BREAKING NEWS

SC द्वारा गठित समिति कृषि कानून पर उत्पन्न संकट सुलझा नहीं पाएगी : बादल◾सोनिया ने केरल में चांडी की अगुवाई में बनाई चुनाव प्रबंधन समिति◾राहुल ने जारी किया 'खेती का खून' बुकलेट, जावड़ेकर बोले-कांग्रेस को खून शब्द से बहुत प्यार◾राहुल का वार- हिंदुस्तान के पास नहीं है कोई रणनीति, स्पष्ट संदेश नहीं दिया तो चीन उठाएगा फायदा ◾कृषि कानून पर SC द्वारा गठित समिति के सदस्यों की पहली बैठक, घनवट बोले- निजी राय को नहीं होने देंगे हावी ◾पश्चिम बंगाल : ममता बनर्जी का BJP पर जोरदार हमला, बताया नक्सलियों से ज्यादा खतरनाक◾कोविशील्ड के इस्तेमाल से कोई गंभीर एलर्जी की दिक्कत वाले लोग वैक्सीन नहीं लें : सीरम इंस्टीट्यूट ◾राहुल गांधी ने जारी की 'खेती का खून' बुकलेट, कहा- कृषि क्षेत्र पर पूंजीपतियों का हो जाएगा एकाधिकार ◾ब्रिस्बेन में चौथे टेस्ट में जीत के साथ भारत ने रचा इतिहास, कंगारुओं को सिखाया सबक ◾चीन मुद्दे को लेकर नड्डा के निशाने पर राहुल, पूछा-झूठ बोलना कब बंद करेगी कांग्रेस?◾BJP सांसद का पलटवार- 80 के दशक से जमीन पर कब्जा करके बैठा है चीन, कांग्रेस ने क्यों नहीं की कार्रवाई ◾2019 में TMC को किया आधा, 2021 में कर देंगे सफाया : दिलीप घोष◾अरुणाचल प्रदेश में चीन के गांव को बसाए जाने की रिपोर्ट पर सियासत तेज, राहुल ने PM पर साधा निशाना ◾देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के नए मामले 10 हजार से कम, 137 लोगों ने गंवाई जान ◾कांग्रेस मुख्यालय में आज राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कृषि कानूनों पर जारी करेंगे बुकलेट◾दुनियाभर में कोरोना का प्रकोप लगातार जारी, मरीजों का आंकड़ा 9.55 करोड़ तक पहुंचा◾TOP 5 NEWS 19 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾विदेशी आतंकियों की मौजूदगी से आतंकवाद विरोधी प्रयास हो रहे कमजोर : टी. एस. तिरुमूर्ति◾गुजरात : सूरत में सड़क किनारे सो रहे प्रवासी मजदूरों को ट्रक ने कुचला, 13 लोगों की मौत ◾शुभेंदु अधिकारी ने ममता के गढ़ में चुनाव लड़ने का किया ऐलान बोले- 50 हजार वोटों से हारेंगी, नहीं तो छोड़ दूंगा राजनीति ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

लोकसभा चुनाव में हार के बाद आज अमेठी दौरे पर राहुल गांधी

लोकसभा चुनाव में अमेठी संसदीय सीट पर केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से हारने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज यानि बुधवार को अपनी पहली यात्रा पर यहां आएंगे। केरल प्रान्त के वायनाड सीट से मौजूदा सांसद राहुल गांधी 15 साल तक अमेठी संसदीय सीट से सांसद रहे। 

अमेठी संसदीय सीट से इस वर्ष हुए लोकसभा चुनाव में हार मिलने के बाद पहली बार वे एक दिवसीय दौरे पर बुधवार को यहां आएंगे। इस दौरान राहुल गांधी पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात करेंगे और चुनाव में मिली हार के कारणों का पता लगायेंगे। 

जिला कांग्रेस प्रवक्ता अनिल सिंह ने बताया कि राहुल गौरीगंज में निर्मला देवी शैक्षिक संस्थान में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करेंगे। कांग्रेस ने इससे पहले पार्टी के गढ़ अमेठी में हार के कारणों का पता लगाने के लिए दो सदस्यीय पैनल का गठन किया था, जिसमें संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (सप्रंग) अध्यक्ष सोनिया गांधी के प्रतिनिधि के एल शर्मा और एआईसीसी सचिव जुबैर खान शामिल थे। 

दो सदसीय पैनल के निष्कर्षों के अनुसार, समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के कार्यकर्ताओं द्वारा जमीनी स्तर पर "असहयोग" को चुनाव के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था। सपा और बसपा ने लोकसभा चुनाव में गठबंधन किया था। गठबंधन ने कांग्रेस को समर्थन देने के लिए अमेठी और रायबरेली सीट से कोई उम्मीदवार चुनाव मैदान में नही उतारा था। 

स्थानीय नेताओं ने कथित तौर पर यह भी दावा किया कि राहुल गांधी की हार का कारण बसपा द्वारा कोई उम्मीदवार चुनाव मैदान में नही उतारना भी था। भले ही राहुल को वर्ष 2014 हुए चुनाव से अधिक वोट मिले। पैनल को बताया गया कि बसपा उम्मीदवार के न होने से उनकी पार्टी के वोट कांग्रेस को ट्रांसफर होने के बजाय भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार को हो गए। 

एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने यहां तक कहा, "पार्टी प्रमुख ने 2014 में 4,08,651 वोट हासिल किए थे, जबकि 2019 में उन्हें 4,13,994 वोट मिले थे। 2014 में अमेठी से बसपा उम्मीदवार को लगभग 57,000 वोट मिले थे। इस बार राहुल अमेठी सीट से लगभग 55,000 से हार गये।" 

स्थानीय कांग्रेस नेता योगेंद्र मिश्रा ने कहा, "बसपा का उम्मीदवार न होने कारण वोट कांग्रेस में जाने के बजाय भाजपा में स्थानांतरित हो गए। साथ ही, सपा सरकार में खनन मंत्री व गायत्री प्रजापति के बेटे और गौरीगंज से सपा विधायक राकेश प्रताप सिंह ने भाजपा को अपना समर्थन दिया था। सिंह ने नेतृत्व से निर्देश प्राप्त करने के बाद राहुल गांधी को समर्थन दिया, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।"