BREAKING NEWS

क्या दिल्ली में फिर बढ़ेगा लॉकडाउन? कोरोना स्थिति की समीक्षा कर CM केजरीवाल कर सकते हैं घोषणा ◾देश में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप बरकरार, लगातार चौथे दिन 4 लाख से अधिक केस की पुष्टि ◾भारत में क्यों हुआ कोरोना महामारी का भयावह विस्फोट, जानिए WHO द्वारा बताई गई यह वजहें ◾कौन बनेगा असम का मुख्यमंत्री ? आज विधायक दल की बैठक में BJP नए नेता की घोषणा करेगी ◾दुनिया में कोरोना मामलों की संख्या 15.72 करोड़ के पार, 32.7 लाख से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾आईएमए ने केंद्र से की मांग- देश में पूर्ण लॉकडाउन की जरूरत, स्वास्थ्य मंत्रालय को ‘जाग’ जाना चाहिए ◾अब तक महाराष्ट्र में कोरोना से 75 हजार से ज्यादा मौत, संक्रमितों की संख्या 50 लाख के पार ◾फड़णवीस ने CM ठाकरे को लिखा पत्र, कहा- बीएमसी कोरोना से हुई मौत के मामलों को छिपा रही है ◾महामारी में कालाबाजारी: दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडर के नाम पर फायर एंस्टीग्यूशर बेचने का खेल◾कोरोना महामारी के संकट में प्रधानमंत्री मोदी की यूरोपीय संघ से अपील, वैक्सीन के पेटेंट पर दें छूट ◾वैक्सीन की भारी मांग को पूरा करने के लिए प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, कच्चे माल की आपूर्ति जरूरी : भारत बायोटेक◾महामारी के प्रकोप के चलते केरल और तमिलनाडु में लगा संपूर्ण लॉकडाउन, पूर्वोत्तर के राज्यों ने भी कड़े किए प्रतिबंध◾केंद्र सरकार का बड़ा फैसला : अस्पताल में भर्ती होने के लिए कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट अनिवार्य नहीं ◾क्या बंगाल BJP नेतृत्व में पड़ी दरार, 77 विधायकों और 18 सांसदों के TMC से संपर्क में होने का दावा ◾PM मोदी विशेष आमंत्रित के रूप में भारत-यूरोपीय परिषद की बैठक में हुए शामिल, स्वास्थ्य संबंधी तैयारी पर हुई चर्चा ◾पप्पू यादव ने वीडियो जारी कर किया दावा - बिहार में मरीजों की बजाय बालू ढो रही है BJP सांसद की एंबुलेंस◾बेहतर ऑक्सीजन आवंटन के लिए सुप्रीम कोर्ट ने नेशनल टास्क फोर्स का गठन किया, जानिये कौन-कौन है शामिल ◾कांग्रेस की अपील : देश में संपूर्ण लॉकडाउन लगाए केंद्र सरकार और गरीबों की करे आर्थिक मदद◾महाराष्ट्र में कहां हो रही है चूक, प्रतिबंधों के बावजूद औसतन 50,000 से अधिक दैनिक मामले आ रहे◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बताया, देश में ऑक्सीजन सपोर्ट और वेंटिलेटर पर कितने मरीज◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने CAA पर PM मोदी और अमित शाह को बहस की चुनौती दी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने गृह मंत्री अमित शाह के एक बयान पर पलटवार करते हुए मंगलवार को कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शाह को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) पर बहस की चुनौती देते हैं। दरअसल, शाह ने लखनऊ की एक सभा में कहा कि वह राहुल गांधी, अखिलेश यादव, ममता बनर्जी और मायावती को सीएए पर बहस की चुनौती देते हैं। 

कपिल सिब्बल ने प्रधानमंत्री और गृह मंत्री पर सीएए, एनआरसी और एनपीआर के संदर्भ में नौ झूठ बोलने का आरोप लगाया और सवाल किया कि देश की जनता इन पर कैसे विश्वास करेगी। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ''गृह मंत्री ने कहा कि राहुल जी और अखिलेश जी उनके साथ बहस करें। मैं चुनौती देता हूं कि प्रधानमंत्री और गृह मंत्री मेरे साथ बहस करें। समय और जगह का चुनाव वो कर सकते हैं।'' 

एनपीआर में सूचना का खुलासा करना स्वैच्छिक है : जी किशन रेड्डी

कपिल सिब्बल ने आरोप लगाया, ''प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के सीएए को लेकर नौ झूठ सामने रख रहा हूं। पहला झूठ यह कि यह कानून भेदभावपूर्ण नहीं है। लगता है कि इन्होंने नागरिकता कानून नहीं पढ़ा है। पहली बार हमारे देश मे नागरिकता धर्म के आधार पर दी जा रही है।'' उन्होंने कहा, '' दूसरा झूठ है कि सीएए का एनआरसी से कोई ताल्लुक नहीं है। अमित शाह ने कहा कि पहले यह कानून आएगा और फिर एनआरसी लाया जाएगा।'' 

कपिल सिब्बल ने दावा किया, '' तीसरा झूठ यह है कि मोदी ने कहा कि एनआरसी पर कोई चर्चा नहीं हुई, जबकि राष्ट्रपति के अभिभाषण में कहा गया है कि एनआरसी लागू की जाएगी। चौथा झूठ यह कि एनआरसी प्रक्रिया अधिसूचित नहीं है, जबकि यह प्रावधान पहले ही 2003 के कानून में है।" उन्होंने कहा, '' पांचवां झूठ यह कि एनआरसी की प्रक्रिया आरंभ नहीं हुई है। जबकि सरकार ने पिछले साल कहा कि एनपीआर के तहत एनआरसी के लिए डेटा एकत्र किए जाएंगे। 

पेरियार पर की गई टिप्पणी के लिए माफी नहीं मांगूंगा : रजनीकांत

छठा झूठ यह है कि एनपीआर का एनआरसी से कोई संबंध नहीं है, जबकि गृह मंत्रालय की रिपोर्ट में कहा गया है कि एनपीआर एनआरसी का पहला कदम है। एनपीआर के बिना एनआरसी नहीं हो सकता।" कांग्रेस नेता ने कहा, '' सातवां झूठ यह कि किसी भी भारतीय को डरने की जरूरत नहीं है। असम की एनआरसी से पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के परिवार का नाम गायब है। कारगिल में भाग लेने वाले सैनिक सनाउल्लाह का नाम भी एनआरसी में नहीं आएगा।'' उन्होंने कहा कि गरीब अपनी नागरिकता कैसे साबित करेंगे, क्योंकि उनके पास कागजात नहीं है। 

सिब्बल ने कहा, ''आठवां झूठ यह कि प्रधानमंत्री ने कहा कि कोई डिटेंशन सेंटर नहीं है, जबकि हकीकत यह है कि छह डिटेंशन सेंटर पहले से मौजूद हैं। प्रधानमंत्री और गृह मंत्री पर लोग कैसे विश्वास करेंगे?'' उन्होंने कहा, '' नौवां झूठ यह कि प्रदर्शनकारियों पर कोई बल प्रयोग नहीं हुआ, जबकि उत्तर प्रदेश में 28 लोग मारे गए। यह कैसे हुआ?"