BREAKING NEWS

आगामी दिल्ली विधानसभा चुनावों को एक और 'स्वतंत्रता संग्राम' मानें : केजरीवाल ◾अयोध्या मामला : मध्यस्थता समिति ने न्यायालय में सीलबंद लिफाफे में रिपोर्ट सौंपी ◾राहुल गांधी ने कहा- भूख सूचकांक में भारत का लुढ़कना मोदी सरकार की घोर विफलता◾श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम से जानी जाएगी जम्मू-कश्मीर की चेनानी-नासरी सुरंग : नितिन गडकरी ◾वोट की खातिर लोकलुभावन वादों से बचें राजनीतिक दल : वेंकैया नायडू ◾गृह मंत्री अमित शाह बोले- 5 साल में घुसपैठियों को देश से बाहर करेंगे◾देवेन्द्र और नरेन्द्र महाराष्ट्र में विकास के दोहरा इंजन हैं : PM मोदी◾TOP 20 NEWS 16 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या विवाद मामले पर सुनवाई पूरी, SC ने फैसला रखा सुरक्षित ◾PM मोदी का कांग्रेस पर वार, बोले-परिवार भक्ति में ही राष्ट्र भक्ति आती है नजर ◾अर्थव्यवस्था को लेकर प्रियंका का केंद्र पर तंज, कहा-विश्व बैंक के बाद IMF ने भी दिखाया सरकार को आईना◾साक्षी महाराज बोले- 6 दिसंबर से शुरू होगा राम मंदिर का निर्माण◾महाराष्ट्र रैली में PM मोदी ने कहा-राष्ट्र निर्माण का आधार हैं सावरकर के संस्कार◾कपिल सिब्बल का PM पर तंज, बोले- मोदी जी, राजनीति पर कम और बच्चों पर ज्यादा ध्यान दीजिए◾आईएनएक्स मीडिया मामला: तिहाड़ जेल में पूछताछ के बाद ED ने पी चिदंबरम को किया गिरफ्तार◾अयोध्या विवाद : CJI गोगोई ने मामले की सुनवाई को आज शाम 5 बजे पूरी करने का दिया निर्देश◾होमगार्ड मामले में मायावती का यूपी सरकार पर वार, बेरोजगारी बढ़ाने का लगाया आरोप◾जम्मू-कश्मीर : अनंतनाग में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए 3 आतंकवादी◾होमगार्ड मामले पर प्रियंका का सवाल- योगी सरकार पर कौन सा फितूर है सवार ◾आईएनएक्स मीडिया: चिदंबरम से पूछताछ करने तिहाड़ पहुंची ED टीम, कार्ति और नलिनी भी मौजूद◾

देश

लोकतंत्र को हर दिन लग रहा है झटका : चिदंबरम

कर्नाटक और गोवा में मचे सियासी संग्राम को लेकर विपक्ष लगतार बीजेपी को जिम्मेदार ठहरा रहा है। राज्य सभा में कर्नाटक और गोवा का मुद्दा उठाते हुए कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने कहा, काश मैं खुश परिस्थितियों में बोल रहा होता। मैं केवल इसलिए दुखी नहीं हूं कि भारत कल क्रिकेट मैच हार गया, मैं दुखी हूं कि लोकतंत्र को हर दिन एक झटका लग रहा है। 

पी चिदंबरम ने कहा कि हमने कर्नाटक और गोवा में जो देखा है वह राजनीतिक उत्थान हो सकता है, लेकिन इसका अर्थव्यवस्था पर बहुत हानिकारक प्रभाव पड़ेगा। बजट पर बोलते हुए पूर्व वित्तमंत्री ने कहा कि बजट दस्तावेज की पहुंच देश के सभी लोगों तक नहीं है और इस वजह से देश को आंकड़े पता चलने चाहिए, क्योंकि उन्होंने सिर्फ टीवी पर बजट भाषण देखा है। 

देश की सेना, महिलाओं, मनरेगा, स्वास्थ्य के लिए क्या बजट तय हुआ है, यह देश की जनता को जानने का हक है। उन्होंने कहा कि सरकार विकास दर के अलग-अलग आंकड़े पेश करती है लेकिन इसकी सच्चाई जानने का हक जनता को है। उन्होंने कहा कि सरकार ढांचागत सुधारों की बात करती है लेकिन हर बदलाव सुधार नहीं है, कोई मामूल बदलाव भी सुधार की श्रेणी में नहीं आ सकता। 

सरकार से पूछता हूं कि वह बजट भाषण में एक भी ढांचागत सुधार दिखा दे. चिदंबरम ने कहा कि पिछले 20-25 साल में सिर्फ 11 बड़े ढांचागत सुधार हुए हैं। उन्होंने कहा कि सिर्फ बोलने से ढांचागत सुधार नहीं हो जाते। उन्होंने कहा की 62,907 खाली पदों के लिए बेरोजगारी की गंभीरता केवल 1 पूर्व द्वारा देखी जा सकती है, 82 लाख लोगों ने आवेदन किया, उनमें से 4,19,137 बीटेक स्नातक थे और 40.751 इंजीनियरिंग में परास्नातक थे। 

यह वह अर्थव्यवस्था है विरासत में मिला। मैं उसके लिए दोष नहीं देता। लेकिन वास्तविकता को ध्यान में रखते हुए, आपको मजबूत होना चाहिए। सरकार के पास एक शानदार जनादेश है, लोकसभा में 303 लोग हैं। डॉ. मनमोहन सिंह और मैंने नोटों का आदान-प्रदान किया है और हम चाहते हैं कि हमारे जीवन में कुछ समय के लिए उन्हें इस तरह का जनादेश मिले।