BREAKING NEWS

उत्तर प्रदेश : फतेहपुर में दोहराया गया 'उन्नाव कांड', बलात्कार के बाद पीड़िता को जिंदा जलाया ◾साबित हो गया कि मोदी ने झूठे वादे किए थे : मनमोहन सिंह◾जम्मू-कश्मीर : फारुक अब्दुल्ला की हिरासत अवधि 3 महीने और बढ़ी◾कानपुर : नमामि गंगे की बैठक के बाद PM मोदी ने नाव पर बैठकर गंगा की सफाई का लिया जायजा ◾झारखंड : अमित शाह बोले- CAB कानून के खिलाफ कांग्रेस भड़का रही है हिंसा◾मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं, कभी माफी नहीं मांगने वाला : राहुल गांधी◾'भारत बचाओ रैली' में बोलीं सोनिया गांधी- भारत की आत्मा को तार-तार कर देगा नागरिकता संशोधन कानून◾संविधान और देश को विभाजन से बचाने के लिए पूरा देश आवाज उठाए: प्रियंका गांधी ◾'भारत बचाओ' रैली से पहले राहुल गांधी का ट्वीट, कहा- BJP सरकार की तानाशाही के खिलाफ बोलूंगा◾पीएम मोदी निर्मल गंगा के दर्शन करने पहुंचे कानपुर, एयरपोर्ट पर CM योगी ने किया स्वागत ◾केजरीवाल को मिला प्रशांत किशोर की कंपनी आई-पैक का साथ, विधानसभा चुनाव में AAP के लिए करेंगे काम◾पति ने मेट्रो के आगे कूदकर की आत्महत्या, पत्नी ने बेटी को फांसी लगाने के बाद की खुदकुशी ◾CAB : असम के गुवाहाटी में सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक कर्फ्यू में दी गई ढील◾दिल्ली के मुंडका में लकड़ी के गोदाम में लगी भीषण आग, दमकल की 20 गाड़ियां मौके पर मौजूद◾भारत में CAB से पड़ने वाले असर को लेकर चिंतित है अमेरिका◾आज कानपुर दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अविरल-निर्मल गंगा पर करेंगे मंथन◾एनएसएफ ने CAB विधेयक के खिलाफ आज छह घंटे का बंद का आह्वान किया ◾बजट 1 फरवरी को हो सकता है पेश : सूत्र ◾BJP की महिला सांसदों ने चुनाव आयोग से की राहुल गांधी की शिकायत ◾दिल्ली में अभी चुनाव हुए तो भाजपा को मिलेंगी 42 सीटें◾

देश

जापान पहुंचे PM मोदी, भारतीय समुदाय ने किया गर्मजोशी से स्वागत

 modi120054

ओसाका : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जी-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिये यहां पहुंचने पर जापान में भारतीय समुदाय ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया। 

मोदी ने ट्वीट किया, “जी-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने ओसाका पहुंचा। शानदार स्वागत के लिये भारतीय समुदाय का शुक्रगुजार हूं।” 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह छठा जी-20 शिखर सम्मेलन है। जापान के ओसाका शहर में 28-29 जून को इस शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। आने वाले दिनों में जी-20 शिखर सम्मेलन, द्विपक्षीय और बहुपक्षीय वार्ताएं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इंतजार कर रहे हैं। वह वैश्विक महत्व के कई मुद्दों पर जोर देने के साथ ही भारत का नजरिया पेश करेंगे।” ओसाका में 28-29 जून को हो रही जी-20 शिखर वार्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छठी शिखर वार्ता है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर कहा, “जी-20 शिखर सम्मेलन में शामिल होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ओसाका के कंसाई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पहुंचे। अगले तीन दिनों तक, वैश्विक मंच पर भारत के नजरिये को रखने के लिये प्रधानमंत्री कई द्विपक्षीय और बहुपक्षीय चर्चाओं का हिस्सा होंगे।” जापान रवाना होने से पहले अपने बयान में उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण, कृत्रिम बुद्धिमता और आतंकवाद जैसी चुनौतियों से निपटने के लिये साझा प्रयास एजेंडे में प्रमुख होगा। 

मोदी ने कहा, ‘‘शिखर सम्मेलन सुधरे हुए बहुपक्षवाद के लिये हमारे मजबूत समर्थन को फिर से दोहराने और सुदृढ़ करने का महत्वपूर्ण अवसर देगा, जो आज की तेजी से बदलती दुनिया में नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को संरक्षित रखने में बेहद अहम है।’’ उन्होंने कहा कि यह शिखर सम्मेलन बीते पांच सालों में भारत के विकास के मजबूत अनुभवों को साझा करने का भी एक मंच होगा, क्योंकि इसी के आधार पर भारत के लोगों ने इस सरकार को अगले पांच सालों तक प्रगति और स्थायित्व के पथ पर काम जारी रखने के लिये प्रचंड बहुमत दिया। 

पाकिस्तान समेत एशिया-प्रशांत समूह के सभी देशों ने किया भारत का समर्थन

प्रधानमंत्री ने कहा कि ओसाका शिखर सम्मेलन भारत द्वारा 2022 में नयी दिल्ली में जी-20 शिखर सम्मेलन के आयोजन की दिशा में अहम साबित होगा। उन्होंने कहा, ‘‘2022 में हम अपनी आजादी के 75वें वर्ष पर ‘नए भारत’ से उनकी भेंट कराएंगे।’’ मोदी ने कहा कि वह इस सम्मेलन के दौरान दुनिया के प्रमुख नेताओं के साथ भी महत्वपूर्ण द्विपक्षीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करेंगे। 

उन्होंने कहा, ‘‘मैं कार्यक्रम से इतर रूस, भारत और चीन (आरआईसी) के अगले अनौपचारिक शिखर सम्मेलन की मेजबानी के लिये उत्सुक हूं और इसके साथ ही ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण-अफ्रीका) तथा ‘जय’ (जापान, अमेरिका और भारत) की अगली अनौपचारिक बैठक में भी हिस्सा लूंगा।’’ ट्रंप के अलावा प्रधानमंत्री मोदी चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग, रूसी राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन और अन्य नेताओं के साथ भी जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान मिलेंगे।