BREAKING NEWS

मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾शीतकालीन सत्र से पूर्व विपक्ष में आई दरार, कल होने वाली कांग्रेस नेता खड़गे की बैठक से TMC ने बनाई दूरियां ◾उद्धव ठाकरे की सरकार के दो साल के कार्यकाल में विपक्ष पूरी तरह से दिशाहीन रहा : संजय राउत◾कांग्रेस Vs कांग्रेस : अधीर रंजन चौधरी के वार पर मनीष तिवारी का पलटवार◾कल से शुरू हो रहा है संसद का शीतकालीन सत्र, पेश होंगे ये 30 विधेयक◾BJP प्रवक्ता ने फूलन देवी को कहा 'डकैत', अखिलेश ने बताया 'निषाद समाज' का अपमान ◾तमिलनाडु बारिश : चेन्नई के कई इलाकों में जलभराव, IMD ने तटीय जिलों के लिए जारी किया रेड अलर्ट ◾गौतम गंभीर की जान को खतरा, ISIS कश्मीर ने तीसरी बार दी धमकी, कहा- कुछ नहीं कर सकती IPS श्वेता ◾महाराष्ट्र सरकार के 2 साल हुए पूरे, सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा- एमवीए सरकार ने आपदा को अवसर में बदला◾वाट्सऐप पर पेपर लीक के चलते रद्द हुआ UPTET एग्जाम, STF की टीम ने शुरू की धर-पकड़ ◾देश में कोविड-19 के 8 हजार से अधिक नए केस की पुष्टि, इतने मरीजों की हुई मौत ◾World Corona: विश्व में 26.10 करोड़ के पार पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा, जानें कितने लोगों ने गंवाई जान ◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन का जल्द पता लगाने की मिल रही 'सजा', दक्षिण अफ्रीका पर लग रहे यात्रा प्रतिबंध ◾ UP : प्रयागराज हत्या मामले को लेकर AAP आज करेगी विरोध प्रदर्शन, संजय सिंह ने राष्ट्रपति से चर्चा के लिए मांगा समय ◾पश्चिम बंगाल में बड़ा हादसा, सड़क किनारे खड़े ट्रक से टकराई तेज रफ्तार मेटाडोर, 18 की मौत◾

कल वायुसेना में शामिल होगा राफेल, समारोह में खास मेहमान होंगी फ्रांस रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ले

फ्रांस ने बुधवार को भारत को एशिया में अपना ‘‘अग्रणी’’ सामरिक साझेदारी करार दिया और कहा कि उनकी रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ले की आसन्न यात्रा का मकसद भारत के साथ ‘दूरगामी’ प्रभाव वाले रक्षा सहयोग को और मजबूत बनाना है। पार्ले बृहस्पतिवार को भारत आ रही हैं जहां वह अंबाला में एक समारोह में हिस्सा लेंगी जिसमें पांच राफेल विमान के पहले दस्ते को भारतीय वायु सेना में शामिल किया जायेगा । फ्रांस की रक्षा मंत्री अपने भारतीय समकक्ष राजनाथ सिंह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल के साथ वार्ता भी करेंगी । 

फ्रांस से पांच राफेल विमानों की पहली खेप 29 जुलाई को भारत पहुंची थी । इस उद्देश्य के लिये करीब चार वर्ष पहले फ्रांस के साथ 36 विमानों की खरीद के लिये भारत ने फ्रांस के साथ अंतर सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किये थे जिसकी कुल लागत 59 हजार करोड़ रूपये थी । 

फ्रांस के दूतावास के बयान के अनुसार, इस बातचीत का जोर हिन्द प्रशांत क्षेत्र में नौवहन सुरक्षा, आतंकवाद के खिलाफ सहयोग और सम्पूर्ण द्विपक्षीय रक्षा सहयोग को मजबूत बनाने पर होगा ।  दूतावास ने कहा, ‘‘ इनके बीच विविध विषयों पर चर्चा होगी जिसमें औद्योगिक एवं प्रौद्योगिकी गठजोड़ शामिल है जो मेक इन इंडिया कार्य्रक्रम के अनुरूप होगा । इसके साथ परिचालनात्मक रक्षा सहयोग खास तौर पर हिन्द प्रशांत में नौवहन सुरक्षा, कोविड-19 की पृष्ठभूमि में सशस्त्र बलों के संयुक्त अभ्सास को लेकर रूपरेखा बनाने तथा महत्वपूर्ण क्षेत्रीय एवं अंतररष्ट्रीय सामरिक मुद्दों पर भी चर्चा होगी । ’’ 

इसमें कहा गया है कि दोनों पक्ष फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच भारत फ्रांस साझेदारी को सामरिक स्वायत्ता के साथ और गहरा बनाने एवं विस्तार देने तथा बहुध्रुवीय व्यवस्था से जुड़े फैसले को आगे ले जाने के बारे में चर्चा करेंगे । 

दूतावास के अनुसार, वर्ष 2017 के बाद से पार्ले की यह भारत की तीसरी यात्रा है और कोरोना वायरस फैसने के बाद पहली आधिकारिक यात्रा में शामिल है। फ्रांस की रक्षा मंत्री के साथ देसॉ एविएशन, थेल्स ग्रूप, साफ्रान और एमबीडीए अधिकारी भी आयेंगे जो फ्रांस की अग्रणी रक्षा कंपनियों का प्रतिनिधित्व करते हैं और राफेल सौदे के तहत कई भारतीय कंपनियों के साथ साझेदारी कर रहे हैं । 

राफेल विमान का निर्माण देसॉ एविएशन ने किया है और इसे बृहस्पतिवार को राजनाथ सिंह, पार्ले और शीर्ष सैन्य अधिकारियों की मौजूदगी में अंबाला वायु सेना अड्डे पर एक समारोह में भारतीय वायु सेना में शामिल किया जायेगा । फ्रांस की रक्षा मंत्री अपनी यात्रा के दौरान राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में राष्ट्रीय समर स्मारक में भारत के वीर सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगी । 

गौरतलब है कि भारत और फ्रांस के बीच पिछले कुछ वर्षो के दौरान कई महत्वपूर्ण क्षेत्रों में सहयोग में काफी विस्तार हुआ है। रक्षा एवं सुरक्षा, असैन्य परमाणु सहयोग, कारोबार एवं निवेश भारत फ्रांस सामरिक साझेदारी के आधार हैं । भारत और फ्रांस ने हिन्द महासागर क्षेत्र, जलवायु परिवर्तन, सतत विकास और वृद्धि जैसे नये क्षेत्रों में भी सहयोग किया है।  

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एससीओ बैठक से अलग किर्गिस्तान के विदेश मंत्री से मुलाकात की