BREAKING NEWS

कांग्रेस नेता ने अंग्रेजी शब्द के जरिए रेल मंत्रालय पर किया कटाक्ष ◾आज का राशिफल ( 23 मई 2022)◾KXIP vs SRH ( IPL 2022) : पंजाब किंग्स ने सनराइजर्स हैदराबाद को 5 विकेट से हराया◾PM मोदी टोक्यो में क्वाड इनिशिएटिव, द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा करने के लिए उत्सुक◾WHO चीफ ने कोविड महामारी को लेकर दिया बड़ा बयान◾राजभर ने अखिलेश पर कसा तंज , कहा - यादव जी को लग गई है एयर कंडीशनर की हवा ◾ केंद्र के बाद इन राज्य सरकारों ने भी पेट्रोल-डीजल पर घटाया VAT , जानें क्या हैं नई कीमतें◾ होशियारपुर में 300 फीट गहरे बोरवेल में गिरे 6 साल के बच्चे की नहीं बचाई जा सकी जान, कुत्ते से कर रहा था बचाव◾ श्रीलंका के लिए संकट मोचन बना भारत, जरूरी राहत सामग्री लेकर कोलंबो पहुंचा जहाज◾ SA टी20 सीरीज और इंग्लैंड के साथ एक टेस्ट के लिए भारतीय टीम हैं तैयार, यहां देखें किसे-किसे मिला मौका◾ SRH vs PBKS: हैदराबाद ने पंजाब के खिलाफ टॉस जीतकर चुनी बल्लेबाजी, यहां देखें Playing XI◾ बंगाल में BJP को लगा बड़ा झटका, सांसद अर्जुन सिंह ने थामा टीएमसी का हाथ◾'न उगली जाए, न निगली जाए' की स्थिति में विपक्ष! ज्ञानवापी विवाद में सपा, बसपा और कांग्रेस ने क्यों साधी चुप्पी?◾ आज से नौकरशाहों के हाथों में दिल्ली MCD की डोर, स्पेशल अफसर अश्वनी कुमार और कमिश्नर ज्ञानेश भारती ने संभाला चार्ज◾2024 की तैयारी में राजनीतिक समीकरण साध रहे KCR... CM केजरीवाल से की मुलाकात, इन मुद्दों पर हुई चर्चा ◾दिल्ली: कुतुब मीनार परिसर में खुदाई को लेकर नहीं लिया गया कोई फैसला, केंद्रीय संस्कृति मंत्री ने कही यह बात ◾ इटालियन चश्मा उतारें तो पता चलेगा विकास....,राहुल गांधी पर अमित शाह ने कसा तंज◾ज्ञानवापी से लेकर ईदगाह मस्जिद तक... जानें क्यों कटघरे में खड़ा है पूजा स्थल अधिनियम 1991? पढ़े खबर ◾भारत में जनता के हित में लिए जाते हैं फैसले, बाहरी दबावों को किया जाता है दरकिनार : इमरान खान ◾ क्वाड के लिए जापान रवाना हुए पीएम मोदी, बैठक के बारे में बताया क्या-क्या होगा खास◾

तकनीकी खराबी के कारण EOS-3 मिशन नहीं हुआ पूरी तरह सम्पन्न, क्रायोजेनिक इंजन ने बिगाड़ा खेल

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) का जीएसएलवी रॉकेट द्वारा भू्-अवलोकन उपग्रह को स्थापित करने का मिशन रॉकेट के ‘क्रायोजेनिक चरण (कम तापमान बनाकर रखने संबंधी)’ में खराबी आने के कारण पूरी तरह से सम्पन्न नहीं किया जा सका। इसरो ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।

फरवरी में ब्राजील के भू-अवलोकन उपग्रह एमेजोनिया-1 और 18 अन्य छोटे उपग्रहों के प्रक्षेपण के बाद 2021 में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) का यह दूसरा मिशन था। एजेंसी के अनुसार, 51.70 मीटर लंबे रॉकेट जीएसएलवी-एफ10/ईओएस-03 ने 26 घंटे की उलटी गिनती के समाप्त होने के तुरंत बाद सुबह पांच बजकर 43 मिनट पर श्रीहरिकोटा के दूसरे लॉंच पैड (प्रक्षेपण स्थल) से सफलतापूर्वक उड़ान भरी थी।

‘मिशन कंट्रोल सेंटर’ के वैज्ञानिकों ने बताया कि उड़ान भरने से पहले, ‘लॉन्च ऑथराइजेशन बोर्ड’ ने योजना के अनुसार सामान्य उड़ान भरने के लिए मंजूरी दी थी। पहले और दूसरे चरण में रॉकेट का प्रदर्शन सामान्य रहा। कुछ मिनटों बाद हालांकि, वैज्ञानिकों को चर्चा करते देखा गया और रेंज ऑपरेशन्स निदेशक द्वारा मिशन कंट्रोल सेंटर में घोषणा की गई कि ‘‘ कुछ खराबी के कारण मिशन पूरी तरह से सम्पन्न नहीं हो सका।’’ ‘मिशन कंट्रोल सेंटर’ में रेंज ऑपरेशन्स निदेशक की घोषणा की, ‘‘ क्रायोजेनिक चरण में, प्रदर्शन में विसंगति देखी गई। मिशन पूरी तरह से सम्पन्न नहीं हो सका।’’

बाद में इसरो के अध्यक्ष के सिवन ने भी इस बात की पुष्टि की।इस अभियान का उद्देश्य नियमित अंतराल पर बड़े क्षेत्र की वास्तविक समय पर तस्वीरें उपलब्ध कराना, प्राकृतिक आपदाओं की त्वरित निगरानी करना और कृषि, वनीकरण, जल संसाधनों तथा आपदा चेतावनी प्रदान करना, चक्रवात की निगरानी करना, बादल फटने आदि के बारे में जानकारी प्राप्त करना था।

UP के 24 जिलों में बाढ़ का प्रकोप, CM योगी ने हवाई सर्वेक्षण करके लिया हालात का जायजा