत हुए भाजपा में शामिल, उत्तराखंड से लड़ सकते हैं चुनाव ◾पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी आम आदमी नहीं बल्कि बेईमान आदमी हैं : केजरीवाल◾बदली राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे विधानसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहिए : उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ◾पंजाब : सीएम चन्नी ने BJP और केंद्र सरकार पर लगाया आरोप, कहा-ईडी की छापेमारी मुझे फंसाने का एक षड्यंत्र ◾प्रधानमंत्री को पता था कि योगी कामचोरी वाले मुख्यमंत्री है इसलिए उन्हें पैदल चलने की सजा दी थी : अखिलेश यादव ◾PM मोदी ने 15 से 18 वर्ष आयु के 50 प्रतिशत से अधिक युवाओं को टीके की पहली खुराक लगाए जाने की सराहना की◾यूपी : जे पी नड्डा का बड़ा ऐलान, 'अपना दल' और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ेगी भाजपा◾हरक सिंह की वापसी पर कांग्रेस में बढ़ी अंदरूनी कलह, बागी को ठहराया 'लोकतंत्र का हत्यारा', पूछे ये सवाल ◾समाजवादी पार्टी के नेताओं को भी पता है कि उनकी बेटियां एवं बहुएं भाजपा में सुरक्षित हैं : केन्द्रीय मंत्री ठाकुर ◾त्रिवेंद्र रावत ने चुनाव लड़ने से किया इंकार, नड्डा को लिखा पत्र, कहा- BJP की वापसी पर करना चाहता हूं फोकस ◾मुलायम परिवार में BJP की बड़ी सेंधमारी, अपर्णा यादव के बाद प्रमोद गुप्ता थामेंगे कमल, SP पर लगाए ये आरोप ◾PM मोदी, योगी और शाह समेत पार्टी के कई बड़े नेता BJP के स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल, जानें पूरी लिस्ट ◾महाराष्ट्र: मुंबई में कोविड की स्थिति नियंत्रित, BMC ने हाईकोर्ट को कहा- घबराने की कोई बात नहीं◾राहुल गांधी ने साधा PM पर निशाना, बोले- LAC पर चीन द्वारा निर्मित पुल का उद्घाटन कहीं मोदी न कर दें ◾बाटला हाउस में मरे लोग आतंकी नहीं, तौकीर रजा ने किया कांग्रेस का समर्थन, राहुल-प्रियंका को बताया सेक्युलर ◾दिल्ली : त्रिलोकपुरी में संदिग्ध बैग से मिला लैपटॉप और चार्जर, कुछ देर के लिए मची अफरातफरी◾अखिलेश ने अपर्णा को BJP में शामिल होने पर दी बधाई, बोले- नेता जी ने की रोकने की बहुत कोशिश, लेकिन... ◾दिल्ली: संक्रमण दर में आई कमी, जैन बोले- पाबंदियां कम करने से पहले होगा कोरोना की स्थिति का आकलन ◾भारत में यूएई जैसे हमले की योजना बना रहा ISI, चीन से ड्रोन खरीद रहा पाकिस्तान◾

चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- कोविड-19 प्रबंधन हमारा विशेषाधिकार नहीं

मद्रास हाई कोर्ट की हाल में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों के संबंध में आईं कड़ी टिप्पणियों से व्यथित चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट से सोमवार को कहा कि कोविड-19 प्रबंधन उसका विशेषाधिकार नहीं है और राज्य का शासन उसके हाथों में नहीं है।

निर्वाचन आयोग की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता राकेश द्विवेदी ने न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एम आर शाह की पीठ से कहा कि संवैधानिक इकाई के खिलाफ मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा की गई हत्या के आरोपों संबंधी टिप्पणी अवांछनीय है तथा इस तरह की निष्कर्षात्मक टिप्पणियां चुनाव इकाई को सुने बिना नहीं की जानी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘राज्य का शासन निर्वाचन आयोग के हाथों में नहीं है।

हम केवल दिशा-निर्देश जारी करते हैं। रैली में शामिल लोगों को रोकने के लिए हमारे पास सीआरपीएफ या कोई अन्य बल नहीं है। लोगों की संख्या सीमित करने के लिए राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को आदेश जारी करना होता है। ऐसी अवधारणा है कि निर्वाचन आयोग के पास इस सबकी जिम्मेदारी है। कोविड प्रबंधन से हमारा कोई लेना-देना नहीं है।’’

हाई कोर्ट ने महामारी की दूसरी लहर के दौरान मामलों में भयावह वृद्धि को लेकर 26 अप्रैल को निर्वाचन आयोग की निन्दा की थी और कोरोना वायरस के प्रसार के लिए इसे ‘‘अकेले जिम्मेदार’’ ठहराया था। इसने यहां तक कहा था कि निर्वाचन आयोग सर्वाधिक गैर-जिम्मेदार संस्थान है तथा इसके अधिकारियों के खिलाफ हत्या के आरोप में भी मुकदमा दर्ज किया जा सकता है।

सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने द्विवेदी से कहा कि चुनाव इकाई को उच्च न्यायालय की टिप्पणी को सही भावना से लेना चाहिए। इसने कहा, ‘‘कोई किसी की आलोचना नहीं कर रहा है। आपने अच्छा काम किया है। निर्वाचन आयोग एक अनुभवी संवैधानिक इकाई है, जिसके पास देश में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराने का दायित्व है। इसे की गईं टिप्पणियों से व्यथित नहीं होना चाहिए।’’

पीठ ने कहा कि उच्च न्यायालय की टिप्पणी का मतलब किसी संवैधानिक इकाई की ‘‘आलोचना करने’’ से नहीं था, लेकिन हो सकता है कि यह चर्चा के प्रवाह में ‘‘क्षणिक रूप से’’ कर दी गई हो और इसीलिए यह न्यायिक आदेश में नहीं है। द्विवेदी ने कहा कि निर्वाचन आयोग चर्चा या उच्च न्यायालयों द्वारा की जा रहीं टिप्पणियों पर आपत्ति नहीं जता रहा, लेकिन ये संबंधित मामले के संदर्भ में होनी चाहिए और कोई तल्ख टिप्पणी नहीं की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि तमिलनाडु में मतदान छह अप्रैल को हुआ था और जनहित याचिका 19 अप्रैल को दायर की गई तथा उच्च न्यायालय ने आदेश 26 अप्रैल को दिया। पीठ ने कहा, ‘‘कुछ टिप्पणियां व्यापक जनहित में की जाती हैं। कई बार यह नाराजगी होती है और कई बार ये व्यक्ति को काम करने की बात कहने के लिए की जाती हैं, उसे ऐसा करने की जरूरत होती है. कुछ न्यायाधीश अल्पभाषी होते हैं और कुछ न्यायाधीश अधिक बोलते हैं।’’

शीर्ष अदालत ने कहा कि निर्वाचन आयोग के इस अभिवेदन को संज्ञान में लिया जाएगा कि मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा उसके खिलाफ लगाए गए ‘‘तीखे आरोप’’ अवांछनीय हैं और संवैधानिक इकाइयों के बीच संतुलन स्थापित करने की कोशिश की जाएगी।

पीठ ने स्पष्ट किया कि वह कार्यवाही के दौरान जनहित में की गईं मौखिक टिप्पणियों की रिपोर्टिंग करने से न तो मीडिया को रोकेगी और न ही उच्च न्यायालयों ‘‘लोकतंत्र के महत्वपूर्ण स्तंभ’’ से यह कहकर उनका मनोबल गिराएगी कि वे सवाल उठाते समय संयम बरतें। इसने चुनाव इकाई के इस आग्रह को ‘‘अत्यंत अवास्तविक’’ करार दिया कि मीडिया को अदालत की कार्यवाही के दौरान की गईं टिप्पणियों की रिपोर्टिंग करने से रोका जाए। शीर्ष अदालत ने अपना निर्णय सुरक्षित रख लिया और कहा कि वह तर्कसंगत आदेश देगी क्योंकि मद्रास उच्च न्यायालय के खिलाफ निर्वाचन आयोग की याचिका में बड़ा मुद्दा उठाया गया है।