BREAKING NEWS

दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए : शाह◾वन्य क्षेत्रों में अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित नहीं किया जा सकता : दिल्ली सरकार◾मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है कांग्रेस नेतृत्व : नड्डा◾निर्भया के दोषियों से पूछा : आखिरी बार अपने-अपने परिवारों से कब मिलना चाहेंगे , तो नहीं दिया कोई जवाब !◾विपक्ष की तुलना पाकिस्तान से करना भारत की अस्मिता के खिलाफ : कांग्रेस◾ब्राजील के राष्ट्रपति 24-27 जनवरी तक भारत यात्रा पर रहेंगे, गणतंत्र दिवस परेड में होंगे मुख्य अतिथि◾उत्तर प्रदेश : किसानों के मुद्दे पर सड़क पर उतरेगी कांग्रेस ◾कश्मीर मुद्दे पर विदेश मंत्रालय ने कहा-किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं◾निर्भया मामले में आरोपियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने वाले जज का हुआ ट्रांसफर◾CM नीतीश की चेतावनी पर पवन वर्मा बोले- मुझे चिट्ठी का जवाब नहीं मिला◾भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले- देश हित में लिए प्रधानमंत्री के फैसलों से देश में नई ऊर्जा एवं उत्साह पैदा हुआ◾नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था : ममता बनर्जी◾‘हिंदुत्व’ की राह पर निकले राज ठाकरे, MNS का नया झंडा लॉन्च किया◾CM नीतीश कुमार ने पवन वर्मा को लताड़ा, कहा- जिसको जहां जाना है, जाएं◾तिहाड़ जेल प्रशासन ने निर्भया के गुनहगारों से पूछी उनकी अंतिम इच्छा, 1 फरवरी को होगी फांसी◾JNU और जामिया में पश्चिमी यूपी के छात्रों को 10 फीसदी आरक्षण दे दो, सबका इलाज कर देंगे : संजीव बालियान◾PM मोदी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस और बाल ठाकरे को उनकी जयंती पर दी श्रद्धांजलि, ट्वीट कर कही ये बात◾चीन में कोरोना वायरस से 17 लोगों की मौत के बाद इमरजेंसी घोषित, शहर छोड़ने पर भी लगी रोक ◾उपराष्ट्रपति नायडू ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धांजलि अर्पित की, ट्वीट कर कही ये बात◾अनुपम खेर ने ट्विटर पर दिया नसीरुद्दीन शाह को जवाब, कहा - कुछ पदार्थों के सेवन का नतीजा है यह बयान◾

सुरक्षा की कीमत पर नहीं होंगे पाकिस्तान से अच्छे रिश्ते : अमित शाह

नई दिल्ली : भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि भारत पाकिस्तान समेत अपने सभी पड़ोसी देशों के साथ अच्छे रिश्ते चाहता है लेकिन सीमाओं के अतिक्रमण, जवानों एवं नागरिकों की सुरक्षा की कीमत पर नहीं। कश्मीर की स्थिति के बारे में शाह ने कहा कि पत्थरबाजी और चर्चा साथ नहीं हो सकती है। मोदी सरकार की पाकिस्तान नीति के बारे में एक सवाल के जवाब में अमित शाह ने पत्रकारों से कहा कि इसके कालक्रम को समझना जरूरी है।

जब हमारी सरकार का शपथग्रहण था तब हमने अपने सभी पड़ोसी देशों के शासनाध्यक्षों को बुलाया था जिसका मकसद यह था कि हम सभी पड़ोसियों के साथ अच्छे संबंध चाहते थे। उन्होंने कहा कि हम सभी देशों के साथ अच्छे रिश्ते चाहते हैं लेकिन अच्छे रिश्ते कैसे होंगे? अगर हमारे जवानों के साथ अन्याय हो, अगर हमारे नागरिकों की सुरक्षा पर आघात हो, हमारी सीमाओं का अतिक्रमण होता हो, तो स्थिति कैसे सामान्य रहेगी।

शाह ने कहा कि हमने तो हाथ बढ़ाया था, हम चाहते थे कि रिश्ते अच्छे हो लेकिन कोई समान रूप से उत्तर नहीं देगा तो क्या करें। पाकिस्तान के साथ रिश्ते अकेले हिन्दुस्तान तय नहीं कर सकता। इस बारे में जिम्मेदारी पाकिस्तान को भी निभानी है। उन्होंने कहा कि अच्छे रिश्ते दोनों देशों को मिलकर बनाना है। भारत की मंशा है कि रिश्ते अच्छे हों लेकिन आप (पाकिस्तान) स्थिति ऐसी करोगे तो क्या करें। सीमाओं के अतिक्रमण को किसी भी स्थिति में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

कश्मीर की स्थिति के बारे में एक सवाल के जवाब में भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कश्मीर की स्थिति के बारे में छह महीने के आधार पर निष्कर्ष नहीं निकालना चाहिए। 1989 के बाद से वहां की स्थिति को देखे तो कई बार ऐसे मौके आए हैं जब कई महीने स्थिति उतार चढ़ाव भरी रही है। लेकिन सुरक्षा बलों ने स्थिति ठीक की है। अमित शाह ने कहा कि कश्मीर में पत्थरबाजी समाप्त हो, हिंसा समाप्त हो, तो चर्चा हो सकती है। जब तक पत्थरबाजी होगी तब तक चर्चा नहीं होगी ।

सुरक्षा बलों की कार्रवाई के बारे में एक सवाल के जवाब में शाह ने कहा कि कोई पत्थर फेंकेगा तो क्या फूल बरसाये जायेंगे। यह पूछने पर कि पत्थरबाजी की घटना से निपटने की क्या रणनीति है, भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि उन्हें पत्थरबाजी करने वालों समझना पड़ेगा, उन्हें पत्थरबाजी बंद करनी पड़ेगी। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि आज भारत वैश्विक नेता बनकर उभरा है । पहले हर रोज सीमा पर अतिक्रमण की खबरें आती थी, आज भी आती होंगी लेकिन सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारत दुनिया में मजबूत इरादों वाले देश के रूप में उभरा है।