BREAKING NEWS

'चौकीदार ही जासूस है' Pegasus पर खुलासे को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस◾यूपी : CM योगी ने 'हज हाउस' को लेकर SP पर साधा निशाना, 'कैलाश मानसरोवर भवन' के बारे में कही यह बात ◾NYT की रिपोर्ट में दावा, भारत ने इजरायल से डिफेंस डील में खरीदा था Pegasus◾बजट सत्र : संसद के दोनों सदनों में 31 जनवरी और 1 फरवरी को नहीं होगा शून्य काल◾अखिलेश को न कोरोना का टीका पसंद, न माथे का टीका : केशव प्रसाद मौर्य◾यूपी चुनाव : गृहमंत्री शाह और BJP अध्यक्ष समेत यह बड़े नेता करेंगे प्रचार, जानिए कौन किस जगह मांगेगा वोट ◾UP विधानसभा चुनाव : शाह-नड्डा के बाद अब PM भरेंगे हुंकार, 31 जनवरी को पहली वर्चुअल रैली◾देश में 24 घंटे में कोरोना संक्रमित 871 लोगों ने तोड़ा दम, नए मामलों में गिरावट◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामलों में जारी है वृद्धि, 36.94 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा ◾अखिलेश ने बीजेपी पर साधा निशाना - BJP से सावधान रहें, वोट की खातिर उसने कृषि कानून वापस लिए◾कांग्रेस का दावा - हम फिर से बनाएंगे सरकार◾बंगाल चुनाव बाद हिंसा: भाजपा कार्यकर्ता की मौत मामले में CBI ने सात लोगों को किया गिरफ्तार ◾दिल्ली कोविड : बीते 24 घंटों में आए 4,044 नए मामले, कल के मुकाबले कम हुई मौतें ◾वी.अनंत नागेश्वरन ने संभाला देश के नए मुख्य आर्थिक सलाहकार का पद, आम बजट से पहले केंद्र सरकार ने किया ऐलान◾मिसाइल आपूर्ति करने वाले देशों के प्रतिष्ठित क्लब में शामिल हुआ भारत, इस देश को देगा शक्तिशाली ब्रह्मोस ◾मुजफ्फरनगर: साझा प्रेस वार्ता में अखिलेश और जयंत चौधरी ने दिखाई अपनी ताकत, जानिए क्या बोले दोनों नेता◾केस दर्ज होने के बाद श्वेता तिवारी ने मांगी माफी, तोड़-मरोड़कर दिखाया जा रहा बयान, जानें पूरा मामला◾यूक्रेन मुद्दे पर बढ़ते तनाव के बीच रूस के विदेश मंत्री बोले- मास्को युद्ध शुरू नहीं करेगा ◾UP चुनाव: लखीमपुर, पीलीभीत BJP के लिए बने मुसीबत का सबब, पार्टी हो रही अंदरूनी मन-मुटाव का शिकार ◾कर्नाटक के पूर्व CM बीएस येदियुरप्पा की नातिन ने की आत्महत्या, पुलिस जांच में जुटी◾

600 से अधिक बाल देखभाल केन्द्रों को प्रति बच्चा छह लाख रुपये तक विदेशी चंदा मिला : एनसीपीसीआर

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने कहा है कि गैर-सरकारी संगठनों द्वारा चलाए जा रहे 600 से अधिक बाल देखभाल केन्द्रों को 2018-19 में प्रति बच्चा छह लाख रुपये तक विदेशी चंदा प्राप्त हुआ है, जो कि औसत खर्च के मुकाबले काफी अधिक है। इन केन्द्रों में कुल 28 हजार बच्चे हैं। शीर्ष बाल अधिकार निकाय एनसीपीसीआर ने यह जानकारी देते हुए संभावित वित्तीय अनियमितताओं पर चिंता व्यक्त की। 

आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो के अनुसार सूचना के यादृच्छिक विश्लेषण के मुताबिक आयोग ने पाया है कि 2018-19 में उन्हें प्रति बच्चा औसतन 2.12 लाख से 6.60 लाख रुपये तक की धनराशि मिली है। आयोग ने कहा कि अब वह इन गैर-सरकारी संगठनों के विदेशी चंदे और खर्च का पता लगाने के लिये देशभर में कवायद शुरू करने की योजना बना रहा है। इस कवायद के तहत गृह मंत्रालय की विदेशी चंदा नियमन अधिनियम (एफसीआरए) वेबसाइट पर उपलब्ध आंकड़ों का इस्तेमाल किया गया है। 

बाल संरक्षण योजना के अनुसार सभी आवर्ती खर्चों को मिलाकर हर बच्चे पर प्रतिवर्ष 60 हजार रुपये खर्च होने चाहिये। कानूनगो ने कहा, ''एनजीओ द्वारा इतनी बड़ी मात्रा में धन एकत्रित किये जाने से कोष के संभावित गबन को लेकर चिंताएं बढ़ गई हैं। हम देशव्यापी कवायद शुरू करके उसी के अनुसार कार्रवाई करेंगे। '' आयोग के अनुसार आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु के बाल देखभाल केन्द्रों के आंकड़ों का विश्लेषण किया गया है। 

आयोग के मुताबिक आंध्र प्रदेश में एनजीओ द्वारा चलाए जा रहे 145 बाल देखभाल केन्द्रों को 6,202 बच्चों के लिये 409 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं। इस लिहाज से एक बच्चे पर प्रतिवर्ष 6.6 लाख रुपये खर्च होने चाहिये। तेलंगाना में ऐसे 67 केन्द्रों को 3,735 बच्चों के लिये 145 करोड़ रुपये मिले हैं, जिसके तहत एक बच्चे पर 3.88 लाख रुपये खर्च होने चाहिये। 

केरल में 107 केन्द्रों को 4,242 बच्चों के लिये 85.39 करोड़ रुपये हासिल हुए हैं, जिसका मतलब है कि एक बच्चे पर 2.01 लाख रुपये खर्च होने चाहिये। कर्नाटक में 45 केन्द्रों को 3,111 बच्चों के लिये 66.62 करोड़ रुपये मिले हैं। एक बच्चे पर 2.14 लाख रुपये खर्च होने चाहिये। तमिलनाडु में 274 केन्द्रों को 1,172 बच्चों के लिये 248 करोड़ रुपये मिले हैं, जिसके अनुसार एक बच्चे पर 2.12 लाख रुपये खर्च होने चाहिये।