BREAKING NEWS

LJP में मची घमसाना के बीच चिराग के समर्थकों ने पशुपति सहित 5 सांसदों के पोस्टरों पर कालिख पोती◾गाजियाबाद : बुजुर्ग से मारपीट मामले में पुलिस ने ट्विटर समेत 8 के खिलाफ किया मामला दर्ज◾अंबानी की सुरक्षा में चूक का मामले में NIA ने 2 लोगों को किया गिरफ्तार ◾भाजपा का दावा - पार्टी का कोई भी विधायक रॉय के नक्शेकदम पर नहीं चलेगा◾दिल्ली में कोरोना का कहर जारी ; 228 नए मामले आये सामने,12 मरीजों ने तोड़ा दम ◾16 जनवरी से सात जून के बीच मृत्यु के 488 मामलों को टीकाकरण से नहीं जोड़ा जा सकता - केंद्र सरकार◾CM योगी ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा - सत्ता की लालच में मानवता को शर्मसार कर रहे हैं राहुल◾क्षेत्रीय सुरक्षा बैठक को बुधवार को संबोधित करेंगे राजनाथ सिंह◾पिछले डेढ़ महीने में तृणमूल कांग्रेस के हमलों में भाजपा के 30 से अधिक कार्यकर्ता मारे गए हैं : दिलीप घोष◾दिल्ली के एम्स अस्पताल में 18 जून से शुरू होंगी ओपीडी सेवाएं, ऑनलाइन लेना होगा अप्वाइंटमेंट ◾UP आगामी विधानसभा चुनाव में SP जीतेगी 350 से ज्यादा सीटें, जानिए अखिलेश को वापसी पर क्यों है इतना भरोसा◾अडाणी समूह में विदेशी निवेश करने वाले कोष के खातों के मामले में चुप्पी तोड़े मोदी सरकार: कांग्रेस◾दिल्ली अनलॉक होने के बाद कोरोना के नए मामलों में मामूली बढ़ोतरी, 3,078 सक्रिय मरीज◾मॉनसून में फिर पानी-पानी होगी दिल्ली, 'आप' ने साधा एमसीडी पर निशाना, कहा- सिर्फ 20 प्रतिशत नालों की हुई सफाई ◾यूपी में कोरोना कर्फ्यू में दी जाएगी 2 घंटे की ढील, 21 जून से रेस्टोरेंट व मॉल खोलने की भी अनुमति ◾राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाए गए चिराग, कहा- पार्टी मां जैसी होती है, नहीं करना चाहिए विश्वासघात ◾अकाली दल-बसपा कार्यकर्ताओं ने सीएम अमरिंदर के आवास के बाहर किया प्रदर्शन, पुलिस ने किया बल प्रयोग ◾चीन और पाकिस्तान लगातार बढ़ा रहे है अपने परमाणु हथियारों का जखीरा, जानिये भारत कितना है तैयार ◾ PM मोदी कल विवाटेक सम्मेलन को संबोधित करेंगे, कई यूरोपीय देशों के मंत्री और सांसद होंगे शामिल ◾कोवैक्सीन की लागत निकालने के लिए निजी बाजार में अधिक कीमत रखना जरूरी : भारत बायोटेक◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भारत की चीन को दो टूक - सीमाओं पर शांति कायम रखने के लिए नेताओं की सहमति को ‘छिपाया नहीं जा सकता’

भारत ने चीन से कहा है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर शांति कायम रखने के लिए नेताओं के बीच बनी आम सहमति के महत्व को "छिपाया नहीं जा सकता।’’ इसके साथ ही भारत ने आह्वान किया कि जनमत पर काफी असर डालने वाली "गंभीर घटनाओं" से प्रभावित द्विपक्षीय संबंधों को बहाल करने के लिए पूर्वी लद्दाख से सैनिकों की पूर्ण वापसी होनी चाहिए। 

विश्व मामलों की भारतीय परिषद (आईसीडब्ल्यूए) और चाइनीज पीपुल्स इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेन अफेयर्स (सीपीएफए) के डिजिटल संवाद को 15 अप्रैल को संबोधित करते हुए चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिसरी ने एलएसी पर शांति कायम रखने के महत्व के बारे में दोनों पक्षों के नेताओं के बीच बनी "महत्वपूर्ण सहमति’’ की अनदेखी करने वाले चीनी अधिकारियों से सवाल किया। 

अपने लंबे भाषण में, मिसरी ने कहा कि अन्य देशों के साथ समझौतों के बिना कोई भी देश अपने लिए एजेंडा नहीं तय कर सकता है। वह जाहिर तौर पर चीन के ‘बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव’ (बीआरआई) और उसकी प्रमुख परियोजना चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे का जिक्र कर रहे थे, जिस पर भारत ने चिंता जतायी है क्योंकि यह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से होकर गुजरता है। 

उन्होंने कहा कि एक बहु-ध्रुवीय दुनिया में, कोई भी देश बिना किसी पूर्व समझौते और परामर्श के अपना एजेंडा नहीं तय कर सकता है और यह उम्मीद नहीं कर सकता कि सभी लोग सहमत होंगे। कोई भी देश यह उम्मीद नहीं कर सकता कि सिर्फ उसके हितों से जुड़े मुद्दों पर ही चर्चा हो और अन्य द्वारा उठाए गए मुद्दों व चिंताओं की अनदेखी की जाए। 

अच्छे रिश्ते के संबंध में दोनों देशों के नेताओं के बीच आम सहमति के बारे में उन्होंने कहा, "चीन में दोस्तों द्वारा अक्सर इसका जिक्र किया गया है कि हमें अपने नेताओं के बीच बनी आम सहमति पर कायम रहना चाहिए। मेरा उससे कोई विवाद नहीं है।"

भारतीय राजदूत ने कहा, ‘‘वास्तव में, मैं पूरे दिल से सहमत हूं। साथ ही, मुझे यह रेखांकित करना चाहिए कि अतीत में भी हमारे नेताओं के बीच समान रूप से महत्वपूर्ण सहमति बनी है, उदाहरण के लिए, मैंने शांति कायम रखने के महत्व पर बनी आम सहमति का संदर्भ दिया है, और साथ ही उस सहमति पर कायम रहना भी महत्वपूर्ण है।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘हमने कुछ तबकों में इसे छिपाने और इसे सिर्फ एक मामूली समस्या और दृष्टिकोण के तौर पर चिह्नित करने की प्रवृत्ति देखी है। यह भी अनुचित है क्योंकि यह हमें मौजूदा कठिनाइयों के स्थायी हल से दूर ले जा सकती है और एक गहरे गतिरोध की ओर पहुंचा सकती है।’’