BREAKING NEWS

TDP के दर्जन से ज्यादा विधायक BJP के संपर्क में ◾अमरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ पहुंचे भारत, आज PM मोदी से करेंगे मुलाकात !◾World Cup 2019 AUS vs ENG : ऑस्ट्रेलिया सेमीफाइनल में, इंग्लैंड गहरे संकट में◾राम रहीम की पैरोल पर निर्णय डीसी, एसपी की रिपोर्ट के बाद : खट्टर ◾लकीर छोटी करने की बजाय अपनी लकीर लंबी करने में विश्वास करते हैं : PM मोदी ◾Modi का 5 साल का कार्यकाल ‘सुपर इमरजेंसी’ का : ममता◾राजीव गांधी हत्याकांड : मद्रास HC ने नलिनी को व्यक्तिगत रूप से पेश होकर दलील रखने की अनुमति दी ◾ओडिशा : पटरी से उतरी जगदलपुर समलेश्वरी एक्सप्रेस , 3 की मौत, स्टेशन मास्टर निलंबित◾PM मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधा, कहा उसकी ऊँचाई उसे मुबारक हो◾पश्चिम बंगाल में हालात आपातकाल से कम नहीं : जावडेकर ◾सुरक्षित और समावेशी राष्ट्र के सपने को साकार करने के लिए साथ मिलकर चलना होगा : मोदी ◾दिग्विजय सिंह ने राज्यसभा में बीजेपी पर लगाया सांप्रदायिकता फैलाने का आरोप◾धार्मिक गुरू स्वामी सत्यमित्रानंद के निधन पर उप राष्ट्रपति और PM मोदी ने शोक प्रकट किया ◾व्यापार मुद्दे पर साझे हित को तलाश करने का करेंगे प्रयास : जयशंकर◾PM मोदी के मजबूत नेतृत्व में देश में तेजी से बदलाव हो रहा है : हेमा मालिनी ◾AAP विधायक मनोज कुमार को चुनाव प्रक्रिया बाधित करने के अपराध में तीन महीने की कैद ◾गुजरात राज्यसभा उपचुनाव : सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस की याचिका पर सुनवाई से किया इंकार◾PNB घोटाला : मेहुल चोकसी की एंटीगुआ नागरिकता होगी रद्द, जल्द लाया जाएगा भारत◾TMC सांसद मिमी चक्रवर्ती और नुसरत जहां ने ली लोकसभा सांसद के रूप में शपथ◾आपातकाल की बरसी पर ममता का मोदी सरकार पर वार, कहा- पिछले 5 साल से देश में 'सुपर इमरजेंसी'◾

देश

बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है होलिका दहन

होलिका दहन का बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में मनाने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। होली में जितना महत्व रंगों का है उतना ही होलिका दहन का भी है क्योंकि इस दिन किसी भी बुराई को अग्नि में जलाकर खाक किया जा सकता है। होलिका दहन, रंगों वाली होली के एक दिन पहले यानी फाल्गुन मास की पूर्णिमा को किया जाता है। इसके अगले दिन रंगों से खेलने की परंपरा है जिसे धुलेंडी, धुलंडी नामों से भी जाना जाता है।

\"\"

होलिका की पवित्र आग में लोग जौ की बालें और शरीर पर लगाया हुआ उबटन डालते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से घर में खुशहाली आती है और बुरी नजर का प्रभाव दूर होता है। शास्त्रों के अनुसार होली उत्सव मनाने से एक दिन पहले आग जलाते हैं और पूजा करते हैं। इस अग्नि को बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक माना जाता है। होलिका दहन का एक और महत्व है, माना जाता है कि भुना हुआ धान्य या अनाज से हवन किया जाता है, फिर इसकी राख को लोग अपने माथे पर लगाते हैं ताकि उन पर कोई बुरा साया ना पड़। इस राख को भूमि हरि के रूप से भी जाना जाता है।

होलिका दहन की तैयारी त्योहार से काफी पहले शुरू हो जाती हैं, जिसमें लोग सूखी टहनियां, सूखे पत्ते इकट्ठा करते हैं और फाल्गुन पूर्णिमा की संध्या को अग्नि जलाई जाती है और रक्षोगण के मंत्रो का उच्चारण किया जाता है। होलिका दहन से जुड़ अलग-अलग परंपरा है। कहीं-कहीं होलिका की आग घर ले जाई जाती है। होलिका दहन को लेकर एक कथा प्रचलित है।

\"\"

विष्णु पुराण के अनुसार प्रह्लाद के पिता दैत्यराज हिरण्यकश्यप ने तपस्या कर देवताओं से यह वरदान प्राप्त कर लिया कि वह न तो पृथ्वी पर मरेगा न आकाश में, न दिन में मरेगा न रात में, न घर में मरेगा न बाहर, न अस्त्र से न शस्त्र से, न मानव से मारेगा न पशु से। इस वरदान को प्राप्त करने के बाद वह स्वयं को अमर समझ कर नास्तिक और निरंकुश हो गया। हिरण्यकश्यप अपने बेटे से बहुत घृणा करता था।

उसने प्रह्लाद पर हजारों हमले करवाये फिर भी प्रह्लाद सकुशल रहा। हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद को मारने के लिए अपनी बहन होलिका को भेजा। होलिका को वरदान था कि वह आग से नहीं जलेगी।

\"\"

हिरण्यकश्यप ने होलिका को बोला कि वह प्रह्लाद को लेकर आग में बैठ जाए और उसने ऐसा ही किया। लेकिन, हुआ इसका उल्टा। होलिका प्रह्लाद को लेकर जैसे ही आग में गई वह जल गई और प्रह्लाद बच गए। प्रह्लाद अपने आराध्य विष्णु का नाम जपते हुए आग से बाहर आ गए। इस घटना की याद में लोग होलिका जलाते हैं और उसके अंत की खुशी में होली का पर्व मनाते हैं। बाद में भगवान विष्णु ने लोगों को अत्याचार से निजात दिलाने के लिए नरसिंह अवतार लेकर हिरण्यकश्यप का वध किया।