BREAKING NEWS

BJP ने कांग्रेस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान किसानों को उकसाने का आरोप लगाया ◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : योगेन्द्र यादव, टिकैत, पाटकर सहित 37 किसान नेताओं के खिलाफ नामजद प्राथमिकी ◾राजनाथ ने अमेरिका के नये रक्षा मंत्री ऑस्टिन से क्षेत्रीय, वैश्विक मुद्दों पर बात की ◾बंगाल विधानसभा का दो दिवसीय सत्र शुरू, कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव लाएगी तृणमूल ◾हिंसा में शामिल थे किसान नेता, शर्तों को नहीं मानकर किया विश्वासघात : पुलिस कमिश्नर◾केंद्र सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस,1 फरवरी से खुलेंगे सिनेमा हॉल और स्वीमिंग पूल◾आप नेता राघव चड्डा ने हिंसा के मुद्दे पर बीजेपी को घेरा, लगाए कई गंभीर आरोप◾दिल्ली में हिंसा के लिए गृह मंत्री जिम्मेदार, कांग्रेस ने कहा- केवल 30 से 40 ट्रैक्टर लेकर उपद्रवी लाल किले में कैसे घुस पाए?◾हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जानिये नए ट्रैफिक नियम एक क्लिक में, वर्ना चुकानी पड़ सकती भारी कीमत

हालिया सर्वे रिपोर्ट्स के अनुसार बेहद चौंकाने वाले खुलासा किया गया है जिसमे पाया गया है की किस तरह भारत में लोग ट्रैफिक नियमों की धज्जियां उड़ाते है। आंकड़े बताते है सिर्फ दिल्ली और मुंबई जैसे बड़े महानगरों में लोगों ने इस वर्ष में अबतक करीब 20 करोड़ से ऊपर का जुरमाना भरा है वो भी ट्रैफिक नियमों का पालन न करने की वजह से। हर साल भारत में करीब 1.5 लाख मौतें सड़क हादसों में होती है, और घायलों के कोई स्पष्ट आंकडें नहीं है। ट्रैफिक पुलिस के अधिकारियों का कहना है उनके पास पर्याप्त बल न होने की वजह से उनके लिए हर जगह ट्रैफिक पुलिस दस्ते की तैनाती करना मुश्किल है। साथ ही उन्होंने कहा भारत में लोगों को ट्रैफिक रूल्स तोड़ने में न तो डर लगता है और पकडे जाने पर जुरमाना भरने में भी दिक्कत नहीं है। जरूरी है नियम इतने सख्त किये जाए की लोग ट्रैफिक नियम तोड़ते हुए सोचे। भारत में गलत दिशा में गाडी चलाने से सबसे ज्यादा हादसे होते है और गलत दिशा में गाडी चलते हुए पकडे जाने पर पहली बार 1000 रूपए का चालान है, दूसरी बार 2000 रूपए का पर ये शायद लोगों के लिए ये नाकाफी है। भारत को भी ट्रैफिक व्यवस्था सुधरने के लिए अब उच्च तकनीक अपनाने की जरुरत है पर इसमें अभी काफी समय लग सकता है। इसलिए हम अपने नियम कड़े कर सकते है जैसा की विदेशों में होता है। आपको बता दें अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों में गलत दिशा में गाडी चलते हुए पकडे जाने पर आपका लाइसेंस जब्त किया जा सकता है और साथ ही भारी जुरमाना और कैद का भी प्रावधान है। लोगों के लिए ये समझना बहुत जरूरी है की नियम उनकी सुरक्षा के लिए है और जरा सी जल्दबाजी उनके साथ-साथ बाकी लोगों के लिए भी खतरनाक साबित हो जाती है। ट्रैफिक पुलिस सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में अपीअल करने की सोच रही है जिसमे ट्रैफिक नियमों को बदला जाए और कड़े कानून बनाये जाए तभी इस देश की ट्रैफिक व्यवस्था सुधर सकती है।