BREAKING NEWS

इस्तीफा देने से पहले सोनिया को अमरिंदर ने लिखी थी चिट्ठी, हालिया घटनाक्रमों पर पीड़ा व्यक्त की◾सिद्धू के सलाहकार का अमरिंदर पर वार, कहा-मुझे मुंह खोलने के लिए मजबूर न करें◾पंजाब : मुख्यमंत्री पद की रेस में नाम होने पर बोले रंधावा-कभी नहीं रही पद की लालसा◾प्रियंका गांधी का योगी पर हमला, बोलीं- जनता से जुड़े वादों को पूरा करने में असफल क्यों रही सरकार ◾पंजाब कांग्रेस की रार पर बोली BJP-अमरिंदर की बढ़ती लोकप्रियता के डर से लिया गया उनका इस्तीफा◾कैप्टन के भाजपा में शामिल होने के कयास पर बोले नेता, अमरिंदर जताएंगे इच्छा, तो पार्टी कर सकती है विचार◾कौन संभालेगा पंजाब CM का पद? कांग्रेस MLA ने कहा-अगले 2-3 घंटे में नए मुख्यमंत्री के नाम का होगा फैसला◾पंजाब में हो सकती है बगावत? गहलोत बोले-उम्मीद है कि कांग्रेस को नुकसान पहुंचाने वाला कदम नहीं उठाएंगे कैप्टन ◾CM योगी ने साढ़े चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर गिनाईं अपनी सरकार की उपलब्धियां◾राहुल ने ट्वीट किया कोरोना टीकाकरण का ग्राफ, लिखा-'इवेंट खत्म'◾अंबिका सोनी ने पंजाब CM की कमान संभालने से किया इनकार, टली कांग्रेस विधायक दल की बैठक◾अफगानिस्तान में आगे बुनियादी ढांचा निवेश को जारी रखने के बारे में पीएम मोदी करेंगे निर्णय : नितिन गडकरी◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 30,773 नए मामलों की पुष्टि, 309 लोगों की हुई मौत◾पंजाब के बाद अब राजस्थान और छत्तीसगढ़ पर टिकी निगाहें, क्या होगा उलटफेर?◾पंजाब के बाद राजस्थान कांग्रेस में हलचल, CM गहलोत के OSD लोकेश शर्मा ने दिया इस्तीफा◾तीन दिन की अंतरिक्ष की सैर कर वापस लौटे यात्री, अटलांटिक सागर में लैंड हुआ कैप्सूल◾ योगी सरकार के साढ़े चार साल हुए पूरे, CM योगी आज उपलब्धियों का रिपोर्ट कार्ड करेंगे पेश ◾दुनियाभर में जारी है कोरोना महामारी का प्रकोप, संक्रमितों का आंकड़ा 22.81 करोड़ से अधिक ◾कई अफगान दूतावासों ने तालिबान सरकार से तोड़ा संपर्क, कामगारों ने मेजबान देशों में मांगी थी शरण ◾अमरिंदर सिंह का इस्तीफा, विधायक दल ने नया नेता चुनने के लिए सोनिया को अधिकृत किया◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बाटला हाउस एनकाउंटर पर राजनीति तेज, रविशंकर का सवाल- क्या देश की जनता के सामने माफी मांगेगा विपक्ष

दिल्ली की साकेत कोर्ट ने सोमवार को 2008 के बाटला हाउस एनकाउंटर से जुड़े एक मामले में इंडियन मुजाहिदीन के एक आतंकवादी आरिज खान को दोषी ठहराया है। इस घटना को लेकर मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और विपक्ष पर जमकर निशाना साधा।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि देश की सुरक्षा और आतंकवाद की लड़ाई के मामले में कांग्रेस और विपक्ष की पार्टियां आतंकियों के पक्ष में खड़ी हुई और दिल्ली में हुई भीषण आतंकी हमले में पुलिस की हिम्मत को तोड़ने की कोशिश की गई। उन्होंने कहा कि 2008 को दिल्ली में सिलसिलेवार धमाके हुए थे। जिसमें 39 लोग मारे गए और 159 लोग घायल हुए थे। बाटला हाउस में पुलिस कार्रवाई में 2 आतंकी मारे गए थे और 1 पुलिस इंस्पेक्टर शहीद हो गए थे। कोर्ट ने कल के फैसले में आरिज खान को दोषी माना है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि तब दिल्ली पुलिस के कई लोगों ने हमें परोक्ष संपर्क किया कि हमें बचाइए, हमें ही हमलावर बताने की मुहिम चल पड़ी है। ऐसे में हम देश की सुरक्षा के लिए क्या करें। इस घटना को एक प्रकार से संदेह में डालने की कोशिश की गई थी। ये वोटबैंक की राजनीति के लिए किया जा रहा था।

उन्होंने आगे कहा कि बाटला हाउस कांड को समाजवादी पार्टी, बीएसपी, कांग्रेस पार्टी, लेफ्ट पार्टी, ममता जी ने नेशनल इश्यू बनाया था। क्या मतलब है इसका? क्या वोट के लिए आतंकवाद की लड़ाई को इस तरह से कमजोर किया जाएगा?उन्होंने कहा कि आज जब देश की न्यायिक प्रक्रिया के द्वारा एक बहुत बड़े आतंकवादी को 100 से अधिक गवाही, साइंटिफिक एविडेंस, मेडिकल एविडेंस के आधार पर बड़ी सजा मिली है, तो क्या ये सभी पार्टियां देश की जनता के सामने माफी मांगेगी?

भाजपा ने कहा कि अब जब इस मामले में एक आरोपी को अदालत ने दोषी ठहराया है, उन्हें देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए। केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने पार्टी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए विपक्षी पार्टियों के नेताओं पर हमला करते हुए उस वक्त इस मामले को लेकर कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद और दिग्विजय सिंह तथा तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी के बयानों का जिक्र किया और दिल्ली पुलिस के मनोबल पर विपक्षी दलों के अभियान के प्रभाव की जांच कराने की मांग की।

प्रसाद ने कहा, ‘‘दिल्ली पुलिस का मनोबल गिराने और आतंकवादियों व उनकी साजिशों को स्पष्ट समर्थन देने के लिए बटला हाउस मुठभेड़ की हकीकत पर जानबूझ कर और लगातार गंभीर संदेह व्यक्त किया गया था। क्यों? शुद्ध वोट बैंक की राजनीति के लिए’’ दक्षिणी दिल्ली के जामिया नगर इलाके में 2008 में बटला हाउस मुठभेड़ के दौरान दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ के निरीक्षक शर्मा की हत्या कर दी गई थी।

इस मुठभेड़ के बाद जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों व शिक्षकों ने विरोध प्रदर्शन आयोजित किया था। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश पर इस मामले की जांच की थी और उसने दिल्ली पुलिस को क्लीन चिट दी थी। कांग्रेस के कई नेताओं ने मुठभेड़ को लेकर दिल्ली पुलिस के दावों पर सवाल उठाए थे। कांग्रेस उस समय केंद्र की सत्ता में थी। बाद में कांग्रेस नेतृत्व ने इस मामले में पार्टी के उन नेताओं के बयानों से खुद को अलग कर लिया था।

भाजपा इस मुद्दे पर पहले भी कांग्रेस पर निशाना साधती रही है। प्रसाद ने कहा कि ममता बनर्जी ने इस मुठभेड़ को ‘‘फर्जी’’ बताया था और इसकी न्यायिक जांच की मांग की थी। उन्होंने दावा किया कि बनर्जी ने उस वक्त कहा था कि अगर वह गलत साबित हुईं तो राजनीति से संन्यास ले लेंगी। उन्होंने पूछा, ‘‘क्या ये पार्टियां आज माफी मांगेंगी? क्या सोनिया गांधी और ममता बनर्जी माफी मांगेंगी? क्या वोट बैंक की राजनीति के लिए आतंकवाद के खिलाफ मुहिम को कमजोर किया जाएगा?’’

प्रसाद ने कहा कि अदालत के फैसले ने मामले का पटाक्षेप कर दिया है और यह अदालत और पुलिस की विजय है। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस और अन्य विपक्षी दल देश की सुरक्षा और आतंकवाद की लड़ाई के मामले में आतंकियों के पक्ष में खड़े हुए और दिल्ली में आतंकी हमले में पुलिस का मनोबल तोड़ने की कोशिश की गई। 

दिल्ली सरकार का 2021-22 का बजट होगा ‘देशभक्ति बजट’, लोगों को मुफ्त मिलेगी कोरोना वैक्सीन