BREAKING NEWS

छत्तीसगढ़: कोयला लेवी 'घोटाला', मनी लॉन्ड्रिंग केस में ED ने चार लोगों को गिरफ्तार किया ◾Maharashtra: शरद पवार बोले- वंचित बहुजन अघाड़ी के बारे में MVA के घटक दलों के बीच कोई बातचीत नहीं हुई है◾कई विवादों और आरोप-प्रत्यारोप के बीच सुर्खियों में बनी रही भारत जोड़ो यात्रा◾ मैं यज्ञ में शाम‍िल होने आया तो BJP ने मुझे रोकने के ल‍िए गुंडे भेजे- अख‍िलेश यादव◾ Kangana Ranaut: कंगना रनौत ने ट्वीट कर बॉलीवुड वालों को दी नसीहत, कहा- मत बनाओ हिंदू नफरत का नैरेटिव ◾लद्दाख : -20 डिग्री में लद्दाख को बचाने के लिए आंदोलन कर रहे 'सोनम वांगचुक' को सरकार ने किया नजरबंद ! ◾मायावती ने कहा, 'अडाणी समूह पर लगे आरोपों पर वक्तव्य जारी करे सरकार'◾MP: भारतीय वायुसेना के दो लड़ाकू विमान मुरैना में दुर्घटनाग्रस्त, एक पायलट शहीद ◾MP: भारतीय वायुसेना के दो लड़ाकू विमान मुरैना में दुर्घटनाग्रस्त, एक पायलट शहीद ◾Weather Update: पंजाब और हरियाणा में कड़ाके की ठंड जारी, जानें अपने शहर का हाल ◾यरूशलम में हुआ आतंकी हमला: अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन ने इजराइली प्रधानमंत्री से की बात ◾स्वामी प्रसाद मौर्य के बिगड़े बोल: संतों-धर्माचार्यों को बताया आतंकवादी और जल्लाद◾आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान दिवालिया होने के कगार पर◾Delhi University: डीयू ने BBC वृत्तचित्र की स्क्रीनिंग को लेकर हुए हंगामे की जांच के लिए बनाई समिति ◾झारखंड के अस्पताल में लगी भयानक आग डॉक्टर समेत 6 लोग जिंदा जल कर हुए राख◾जयराम रमेश बोले- कांग्रेस को 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए किसी भी विपक्षी गठबंधन का आधार बनना होगा◾Tripura Assembly Election: चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस ने जारी की स्टार प्रचारकों की सूची◾ AAP सांसद राघव चड्ढा इंडिया-यूके आउटस्टैंडिंग अचीवर्स अवॉर्ड से हुए सम्मानित◾यूपी: हत्या के प्रयास के मामले में सपा विधायक नाहिद हसन बरी◾Bharat Jodo Yatra: राहुल गांधी ने पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए CRPF के जवानों को दी श्रद्धांजलि◾

किसान आंदोलन को लेकर कांग्रेस पर भड़की BJP, रविशंकर बोले-विपक्ष का दोहरा चरित्र आया सामने

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमा पर किसानों का आंदोलन जारी है, इस बीच बीजेपी नेता और केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने विपक्षी दलों पर जमकर कटाक्ष किया। केंद्रीय मंत्री ने विपक्षी और उनके सहयोगी दलों को शर्मनाक दोहरे चरित्र वाला बताते हुए कहा, इनका राजनीतिक वजूद खत्म हो रहा है तो अपना वजूद बचाने के लिए ये किसी भी विरोधी आंदोलन में शामिल हो जाते हैं। 

उन्होंने कहा, किसानों से संबंधित सुधारों को लेकर जो कानून बने हैं, उसको लेकर कुछ किसान संगठनों ने जो शंका उठायी है उसके लिए चर्चा हो रही है, वो चर्चा की अपनी प्रक्रिया है जो सरकार कर रही है। लेकिन अचानक तमाम विपक्षी या गैर बीजेपी दल कूद गए हैं। किसान आंदोलन के नेताओं ने साफ-साफ कहा है कि राजनीतिक लोग हमारे मंच पर नहीं आएंगे। हम उनकी भावनाओं का सम्मान करते हैं। लेकिन ये सभी कूद रहे हैं, क्योंकि इन्हें बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी का विरोध करने का एक और मौका मिल रहा है। 

किसानों के मन की बात सुन ‘काले कानूनों’ को वापस ले सरकार : कांग्रेस

रविशंकर प्रसाद ने कहा, कांग्रेस पार्टी ने 2019 के चुनाव में अपने मेनिफेस्टो में साफ-साफ कहा है कि एग्रीकल्चर प्रोड्यूस मार्केट एक्ट को समाप्त करेगी और किसानों को अपनी फसलों के निर्यात और व्यापार पर सभी बंधनों से मुक्त करेगी। उन्होंने कहा, शरद पवार जब देश के कृषि और उपभोक्ता मामलों के मंत्री थे तो उन्होंने देश के सारे मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी लिखी थी। जिसमे उन्होंने लिखा था कि मंडी एक्ट में बदलाव जरूरी है, प्राइवेट सेक्टर का आना जरूरी है, किसानों को कहीं भी अपनी फसल बेचने का अवसर मिलना चाहिए।

उन्होंने कहा, आज जो हमने काम किया है, 8-9 साल पहले मनमोहन सिंह जी की सरकार ये कर रही थी, 2005 में शरद पवार ये बोल रहे थे। जिस समय शरद पवार ये बोल रहे थे कि अगर आप सुधार नहीं करोगे तो हम वित्तीय समर्थन देना बंद कर देंगे। उस समय मनमोहन सिंह जी की सरकार का समर्थन सपा, RJD, CPI और अन्य दल कर रहे थे।

रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'शरद पवार ने एक इंटरव्यू में कहा था कि APMC एक्ट में बदलाव किए तो अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा। अखिलेश यादव आपको याद दिलाऊंगा कि कृषि संबंधित मामलों की संसदीय समिति में आपके पिता और समाजवादियों की अंतिम आवाज मुलायम सिंह यादव ने भी कहा कि किसानों को मंडी कल्चर से बाहर आना जरूरी थी।'

कृषि कानून : किसानों ने जनता से ‘भारत बंद’ के आह्वान का समर्थन करने की अपील की

विपक्ष के सवाल पर निशाना साधते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'मैं कानून मंत्री के तौर पर कह रहा हूं कि ना किसानों की जमीन को बंधक बनाया जाएगा और ना ही लीज पर लिया जाएगा। हमने किसानों को डिजिटल मंडी दी है, जिसमें अभी एक लाख करोड़ का व्यापार होता है। किसानों को भ्रमित करने की कोशिश की जा रही है।'

किसान संगठनों की ओर से केंद्र सरकार द्वारा लागू तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसान दिल्ली की सीमाओं पर 26 नवंबर से डटे हुए हैं। इस बीच किसानों ने जनता से अपील की है कि वे मंगलवार को आहूत ‘भारत बंद’ को अपना समर्थन दें। भारत बंद को विभिन्न राजनीतिक पार्टियों कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, माकपा और द्रमुक ने अपना समर्थन दिया है।