BREAKING NEWS

दिल्ली में हुई हिंसा में मारे गए IB अफसर अंकित शर्मा के परिजनों ने शहीद का दर्जा देने की मांग◾CAA को लेकर अमित शाह का ममता और कांग्रेस पर करारा वार - 'अरे इतना झूठ क्यों बोलते हो'◾निर्भया मामला : फांसी के सजा को उम्रकैद में बदलने के लिए दोषी पवन ने दी याचिका ◾कांग्रेस के अलावा 6 अन्य विपक्षी ने भी राष्ट्रपति कोविंद को लिखा पत्र, दिल्ली हिंसा के आरोपियों पर दर्ज हो FIR◾दिल्ली हिंसा : मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 41, पीड़ितों से मिलने पहुंचे LG अनिल बैजल ◾रविशंकर प्रसाद का कांग्रेस पर वार, बोले- राजधर्म का उपदेश न दें सोनिया◾प्रधानमंत्री मोदी के आगमन से पहले छावनी में तब्दील हुआ प्रयागराज, जानिये 'विश्व रिकार्ड' बनाने का पूरा कार्यक्रम ◾ ताहिर हुसैन के कारखाने में पहुंची दिल्ली फोरेंसिक टीम, जुटाए हिंसा से जुड़े सबूत◾जानिये कौन है IB अफसर की हत्या के आरोपी ताहिर हुसैन, 20 साल पहले अमरोहा से मजदूरी करने आया था दिल्ली ◾एसएन श्रीवास्तव नियुक्त किये गए दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर, कल संभालेंगे पदभार ◾जुमे की नमाज़ के बाद जामिया में मार्च , दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती भरा दिन◾CAA को लेकर आज भुवनेश्वर में अमित शाह करेंगे जनसभा को सम्बोधित ◾CAA हिंसा : उत्तर-पूर्वी दिल्ली में अब हालात सामान्य, जुम्मे के मद्देनजर सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम कायम◾CAA को लेकर BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले - कांग्रेस जो नहीं कर सकी, PM मोदी ने कर दिखाया◾Coronavirus : चीन में 44 और लोगों के मौत की पुष्टि, दक्षिण कोरिया में 2,000 से अधिक लोग पाए गए संक्रमित ◾भारत ने तुर्की को उसके आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने से बचने की सलाह दी◾राष्ट्रपति कोविंद 28 फरवरी से 2 मार्च तक झारखंड और छत्तीसगढ़ के दौरे पर रहेंगे◾संजय राउत ने BJP पर साधा निशाना , कहा - दिल्ली हिंसा में जल रही थी तो केंद्र सरकार क्या कर रही थी ?◾PM मोदी 29 फरवरी को बुंदेलखंड एक्स्प्रेस-वे की रखेंगे नींव◾दिल्ली हिंसा : SIT ने शुरू की जांच, मीडिया और चश्मदीदों से मांगे 7 दिन में सबूत◾

जगन परिवार और TDP के बीच कड़वी प्रतिद्वंद्विता का इतिहास

सत्ताधारी वाईएसआरसीपी और मुख्य विपक्षी दल टीडीपी के बीच आंध्र प्रदेश में तकरार जारी है, क्योंकि वाई. एस जगनमोहन रेड्डी सरकार ने पिछली चंद्रबाबू नायडू सरकार द्वारा लिए गए लगभग सभी फैसलों को पलट दिया है, क्योंकि दोनों के बीच काफी लंबे समय से राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता है। 

अप्रैल में हुए चुनावों के दौरान दोनों पक्षों में चुनाव अभियान के दौरान काफी तीखी बहस और झड़पें हुई थी, जबकि मई में नतीजे आने के बाद दोनों के बीच तल्खी और तेज हो गई, क्योंकि वाईएसआर कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) ने तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) को सत्ता से बेदखल कर दिया। 

वाईएसआरसीपी को सत्ता में आए हुए ढाई महीने हुए हैं, और अभी भी कई गांवों में दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो रही है। टीडीपी ने आरोप लगाया कि वाईएसअरसीपी उनके कार्यकर्ताओं को निशाना बना रही है, यहां तक टीडीपी के मतदाताओं को भी निशाना बनाया जा रहा है। 

दोनों दलों के शीर्ष नेताओं के परिवारों के बीच दो दशक से ज्यादा समय से दुश्मनी चल रही है। मुख्यमंत्री वाई. एस. जगन मोहन रेड्डी के पिता वाई. एस. राजसेखरा रेड्डी 1999 से 2004 के बीच नेता विपक्ष थे, जबकि टीडीपी अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू अविभाजित आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री थे। 

राजसेखरा रेड्डी को वाईएसआर नाम से जाना जाता है। उनकी अगुवाई में 2004 में कांग्रेस सत्ता में लौटी और नायडू का एक दशक लंबा शासन समाप्त हुआ और 2004 से 2009 के बीच दोनों नेताओं की भूमिकाएं बदल गई। 

साल 2009 में सत्ता में आने के कुछ ही महीनों बाद वाईएसआर की एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई, जिसके बाद राज्य में राजनीतिक उठापटक का दौर शुरू हो गया। जगन मोहन रेड्डी जो तब कांग्रेस के सांसद थे, उन्होंने पार्टी द्वारा मुख्यमंत्री पद पर अपना दावा ठुकराए जाने के बाद विद्रोह कर दिया। 

जगन ने कांग्रेस छोड़कर 2011 में वाईएसआरसीपी का गठन किया। इसी साल उन्हें केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा अवैध संपत्ति मामले में गिरफ्तार किया गया और वे एक साल से ज्यादा समय तक जेल में रहे। उन्होंने तत्कालीन कांग्रेस सरकार और नायडू पर उन्हें झूठे मामले में फंसाने के लिए साजिश रचने का आरोप लगाया। 

2014 में आंध्र प्रदेश का बंटवारा हो गया और अब इसी साल हुए चुनावों में जगन को जीत मिली।