राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार ने मोदी सरकार की आलोचना करते हुए कहा है कि इस सरकार के पास उद्योग और कृषि विकास की कोई नीति नहीं है और पिछले पांच वर्ष में देश में बेरोजगारी तेजी से बढ़ है। शरद पवार ने कल देर रात मुंबई के निकट भयंदर में ठाणे लोकसभा सीट से कांग्रेस-राकांपा उम्मीदवार आनंद परांजपे के पक्ष में चुनाव प्रचार कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र उद्योग के क्षेत्र में एक अग्रणी राज्य है लेकिन इसे बढ़ने के लिए कोई प्रयास नहीं किये जा रहे हैं। इस कारण बेरोजगारी बढ़ है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस सुस्त रवैये के कारण उद्योगपतियों ने राज्य में उद्योगों में निवेश नहीं किया। उनके नेतृत्व में जब राज्य में सरकार थी तब किसानों का 70 हजार करोड़ रुपये का ऋण माफ किया था।

बंगाल में बवाल : मुर्शिदाबाद में मतदान के दौरान एक व्यक्ति की मौत

शरद पवार ने कहा कि मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान 11990 किसानों ने आत्महत्या कर ली लेकिन पीएम मोदी किसानों के आत्महत्या, पानी की स्मस्या, महंगाई और बेरोजगारी जैसे मुद्दों पर कुछ नहीं बोलते। इसके अलावा प्रधानमंत्री राफेल मामले पर भी कुछ नहीं बोलते।

पीएम मोदी के शासन काल में भारतीय रिजर्व बैंक, स्टेट बैंक आफ इंडिया और उच्चतम न्यायालय जैसी संस्थाओं पर हमले हुए और अब डाक्टर बाबासाहब अंबेडकर के संविधान पर हमले का प्रयास हो रहा है लेकिन संविधान की रक्षा के लिए हम तैयार हैं। उन्होंने मतदाताओं से अपील करते हुए कहा कि गांधी और नेहरू की विचार धारा वाली पार्टी को सत्ता में लाएं। भारतीय जनता पार्टी-शिव सेना सांप्रदायिक विचार धारा की पार्टी हैं।