BREAKING NEWS

नरेंद्र मोदी और आरएसएस को नहीं करने देंगे तमिल संस्कृति का अपमान : राहुल गांधी◾Corona Vaccine Registration : Co-Win पोर्टल पर आज शुरू हो गया रजिस्ट्रेशन, जानें पूरी प्रक्रिया◾तमिलनाडु में बोले राहुल गांधी- राज्य में ऐसा व्यक्ति CM जो तमिल संस्कृति का प्रतिनिधित्व करता हो◾किराएदार सिपाही के पति ने मकान मालिक के परिवार को जलाया जिंदा, 2 मासूमों की मौत ◾दो दिवसीय असम दौरे पर पहुंची कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी, कामाख्या मंदिर में पूजा से की शुरुआत ◾देश की एक बड़ी जमीन मोटे अनाज के लिए बहुत उपयोगी, किसानों के लिए ये चीज प्राथमिक जरूरत है : मोदी◾महीने के पहले दिन आम आदमी को एक और झटका, LPG सिलेंडर के दामों में हुआ इजाफा◾Today's Corona Update : देश में कोरोना संक्रमण के सामने आए 15,510 नए मामले, 106 मरीजों की मौत◾दुनिया में कोरोना मरीजों की संख्या 11.4 करोड़ से अधिक, 25.3 लाख से ज्यादा मरीजों की मौत◾डोनाल्ड ट्रंप ने किया बड़ा ऐलान, कहा- नई पार्टी शुरू करने की योजना नहीं, रिपब्लिकन का दूंगा साथ ◾देश में आज से कोरोना वैक्सीन का दूसरा चरण शुरू, 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को लग रहा है टीका ◾TOP - 5 NEWS 01 MARCH : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾PM मोदी ने एम्स में लगवाई कोरोना वैक्सीन, देश को कोविड-19 से मुक्त बनाने की अपील की ◾वैज्ञानिक नवाचार के लिए हब के रूप में उभर रहा भारत : जितेंद्र सिंह ◾कोरोना योद्धाओं के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं : हर्षवर्धन◾राज्य, जिलों को कोविड-19 टीकाकरण केंद्रों का पूर्व पंजीकरण को-विन 2.0 पर कराना होगा ◾वाम, कांग्रेस व आईएसएफ गठबंधन ने जनहित सरकार पर दिया जोर, पहले दिन दिखी दरार ◾अमित शाह ने तमिलनाडु, पुडुचेरी में तमिल भाषा और संस्कृति की सराहना की ◾जम्मू-कश्मीर : फारूक अब्दुल्ला का बड़ा बयान, बोले- चाहता हूं कांग्रेस मजबूत हो◾कृषि कानून वापस नहीं होगा तब तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा : राकेश टिकैत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

म.प्र. के संत ठुकरा सकते हैं राज्य मंत्री का दर्जा !

भोपाल : मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने नर्मदा नदी के संरक्षण और पौधा रोपण के लिए जनजागृति लाने के लिए पांच संतों की विशेष समिति बनाई है। इस समिति के कुछ सदस्य राज्यमंत्री का पद दिए जाने से सहमत नहीं है, लिहाजा वे सरकार से मिले इस दायित्व को ठुकरा भी सकते हैं।

समिति के सदस्य कंप्यूटर बाबा का कहना है कि सरकार ने उन्हें जो जिम्मेदारी सौंपी है, उसे पूरा करने का प्रयास करेंगे। शिवराज ने नर्मदा के संरक्षण के लिए यात्रा निकाली थी। इसमें संतों को भी महत्व दिया गया है। वहीं, कंप्यूटर बाबा ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की नर्मदा पदयात्रा को व्यक्तिगत और राजनीतिक यात्रा करार दिया है।

वहीं कुछ संत सरकार के इस फैसले से सहमत नहीं है। नाम न छापने की शर्त पर एक संत ने कहा कि उनके लिए बत्ती वाली गाड़ी और सुविधाओं का कोई महत्व नहीं है। वे तो वैसे ही समाज में जन जागृति लाने का काम करते है। नदी बचाओ, पेड़ लगाओ इस तरह का अभियान उनके लिए आम है। जब उनसे पूछा गया कि क्या वे सरकार के राज्यमंत्री के दर्जे को स्वीकार करेंगे तो उनका जवाब था कि उन्हें इस तरह के विशेषाधिकार की कतई जरूरत नहीं है।

ज्ञात हो कि मंगलवार को राज्य शासन ने प्रदेश के विभिन्न चिन्हित क्षेत्रों विशेष रूप से नर्मदा के किनारे वृक्षारोपण, जल संरक्षण और स्वच्छता के प्रति निंरतर जन-जागरूकता अभियान चलाने के लिए विशेष समिति गठित की। इस समिति में बतौर सदस्य नर्मदानन्द, हरिहरानंद, कंप्यूटर बाबा, भैय्यू महाराज और पंडित योगेंद्र महंत को शामिल किया गया। सभी सदस्यों को राज्य मंत्री का दर्जा देने की बात कही गई है।

इस समिति के गठन और संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दिए जाने पर राजनीतिक हल्कों में बहस का दौर शुरू हो गया है। साथ ही बुधवार को तमाम अखबार राज्यमंत्री का दर्जा पाए संतों के पूर्व में लिए गए फैसलों से रंगे हुए हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इन संतों में से कई ने इंदौर में 28 मार्च को एक बैठक करके नर्मदा घोटाला यात्रा निकालने का ऐलान किया था। संतों ने नर्मदा किनारे हुए वृक्षारोपण में बड़े घोटाले का आरोप लगाया था। अब सरकार द्वारा उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा दिए जाने से सवाल उठने लगे हैं। यही कारण है कि कई संत पद को ठुकराने का मन बना रहे हैं।

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी के साथ।