BREAKING NEWS

IPL 2020 : राजस्थान रायल्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को 4 विकेट से हराया ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम बरकरार, बीते 24 घंटे में 18,056 नए केस, 380 की मौत ◾IPL 2020 RR vs KXIP : पंजाब की तूफानी बल्लेबाजी, राजस्थान को दिया 224 रनों का लक्ष्य◾मप्र उपचुनाव : कांग्रेस ने 9 और उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट की जारी, भाजपा के तीन नेताओं को मिला टिकट◾कोविड-19 : सत्येंद्र जैन ने कहा- पिछले 10 दिनों में दिल्ली में मृत्यु दर एक फीसदी से नीचे रही◾संसद से पारित तीनों कृषि संबंधी विधेयकों को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी◾IPL 2020 RR vs KXIP : राजस्थान ने जीता टॉस, पंजाब को दिया बल्लेबाजी का न्योता◾फिल्मकार अनुराग कश्यप की गिरफ्तारी में देरी होने पर पायल घोष ने उठाए सवाल ◾बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय जेडीयू में हुए शामिल, कहा- नहीं समझता राजनीति◾विधानसभा चुनाव के लिए बिहार में तैनात होंगे 30,000 जवान, गृह मंत्रालय ने दिए निर्देश◾मतदाताओं को लुभाने की कवायद में जुटे राजनीतिक दल, तेजस्वी ने 10 लाख युवाओं को नौकरी देने का किया वादा◾पूर्व सैन्य अधिकारी होने के बावजूद एक दक्ष नेता के तौर पर जसवंत ने हमेशा दिखाई राजनीतिक ताकत◾चीन को जवाब देने के लिए भारत पूरी तरह तैयार, लद्दाख में तैनात किए T-90 और T-72 टैंक◾मन की बात : PM मोदी बोले-देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, गांव आत्मनिर्भर भारत का आधार◾जिस गठबंधन में शिवसेना और अकाली दल नहीं, मैं उसको NDA नहीं मानता : संजय राउत◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के करीब, पिछले 24 घंटे में 1124 लोगों की मौत◾राहुल गांधी का PM मोदी पर तंज- काश, कोविड एक्सेस स्ट्रैटेजी ही मन की बात होती◾क्या ड्रग चैट्स का होगा खुलासा, एनसीबी ने दीपिका, सारा और श्रद्धा के फोन किए जब्त ◾पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, पीएम मोदी ने शोक व्यक्त किया◾पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती कोरोना से संक्रमित, खुद को किया क्वारनटीन◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

ममता बनर्जी ने विपक्षी पार्टियों के मुख्यमंत्रियों और नेताओं को लिखा पत्र, एकजुट रहने और ‘‘देश बचाने’’ के लिए किया अनुरोध

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा कि केन्द्र में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार से भारत में लोकतंत्र खतरे में है। बनर्जी ने विपक्षी पार्टियों के मुख्यमंत्रियों और वरिष्ठ नेताओं को पत्र लिखकर उनसे एकजुट रहने और ‘‘देश बचाने’’ के लिए योजना बनाने का अनुरोध किया। 

उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून और प्रस्तावित एनआरसी के खिलाफ देश में प्रदर्शनों के बाद उपजी मौजूदा स्थिति को ‘‘गंभीर’’ बताया और सभी गैर-भाजपा दलों से एक साथ आने और केन्द्र सरकार के ‘‘दमनकारी शासन’ के खिलाफ खड़े होने का आग्रह किया। सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के सूत्रों ने बताया कि पत्र कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राकांपा प्रमुख शरद पवार, नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला समेत कई विपक्षी नेताओं को भेजे गये है। 

बनर्जी ने पत्र में कहा, ‘‘आज, मैं अपने मन में गंभीर चिंताओं के साथ आपको यह पत्र लिख रही हूं। इस देश के नागरिक जाति और पंथ की परवाह किए बिना, विशेषकर महिला और बच्चे, किसान, श्रमिक और अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, ओबीसी और अल्पसंख्यक समुदायों के सदस्य संशोधित नागरिकता कानून और प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी एनआरसी को लेकर भय और दहशत की चपेट में हैं। स्थिति बहुत गंभीर है।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘आज, पहले से कहीं ज्यादा, हमें एकजुट तरीके से इस दमनकारी शासन के खिलाफ खड़े होने की जरूरत हैं। मैं ईमानदारी से अपने सभी वरिष्ठ नेताओं और सभी राजनीतिक संगठनों से अनुरोध करती हूं कि वे इसके खिलाफ एकजुट तरीके से खड़े हों। आइए हम केंद्र के इन नापाक प्रयासों के खिलाफ शांतिपूर्ण और सार्थक विरोध करें और भारतीय लोकतांत्रिक की आत्मा को बचाएं।’’ 

जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में पुलिस कार्रवाई का जिक्र करते हुए बनर्जी ने कहा, ‘‘युवा और छात्र केंद्र की बर्बरता का सामना कर रहे हैं और वे इसके खिलाफ उठ खड़े हुए है। पूरा विश्व हमें देख रहा है।’’ मीडिया को उपलब्ध कराये गये पत्र में कहा गया है, ‘‘आइए हम सभी मिलकर अपने लोकतंत्र की रक्षा और उसे बचाने के लिए एक ठोस योजना तैयार करें।’’ उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों द्वारा पहले से ही विरोध प्रदर्शन किये जा रहे है। 

पत्र में कहा गया है, ‘‘मैं आप सभी से अपील करती हूं कि इस समय हम सब मिलकर काम करें। विपक्षी एकता एक मंच पर होनी चाहिए। सत्तारूढ़ पार्टी राज्य की मशीनरियों और कठोर बल का इस्तेमाल करके इस लोकतांत्रिक व्यवस्था को ध्वस्त कर रही है।’’ बनर्जी ने कहा कि विपक्ष के नेताओं को अशांत क्षेत्रों में जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है। पत्र में कहा गया है कि तृणमूल कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल को उस समय लखनऊ हवाई अड्डे पर रोक दिया गया जब वे उत्तर प्रदेश जाने का प्रयास कर रहे थे।