BREAKING NEWS

विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोले दिग्विजय-जिसका शक था वह हो गया◾विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोले अखिलेश- कार नहीं पलटी बल्कि सरकार पलटने से बचाई गयी◾देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 8 लाख के करीब, अब तक 21604 लोगों ने गंवाई जान ◾STF की गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे ने की भागने की कोशिश, एनकाउंटर में मारा गया हिस्ट्रीशीटर ◾भारत-चीन सीमा विवाद: गलवान घाटी पर चीन के दावे को भारत ने एक बार फिर ठुकराया, शुक्रवार को हो सकती है वार्ता◾यूपी में कल रात 10 बजे से 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक फिर से लॉकडाउन, आवश्यक सेवाओं पर कोई रोक नहीं ◾दिल्‍ली में 24 घंटे में कोरोना के 2187 नए मामले, 45 की मौत, 105 इलाके सील◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, 24 घंटे 219 लोगों की मौत, 6875 नए मामले◾उप्र एसटीएफ ने उज्जैन से गिरफ्तार विकास दुबे को अपनी हिरासत में लिया, कानपुर लेकर आ रही पुलिस◾वार्ता के जरिए एलएसी पर अमन-चैन का भरोसा, जारी रहेगी सैन्य और राजनयिक बातचीत : विदेश मंत्रालय◾दिल्ली में कोरोना की स्थिति में सुधार, रिकवरी रेट 72% से अधिक : गृह मंत्रालय◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले-देश में नहीं हुआ कोरोना वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन◾ इंडिया ग्लोबल वीक में बोले PM मोदी-वैश्विक पुनरुत्थान की कहानी में भारत की होगी अग्रणी भूमिका◾कुख्यात अपराधी विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद मां ने कहा- हर वर्ष जाते है महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए ◾मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे के बारे में शुरुआत से लेकर गिफ्तारी तक का जानिए पूरा घटनाक्रम◾काशीवासियों से बोले PM मोदी- जो शहर दुनिया को गति देता हो, उसके आगे कोरोना क्या चीज है◾ कांग्रेस ने PM मोदी से किया सवाल, पूछा- क्या गलवान घाटी पर भारत का दावा कमजोर किया जा रहा?◾उज्जैन पुलिस की पीठ थपथपाते हुए बोले CM शिवराज-जल्दी UP पुलिस को सौंपा जाएगा विकास दुबे◾चित्रकूट की खदानों में बच्चियों के यौन शोषण पर बोले राहुल-क्या यही सपनों का भारत है◾देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमितों के 24,879 नए मामले और 487 लोगों ने गंवाई जान ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मद्रास हाईकोर्ट के वकीलों ने विजया के तबादले पर पुनर्विचार की अपील की

मद्रास हाई कोर्ट के वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने न्यायमूर्ति विजया ताहिलरामनी के मेघालय हाईकोर्ट में तबादले पर पुनर्विचार करने की अपील की है। वकीलों के ओर से कहा गया है कि तबादले शक्तिशाली कॉलेजियम के हाथों में एक हथियार बन गए हैं। 

मद्रास हाईकोर्ट के वकीलों ने प्रधान न्यायाधीश और सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम के सदस्यों को एक अभिवेदन भी भेजा है, जिसमें कहा गया है कि इस तरह मनमाने ढंग से किए गए तबादले न्यायपालिका की स्वतंत्रता और न्यायाधीशों के विश्वास को कम करते हैं। 

वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट के एक पूर्व न्यायाधीश खालिद की एक पंक्ति का भी उल्लेख किया, जिन्होंने आपातकाल के काले दिनों की याद दिलाते हुए एक बार कहा था कि तबादला कैसे बर्खास्तगी से भी अधिक खतरनाक हथियार हो सकता है। 

वकीलों ने कहा, 'कॉलेजियम के कामकाज की शैली यह बताती है कि हाईकोर्ट कॉलेजियम के अधीनस्थ है। यह हाईकोर्ट के महत्व को प्रभावित करता है और संवैधानिक तौर पर हाईकोर्ट को दी गई प्रमुखता की स्थिति को भी नष्ट करता है।' 

वकीलों ने पत्र में एसपी गुप्ता बनाम भारत संघ में देश के सर्वोच्च न्यायालय की एक संविधान पीठ के अवलोकन का उल्लेख भी किया। इसमें कहा गया है कि तबादले की शक्ति एक अत्यधिक खतरनाक शक्ति है, जिसमें न्यायाधीश को बड़ी कठिनाई होती है और उसे चोट पहुंचती है। वकीलों ने चयनात्मक आधार पर किए गए तबादलों को न्यायाधीश की प्रतिष्ठा पर एक कलंक बताया। 

पत्र में कहा गया, 'ये शब्द मद्रास हाई कोर्ट की मुख्य न्यायाधीश विजया ताहिलरामनी के तबादले में सच दिखाई देते हैं, जो कि बेवजह एक चार्टर्ड हाईकोर्ट से मेघालय के हाई कोर्ट में स्थानांतरित की गई हैं। जबकि वह पूरे भारत के तीन वरिष्ठ न्यायधीशों में शामिल हैं।' 

न्यायमूर्ति विजया ताहिलरामनी चार अगस्त 2018 को मद्रास हाई कोर्ट की मुख्य न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत होने से पहले दो बार बॉम्बे हाई कोर्ट की कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश रह चुकी हैं। सितंबर 2020 में सेवानिवृत्ति से पहले उनकी सिर्फ एक साल की सेवा बाकी बची हुई है। 

सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने मद्रास हाई कोर्ट की मुख्य न्यायाधीश वी.के. ताहिलरामनी को मेघालय हाईकोर्ट जबकि मेघालय हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ए.के. मित्तल को मद्रास में स्थानांतरित करने का फैसला लिया है। 

वकीलों का कहना है कहा कि विजया ताहिलरमानी को सबसे छोटे हाईकोर्टो में से एक में स्थानांतरित करना सजा और अपमान से कम नहीं है। 

इस बीच, विजया ने तबादले के विरोध में छुट्टी पर जाने का फैसला किया है। उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अपना इस्तीफा सौंप दिया और इसकी एक प्रति भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को भी भेजी है। 

विजया ताहिलरमानी के तबादले के खिलाफ मद्रास हाईकोर्ट बार काउंसिल के वकीलों ने सोमवार को भी धरना दिया था।