BREAKING NEWS

LJP में मची घमसाना के बीच चिराग के समर्थकों ने पशुपति सहित 5 सांसदों के पोस्टरों पर कालिख पोती◾गाजियाबाद : बुजुर्ग से मारपीट मामले में पुलिस ने ट्विटर समेत 8 के खिलाफ किया मामला दर्ज◾अंबानी की सुरक्षा में चूक का मामले में NIA ने 2 लोगों को किया गिरफ्तार ◾भाजपा का दावा - पार्टी का कोई भी विधायक रॉय के नक्शेकदम पर नहीं चलेगा◾दिल्ली में कोरोना का कहर जारी ; 228 नए मामले आये सामने,12 मरीजों ने तोड़ा दम ◾16 जनवरी से सात जून के बीच मृत्यु के 488 मामलों को टीकाकरण से नहीं जोड़ा जा सकता - केंद्र सरकार◾CM योगी ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा - सत्ता की लालच में मानवता को शर्मसार कर रहे हैं राहुल◾क्षेत्रीय सुरक्षा बैठक को बुधवार को संबोधित करेंगे राजनाथ सिंह◾पिछले डेढ़ महीने में तृणमूल कांग्रेस के हमलों में भाजपा के 30 से अधिक कार्यकर्ता मारे गए हैं : दिलीप घोष◾दिल्ली के एम्स अस्पताल में 18 जून से शुरू होंगी ओपीडी सेवाएं, ऑनलाइन लेना होगा अप्वाइंटमेंट ◾UP आगामी विधानसभा चुनाव में SP जीतेगी 350 से ज्यादा सीटें, जानिए अखिलेश को वापसी पर क्यों है इतना भरोसा◾अडाणी समूह में विदेशी निवेश करने वाले कोष के खातों के मामले में चुप्पी तोड़े मोदी सरकार: कांग्रेस◾दिल्ली अनलॉक होने के बाद कोरोना के नए मामलों में मामूली बढ़ोतरी, 3,078 सक्रिय मरीज◾मॉनसून में फिर पानी-पानी होगी दिल्ली, 'आप' ने साधा एमसीडी पर निशाना, कहा- सिर्फ 20 प्रतिशत नालों की हुई सफाई ◾यूपी में कोरोना कर्फ्यू में दी जाएगी 2 घंटे की ढील, 21 जून से रेस्टोरेंट व मॉल खोलने की भी अनुमति ◾राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाए गए चिराग, कहा- पार्टी मां जैसी होती है, नहीं करना चाहिए विश्वासघात ◾अकाली दल-बसपा कार्यकर्ताओं ने सीएम अमरिंदर के आवास के बाहर किया प्रदर्शन, पुलिस ने किया बल प्रयोग ◾चीन और पाकिस्तान लगातार बढ़ा रहे है अपने परमाणु हथियारों का जखीरा, जानिये भारत कितना है तैयार ◾ PM मोदी कल विवाटेक सम्मेलन को संबोधित करेंगे, कई यूरोपीय देशों के मंत्री और सांसद होंगे शामिल ◾कोवैक्सीन की लागत निकालने के लिए निजी बाजार में अधिक कीमत रखना जरूरी : भारत बायोटेक◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

एजुकेशन सेक्टर में विकास पर बोले PM मोदी- देश में नई शिक्षा नीति के प्रावधानों को शीघ्र लागू करना जरूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुताबिक नई शिक्षा नीति के प्री-नर्सरी से लेकर पीएचडी तक के सभी प्रावधानों को शीघ्रतापूर्वक लागू किया जाना जरूरी है। पीएम मोदी ने शिक्षा क्षेत्र के लिए घोषित बजट प्रावधानों को प्रभावी ढंग से लागू करने की बात कही है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस विषय पर एक वेबिनार को संबोधित किया। बुधवार को आयोजित इस वेबिनार को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, एक आत्मनिर्भर भारत का निर्माण करने के लिए देश के युवकों का आत्मविश्वास बढ़ाना बेहद जरूरी है। आत्मविश्वास तभी आता है, जब युवकों को अपनी शिक्षा और ज्ञान पर पूरा भरोसा हो। आत्मविश्वास तब आता है, जब उन्हें यह महसूस हो कि उनका अध्ययन उन्हें अपना काम करने के लिए उचित अवसर और अनिवार्य कुशलता दिलाता है।

उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति का निर्माण इसी विचार के साथ किया गया है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि नई शिक्षा नीति के प्री-नर्सरी से लेकर पीएचडी तक के सभी प्रावधानों को शीघ्रतापूर्वकलागू किया जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि बजट प्रावधान इस संदर्भ में पर्याप्त मददगार होंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस साल के बजट का पूरा ध्यान स्वास्थ्य के बाद शिक्षा, कुशलता, अनुसंधान और नवाचार पर है। उन्होंने देश के महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों के बीच बेहतर तालमेल बनाने का आह्वान किया। 

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों से शिक्षा को रोजगार और उद्यमिता क्षमताओं से जोड़ने के लिए जो प्रयास किए जा रहे हैं, उन्हें इस बजट में और विस्तार दिया गया है। उन्होंने कहा कि वैश्विक नवाचार इंडेक्स में भारत शीर्ष 50 देशों में शामिल हो चुका है और उसकी स्थिति लगातार बेहतर हो रही है। उन्होंने कहा कि देश में स्टार्टअप के लिए हैकथॉन आयोजित करने की एक नई परंपरा शुरू हुई है जो देश के युवा और उद्योगों दोनों के लिए काफी महत्वपूर्ण साबित हो रही है। उन्होंने बताया कि नवाचार के विकास और उसे बढ़ावा देने की राष्ट्रीय पहल (एनआईडीएचआई) के जरिए 3500 से ज्यादा स्टार्टअप का विकास किया जा रहा है। 

पीएम मोदी ने कहा कि भविष्य का ईंधन (फ्यूचर फ्यूल) और हरित ऊर्जा (ग्रीन एनर्जी) ऊर्जा के क्षेत्र में खुद को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बेहद जरूरी है। इसके लिए बजट में जिस हाईड्रोजन मिशन की घोषणा की गई है, उसकी तरफ हमें पूरी गंभीरता से बढ़ना है। प्रधानमंत्री ने कहा कि नई शिक्षा नीति में ज्यादा से ज्यादा स्थानीय भाषाओं के इस्तेमाल को प्रोत्साहित किया गया है। अब यह देखना अकादमीशियनों और हर एक भाषा के विशेषज्ञों की जिम्मेदारी है कि देश और विश्व का श्रेष्ठ साहित्य हर भारतीय भाषा में किस तरह तैयार किया जाए।