BREAKING NEWS

बिहार चुनाव में CM नीतीश का आरक्षण पर बड़ा दांव, आबादी के हिसाब से मिले लोगों को रिजर्वेशन ◾दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप तेज, वैश्विक स्तर पर संक्रमितों का आंकड़ा साढ़े 4 करोड़ के करीब ◾आज का राशिफल ( 30 अक्टूबर 2020 )◾आतंकवाद के खिलाफ जंग में भारत फ्रांस के साथ : PM मोदी◾PM मोदी आज से दो दिन के गुजरात दौरे पर, देश की पहली सी-प्लेन सेवा का करेंगे उद्घाटन◾CSK vs KKR ( IPL 2020 ) : रुतुराज और जडेजा ने चेन्नई सुपरकिंग्स को दिलाई जीत, मुंबई प्ले आफ में◾जम्मू कश्मीर के कुलगाम में आतंकी हमला, भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या◾कांग्रेस 31 अक्टूबर को मनाएगी ‘किसान अधिकार दिवस’, जिला मुख्यालयों पर देगी धरना◾नीतीश की दोहरी चुनौती : NDA के भीतर पार्टी को शीर्ष स्थान पर रखना, सत्ता बरकरार रखना◾एस जयशंकर ने यूनान के विदेश मंत्री डेंडियास से वार्ता की◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾बिहार में NDA गठबंधन की मजबूत सरकार बनेगी : रविशंकर प्रसाद ◾पाकिस्तान का कबूलनामा, मंत्री फवाद चौधरी ने कहा- पुलवामा हमला इमरान सरकार की बड़ी उपलब्धि◾राहुल को घेरे जाने पर कांग्रेस का पलटवार - बिहार चुनाव में हार तय देखकर BJP को याद आया पाकिस्तान◾सपा का बसपा पर जोरदार हमला , कहा - मायावती ने खुद ही खोली अपनी पोल◾केशुभाई पटेल के निधन पर राष्ट्रपति कोविंद ने जताया शोक, कहा - देश ने एक महान नेता खोया◾बंबई उच्च न्यायालय ने केंद्र से पूछा - क्या 'अत्यधिक' मीडिया रिपोर्टिंग से न्याय बाधित होता है ? ◾दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण रोकने के लिए नया कानून लागू - 1 करोड़ का जुर्माना, 5 साल की जेल◾फ्रांस: नीस के गिरिजाघर में आतंकी ने किया चाकू से हमला, कम से कम दो लोगों की ली जान◾मोदी कैबिनेट ने लिए 3 बड़े अहम फैसले, खाद्यान्नों की पैकिंग जूट की बोरी में करना हुआ अनिवार्य◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मद्रास हाईकोर्ट के वकीलों ने विजया के तबादले पर पुनर्विचार की अपील की

मद्रास हाई कोर्ट के वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने न्यायमूर्ति विजया ताहिलरामनी के मेघालय हाईकोर्ट में तबादले पर पुनर्विचार करने की अपील की है। वकीलों के ओर से कहा गया है कि तबादले शक्तिशाली कॉलेजियम के हाथों में एक हथियार बन गए हैं। 

मद्रास हाईकोर्ट के वकीलों ने प्रधान न्यायाधीश और सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम के सदस्यों को एक अभिवेदन भी भेजा है, जिसमें कहा गया है कि इस तरह मनमाने ढंग से किए गए तबादले न्यायपालिका की स्वतंत्रता और न्यायाधीशों के विश्वास को कम करते हैं। 

वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट के एक पूर्व न्यायाधीश खालिद की एक पंक्ति का भी उल्लेख किया, जिन्होंने आपातकाल के काले दिनों की याद दिलाते हुए एक बार कहा था कि तबादला कैसे बर्खास्तगी से भी अधिक खतरनाक हथियार हो सकता है। 

वकीलों ने कहा, 'कॉलेजियम के कामकाज की शैली यह बताती है कि हाईकोर्ट कॉलेजियम के अधीनस्थ है। यह हाईकोर्ट के महत्व को प्रभावित करता है और संवैधानिक तौर पर हाईकोर्ट को दी गई प्रमुखता की स्थिति को भी नष्ट करता है।' 

वकीलों ने पत्र में एसपी गुप्ता बनाम भारत संघ में देश के सर्वोच्च न्यायालय की एक संविधान पीठ के अवलोकन का उल्लेख भी किया। इसमें कहा गया है कि तबादले की शक्ति एक अत्यधिक खतरनाक शक्ति है, जिसमें न्यायाधीश को बड़ी कठिनाई होती है और उसे चोट पहुंचती है। वकीलों ने चयनात्मक आधार पर किए गए तबादलों को न्यायाधीश की प्रतिष्ठा पर एक कलंक बताया। 

पत्र में कहा गया, 'ये शब्द मद्रास हाई कोर्ट की मुख्य न्यायाधीश विजया ताहिलरामनी के तबादले में सच दिखाई देते हैं, जो कि बेवजह एक चार्टर्ड हाईकोर्ट से मेघालय के हाई कोर्ट में स्थानांतरित की गई हैं। जबकि वह पूरे भारत के तीन वरिष्ठ न्यायधीशों में शामिल हैं।' 

न्यायमूर्ति विजया ताहिलरामनी चार अगस्त 2018 को मद्रास हाई कोर्ट की मुख्य न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत होने से पहले दो बार बॉम्बे हाई कोर्ट की कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश रह चुकी हैं। सितंबर 2020 में सेवानिवृत्ति से पहले उनकी सिर्फ एक साल की सेवा बाकी बची हुई है। 

सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने मद्रास हाई कोर्ट की मुख्य न्यायाधीश वी.के. ताहिलरामनी को मेघालय हाईकोर्ट जबकि मेघालय हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ए.के. मित्तल को मद्रास में स्थानांतरित करने का फैसला लिया है। 

वकीलों का कहना है कहा कि विजया ताहिलरमानी को सबसे छोटे हाईकोर्टो में से एक में स्थानांतरित करना सजा और अपमान से कम नहीं है। 

इस बीच, विजया ने तबादले के विरोध में छुट्टी पर जाने का फैसला किया है। उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अपना इस्तीफा सौंप दिया और इसकी एक प्रति भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को भी भेजी है। 

विजया ताहिलरमानी के तबादले के खिलाफ मद्रास हाईकोर्ट बार काउंसिल के वकीलों ने सोमवार को भी धरना दिया था।