BREAKING NEWS

क्या दिल्ली में फिर बढ़ेगा लॉकडाउन? कोरोना स्थिति की समीक्षा कर CM केजरीवाल कर सकते हैं घोषणा ◾देश में कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप बरकरार, लगातार चौथे दिन 4 लाख से अधिक केस की पुष्टि ◾भारत में क्यों हुआ कोरोना महामारी का भयावह विस्फोट, जानिए WHO द्वारा बताई गई यह वजहें ◾कौन बनेगा असम का मुख्यमंत्री ? आज विधायक दल की बैठक में BJP नए नेता की घोषणा करेगी ◾दुनिया में कोरोना मामलों की संख्या 15.72 करोड़ के पार, 32.7 लाख से अधिक लोगों ने गंवाई जान◾आईएमए ने केंद्र से की मांग- देश में पूर्ण लॉकडाउन की जरूरत, स्वास्थ्य मंत्रालय को ‘जाग’ जाना चाहिए ◾अब तक महाराष्ट्र में कोरोना से 75 हजार से ज्यादा मौत, संक्रमितों की संख्या 50 लाख के पार ◾फड़णवीस ने CM ठाकरे को लिखा पत्र, कहा- बीएमसी कोरोना से हुई मौत के मामलों को छिपा रही है ◾महामारी में कालाबाजारी: दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडर के नाम पर फायर एंस्टीग्यूशर बेचने का खेल◾कोरोना महामारी के संकट में प्रधानमंत्री मोदी की यूरोपीय संघ से अपील, वैक्सीन के पेटेंट पर दें छूट ◾वैक्सीन की भारी मांग को पूरा करने के लिए प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, कच्चे माल की आपूर्ति जरूरी : भारत बायोटेक◾महामारी के प्रकोप के चलते केरल और तमिलनाडु में लगा संपूर्ण लॉकडाउन, पूर्वोत्तर के राज्यों ने भी कड़े किए प्रतिबंध◾केंद्र सरकार का बड़ा फैसला : अस्पताल में भर्ती होने के लिए कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट अनिवार्य नहीं ◾क्या बंगाल BJP नेतृत्व में पड़ी दरार, 77 विधायकों और 18 सांसदों के TMC से संपर्क में होने का दावा ◾PM मोदी विशेष आमंत्रित के रूप में भारत-यूरोपीय परिषद की बैठक में हुए शामिल, स्वास्थ्य संबंधी तैयारी पर हुई चर्चा ◾पप्पू यादव ने वीडियो जारी कर किया दावा - बिहार में मरीजों की बजाय बालू ढो रही है BJP सांसद की एंबुलेंस◾बेहतर ऑक्सीजन आवंटन के लिए सुप्रीम कोर्ट ने नेशनल टास्क फोर्स का गठन किया, जानिये कौन-कौन है शामिल ◾कांग्रेस की अपील : देश में संपूर्ण लॉकडाउन लगाए केंद्र सरकार और गरीबों की करे आर्थिक मदद◾महाराष्ट्र में कहां हो रही है चूक, प्रतिबंधों के बावजूद औसतन 50,000 से अधिक दैनिक मामले आ रहे◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बताया, देश में ऑक्सीजन सपोर्ट और वेंटिलेटर पर कितने मरीज◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

परीक्षा पे चर्चा 2020 : छात्रों से बोले PM मोदी-टेक्नोलॉजी को अपना दोस्त बनाएं, उसके गुलाम न बनें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देशभर के छात्रों के साथ "परीक्षा पे चर्चा 2020" कार्यक्रम की शुरुआत की। कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में किया गया है। इस कार्यक्रम में देश-विदेश के छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने छात्रों को परीक्षा से जुड़े कई टिप्स दिए। छात्र-छात्रों ने भी प्रधानमंत्री से कई सवाल-जवाब किए। 

PM मोदी ने छात्रों से पूर्वोत्तर राज्यों में घूमने के लिए कहा

प्रधानमंत्री मोदी ने अधिकार और दायित्व के बारे में पूछे गए एक छात्र के सवाल के जवाब में कहा कि यह सही है कि स्कूली पाठ्यक्रम में समय के साथ बहुत विस्तार हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे समय में नागरिक शास्त्र पढ़ाया जाता था, अब यह विषय सीमित होता जा रहा है, उसमें हमें अधिकार और कर्तव्यों के बारे में पढ़ाया जाता था।’’ 

उन्होंने पूर्वोत्तर की छात्रा द्वारा अधिकार और कर्तव्य के बारे में पूछे जाने पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि देश के छात्रों को घूमने के लिए पूर्वोत्तर राज्यों के भ्रमण हेतु जरूर जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वस्तुत: मूलभूत अधिकार होते ही नही हैं, बल्कि मूलभूत कर्तव्य होते हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘अगर हम अपने दायित्वों का सम्यक निर्वाह करें तो किसी को अपने अधिकारों की मांग करने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी।’’ प्रधानमंत्री मोदी ने छात्रों से भविष्य में देश और समाज में खुद को नेतृत्व करने की भूमिका के लिए अभी से तैयार करने का अनुरोध किया। 

उन्होंने कहा, ‘‘आज की किशोर पीढ़ी 2047 में आजादी के सौ साल पूरे होने पर देश में नेतृत्व की भूमिका में होंगे। जब देश आजादी के सौ साल मनाएगा तब अगर आपको टूटी फूटी व्यवस्था मिले तो क्या आप नेतृत्व की जिम्मेदारी का निर्वाह कर पाएंगे, शायद नहीं।’’ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमें यह सोचना चाहिए कि मैं ऐसा क्या कर्तव्य निभाऊं जिससे देश का लाभ हो। हम सोचें कि 2022 में जब आजादी के 75 साल होंगे तब हम संकल्प लें कि हम अपने देश में ही निर्मित वस्तुओं को खरीदेंगे। इससे देश की अर्थव्यव्था को मजबूत बनाने के प्रति हमारे कर्तव्य की पूर्ति होगी।’’ 

पढ़ाई के साथ अन्य गतिविधियों में भी छात्र बढ़चढ़ कर हिस्सा लें : PM मोदी 

प्रधानमंत्री मोदी ने छात्रों के सवालों के जवाब देते हुए कहा कि छात्रों को खासकर 10वीं और इससे ऊपर की कक्षा के छात्रों को पढ़ाई से इतर गतिविधियों में जरूर शामिल होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अभिभावकों को भी अपने बच्चों को वे काम भी करने देना चाहिए जो वे करना चाहते हों। सूचना टेक्नोलॉजी खासकर गैजेट के इस्तेमाल से जुड़े एक अन्य सवाल के जवाब में मोदी ने कहा कि आजकल की पीढ़ी नयी-नयी जानकारियों को हासिल करने के लिए ‘गूगल गुरु’ का जमकर इस्तेमाल करती है। 

उन्होंने सोशल नेटवर्किंग को आवश्यक बताते हुए कहा कि इसमें समय के साथ विकृति भी आयी है। उन्होंने कहा, ‘‘तकनीक के बारे में मैं भी विशेषज्ञ नहीं हूं लेकिन इसके बारे में जानने की अपनी लालसा के कारण मैं तकनीक के बारे में पूछताछ करता रहता हूं और इसका मुझे बहुत लाभ मिलता है।’’ गैजेट्स के अधिक इस्तेमाल के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा कि परिवार में या अन्यत्र स्थानों पर अधिकांश लोग गैजेट में लीन रहते हैं। मैं खुद को एक निश्चित समय के लिए प्रतिदिन गैजेट से पूरी तरह से अलग रखता हूं।’’ 

उन्होंने छात्रों से अपील की कि घर में एक ऐसा कमरा निर्धारित करें जिसमें तकनीक का प्रवेश वर्जित हो। उसमें सिर्फ अपने परिजनों से बातचीत करने का ही विकल्प हो। उन्होंने कहा कि ऐसा करने से आप देखेंगे कि कितना लाभ मिलेगा। प्रधानमंत्री ने कहा, टेक्नोलॉजी को अपना दोस्त मानें, सक्रिय होना जरूरी है। लेकिन टेक्नोलॉजी का गुलाम नहीं बनना चाहिए।

PM मोदी ने छात्रों से कहा, होगी बिना किसी फिल्टर के बात

कार्यक्रम शुरु करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि छात्रों के साथ वह बिना किसी ‘फिल्टर’ के बातचीत करेंगे। उन्होंने ‘परीक्षा पे चर्चा 2020’ कार्यक्रम में छात्रों को संबोधित करते हुए छात्रों से कहा कि वे उनके साथ खुल कर चर्चा करें। उन्होंने सोशल मीडिया पर प्रचलित ‘हैशटेग’ का जिक्र करते हुए कहा कि छात्रों और उनके बीच होने वाली चर्चा ‘हेशटेग विदाउट फिल्टर’ होगी। 

प्रधानमंत्री ने परीक्षा के कारण मन व्यथित होने से जुड़े एक छात्र के सवाल के जवाब में कहा, ‘‘छात्रों को विफलता से नहीं डरना चाहिए और नाकामी को जीवन का हिस्सा मानना चाहिए।’’ उन्होंने छात्रों को चंद्रयान मिशन की घटना का जिक्र करते हुए छात्रों को बताया कि उनके कुछ सहयोगियों ने चंद्रयान मिशन की लैंडिंग के मौके पर नहीं जाने की सलाह दी थी, क्योंकि इस अभियान की सफलता की कोई गारंटी नहीं थी। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इसके बावजूद वह इसरो के मुख्यालय गये और वैज्ञानिकों के बीच में रह कर उनका भरपूर उत्साहवर्धन किया।