BREAKING NEWS

हमारा ध्यान देश की विरासत और संस्कृति बचाने पर : PM मोदी◾मोदी सरकार चेहरे पर कुछ और बोलती है, लेकिन अपने बगल में खंजर रखती है : दर्शन पाल◾किसानों को डर दिखाकर बहकाया जा रहा है, कृषि कानून पर बैकफुट पर नहीं आएगी सरकार : PM मोदी◾किसानों ने दिल्ली को चारों तरफ से घेरने की दी चेतावनी, कहा- बुराड़ी कभी नहीं जाएंगे◾दिल्ली में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के 4906 नए मामले की पुष्टि, 68 लोगों की मौत◾महबूबा मुफ्ती ने BJP पर साधा निशाना, बोलीं- मुसलमान आतंकवादी और सिख खालिस्तानी तो हिन्दुस्तानी कौन?◾दिल्ली पुलिस की बैरिकेटिंग गिराकर किसानों का जोरदार प्रदर्शन, कहा- सभी बॉर्डर और रोड ऐसे ही रहेंगे ब्लॉक ◾राहुल बोले- 'कृषि कानूनों को सही बताने वाले क्या खाक निकालेंगे हल', केंद्र ने बढ़ाई अदानी-अंबानी की आय◾अमित शाह की हुंकार, कहा- BJP से होगा हैदराबाद का नया मेयर, सत्ता में आए तो गिराएंगे अवैध निर्माण ◾अन्नदाआतों के समर्थन में सामने आए विपक्षी दल, राउत बोले- किसानों के साथ किया गया आतंकियों जैसा बर्ताव◾किसानों ने गृह मंत्री अमित शाह का ठुकराया प्रस्ताव, सत्येंद्र जैन बोले- बिना शर्त बात करे केंद्र ◾बॉर्डर पर हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाक, जम्मू में देखा गया ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद लौटा वापस◾'मन की बात' में बोले पीएम मोदी- नए कृषि कानून से किसानों को मिले नए अधिकार और अवसर◾हैदराबाद निगम चुनावों में BJP ने झोंकी पूरी ताकत, 2023 के लिटमस टेस्ट की तरह साबित होंगे निगम चुनाव ◾गजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसान, राकेश टिकैत का ऐलान- नहीं जाएंगे बुराड़ी ◾बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा- कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के करीब, 88 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾योगी के 'हैदराबाद को भाग्यनगर बनाने' वाले बयान पर ओवैसी का वार- नाम बदला तो नस्लें होंगी तबाह ◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 6 करोड़ 20 लाख के पार, साढ़े 14 लाख लोगों की मौत ◾सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, आगे की रणनीति के लिए आज फिर होगी बैठक ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

वित्त मंत्री के ड्रामेबाज बताने पर राहुल ने कहा- मुझे ड्रामेबाज बताना वित्त मंत्री का अपना दृष्टिकोण

प्रवासी मजदूरों को लेकर राजनीति लगातार दिन पर दिन कोरोना वायरस के संक्रमण  की तरह बढ़ते ही जा रहे हैं। बीते दिनों कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली में फुटपाथ किनारे मजदूरों के साथ बैठकर उनका हाल-चाल जाना था। राहुल के प्रवासी मजदूरों के साथ बैठकर बातचीत करने को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ड्रामेबाज कहा था। वित्त मंत्री के इस बयान का पलटवार करते हुए मंगलावार को राहुल ने जवाब देते हुए कहा कि उन्हें 'ड्रामेबाज' कहना वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण का अपना दृष्टिकोण है। राहुल ने सीतारमण की ओर से दिए गए बयान के जवाब में कहा कि मैंने पैदल चल रहे प्रवासी मजदूरों के दर्द और उनकी पीड़ा को उजागर करने के लिए एक छोटी डॉक्यूमेंट्री बनाई थी।

राहुल गांधी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, मजदूरों से बातचीत करने के पीछे मेरा सिर्फ एक लक्ष्य है। उनके दिल में क्या चल रहा है, मैं उसे समझने की कोशिश करता हूं। सच कहूं तो मुझे इससे बहुत लाभ मिलता है। जहां तक मदद की बात है, मैं मदद करता रहता हूं। अगर वह (निर्मला सीतारमण) मुझे इजाजत दें तो मैं जरूर बैग उठाकर ले जाऊंगा। एक का नहीं, 10-15 का उठाकर पैदल चला जाऊंगा। 

कांग्रेस नेता ने कहा कि उन्होंने प्रवासी मजदूरों के दर्द को महसूस करने और उनकी दुर्दशा को सामने लाने के लिए एक डॉक्यूमेंट्री (लघु फिल्म) बनाई। उन्होंने कहा कि वे हमारी ताकत और भविष्य हैं और अगर हम इन लोगों की मदद नहीं करते हैं तो फिर किसकी मदद करेंगे। मजदूरों से मुलाकात करने पर राहुल को सीतारमण ने ड्रामेबाज कहा था। इससे संबंधित एक सवाल के जवाब में राहुल गांधी ने कहा, यह (मुझे ड्रामेबाज कहना)वित्तमंत्री का अपना दृष्टिकोण है। मैं उनका धन्यवाद करता हूं। और अगर वह चाहती हैं कि मैं उत्तर प्रदेश जाऊं तो मैं पैदल चला जाऊंगा और दूसरों की मदद करूंगा, अगर वह मुझे अनुमति देती हैं तो।

केरल के वायनाड से कांग्रेस सांसद दक्षिण पूर्व दिल्ली में सुखदेव विहार फ्लाईओवर के पास इस महीने की शुरुआत में राष्ट्रीय राजधानी में प्रवासी कामगारों से मिले थे। सीतारमण ने पिछले सप्ताह एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान तंज कसते हुए कहा था कि राहुल द्वारा ऐसा करने से केवल मजदूरों का समय बर्बाद हुआ है। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस पार्टी की तरफ से राहत पैकेज को लेकर की जा रही प्रेस कॉन्फ्रेंस को ड्रामा बताया जा रहा है, लेकिन असली ड्रामेबाज वह खुद हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी सड़क पर बैठकर मजदूरों से बात करके उनका समय बर्बाद करने में लगे हुए थे। इससे बेहतर होता कि वह उनके बच्चों, सूटकेस को पकड़कर उनके साथ पैदल चलते।