BREAKING NEWS

डॉक्टरों की सुरक्षा की मांग वाली याचिका पर सुनवाई कल : सुप्रीम कोर्ट ◾17वीं लोकसभा का पहला सत्र प्रारंभ, PM मोदी सहित नवनिर्वाचित सांसदों ने ली शपथ ◾संसदीय लोकतंत्र में सक्रिय विपक्ष महत्वपूर्ण, संख्या को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं : PM मोदी ◾डॉक्टरों की देशभर में प्रदर्शन, आज फिर हड़ताल पर रहेंगे एम्स के डॉक्टर◾वर्ल्ड कप में भारत की पाकिस्तान पर सबसे बड़ी जीत, लगा बधाईयों का तांता, अमित शाह ने बताया एक और स्ट्राइक ◾IMA की हड़ताल में शामिल होंगे दिल्ली के अस्पताल, AIIMS ने किया किनारा ◾ममता आज सचिवालय में जूनियर डॉक्टरों से करेंगी बैठक◾विश्व कप 2019 Ind vs Pak : भारत ने पाकिस्तान को डकवर्थ लुइस नियम के तहत 89 रन से रौंदा◾IMA के आह्वान पर सोमवार को दिल्ली के कई अस्पतालों में नहीं होगा काम ◾सभी वर्गों को भरोसे में लेकर करेंगे सबका विकास : PM मोदी◾PM मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ कूटनीतिक और रणनीतिक रिवायत को बदला : जितेन्द्र सिंह◾प्रणव मुखर्जी से मिले नीतीश कुमार◾बिहार में AES की रोकथाम और इलाज के लिए हरसंभाव सहायता देगा केंद्र : हर्षवर्द्धन◾कश्मीरी अलगाववादी नेताओं को विदेशों से मिला धन, निजी फायदे के लिए उसका किया इस्तेमाल : NIA◾Top 20 News - 16 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾एक राष्ट्र, एक चुनाव पर बात करने के लिए PM मोदी ने सभी दलों के प्रमुखों को किया आमंत्रित◾प्रदर्शनकारी डॉक्टरों ने कहा, CM जगह तय करें लेकिन बैठक खुले में होनी चाहिए ◾बिहार : मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों का आंकड़ा पहुंचा 93 ◾नए चेहरों के साथ संसद में आए नई सोच, तभी बनेगा नया भारत : PM मोदी◾धर्मयात्रा नहीं राजनीति करने आए है उद्धव ठाकरे : इकबाल अंसारी◾

देश

देश का लगभग 42 फीसदी हिस्सा सूखाग्रस्त

भारत का लगभग 42 फीसदी हिस्सा 'असामान्य रूप से सूखाग्रस्त' है, जो बीते साल की तुलना में छह फीसदी अधिक है। सूखा पूर्व चेतावनी प्रणाली (डीईडब्ल्यूएस) ने यह जानकारी दी है।
 
सूखे पर निगरानी रखने वाले डीईडब्ल्यूएस के 28 मई के अपडेट में असामान्य रूप से सूखाग्रस्त इलाके का हिस्सा बढ़कर 42.61 फीसदी हो गया है, जो एक हफ्ते पहले (21 मई) 42.18 फीसदी था। 

यह वृद्धि 28 अप्रैल के अपडेट से 0.45 फीसदी है। 28 अप्रैल को यह 42.16 फीसदी था। यह स्थिति 27 फरवरी को थोड़ी बेहतर थी, जब 41.30 फीसदी इलाका असामान्य रूप से सूखाग्रस्त था। 

सूखा सूचकांक बीते साल के मुकाबले बदतर हो गया है, जब देश का 36.74 फीसदी इलाका असामान्य रूप से 28 मई, 2018 को सूखे की चपेट में था। 

'गंभीर रूप से सूखे' की श्रेणी के इलाके में वृद्धि हुई है। यह एक हफ्ते पहले 15.93 फीसदी था, जो 28 मई को 16.18 फीसदी हो गया। 

सबसे बुरी तरह से प्रभावित इलाकों में तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात व राजस्थान शामिल हैं। असामान्य रूप से सूखे वाली श्रेणी में बीते साल के 0.68 फीसदी के मुकाबले इस साल 5.66 फीसदी की वृद्धि हुई है। 

केंद्रीय जल आयोग की 30 मई की नवीनतम विज्ञप्ति में कहा गया है कि 91 जलाशयों में पानी का भंडारण 31.65 बीसीएम है, जो कि क्षमता का 20 फीसदी है। हालांकि, विज्ञप्ति में कहा गया है कि बीते साल की इसी अवधि की तुलना में समग्र भंडारण स्थिति बेहतर है। 

सभी की नजरें अब मॉनसून पर हैं। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने अपने दूसरे शुरुआती अनुमान में दावा किया है कि यह एक सामान्य मॉनसून होगा। लेकिन उत्तरपश्चिम भारत और पूर्वोत्तर भारत में सामान्य से कम बारिश होने की संभावना है। 

दीर्घावधि औसत (एलपीए) में पूरे देश में मॉनसून के दौरान 96 फीसदी औसत बारिश हो सकती है। सामान्य बारिश का औसत 96 फीसदी से 104 फीसदी होता है, जिसका यह निचला स्तर है। 

उत्तरपश्चिम भारत में 94 फीसदी व पूर्वोत्तर में 91 फीसदी बारिश होने की संभावना है। मध्य भारत में 100 फीसदी और प्रायद्वीपीय भारत में 97 फीसदी बारिश होने की संभावना है।