BREAKING NEWS

यदि सावरकर प्रधानमंत्री होते तो पाकिस्तान नहीं होता : उद्धव ठाकरे ◾राहुल ने अब्दुल्ला की हिरासत की निंदा की, तत्काल रिहाई की मांग की ◾नये वाहन कानून को लेकर ज्यादातर राज्य सहमत : गडकरी ◾यशवंत सिन्हा को श्रीनगर हवाईअड्डे से बाहर निकलने की नहीं मिली इजाजत, दिल्ली लौटे ◾2014 से पहले लोगों को लगता था कि क्या बहुदलीय लोकतंत्र विफल हो गया : गृह मंत्री◾देखें VIDEO : सुखोई 30 MKI से किया गया हवा से हवा में मार करने वाली ‘अस्त्र’ मिसाइल का प्रायोगिक परीक्षण◾नौसेना में 28 सितंबर को शामिल होगी स्कॉर्पीन श्रेणी की दूसरी पनडुब्बी ‘खंडेरी’ ◾भारत और चीनी सैनिकों के बीच झड़प नहीं हुई बल्कि यह तनातनी थी : जयशंकर ◾फारूक अब्दुल्ला की नजरबंदी लोकतंत्र पर दूसरा हमला : NC ◾JNU छात्रसंघ चुनाव में चारों पदों पर संयुक्त वाम के उम्मीदवारों की जीत ◾राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति सहित कई नेताओं ने PM मोदी को जन्मदिन की दी बधाई◾अयोध्या विवाद : SC ने वकीलों से बहस पूरी करने में लगने वाले समय के बारे में मांगी जानकारी◾J&K : पाकिस्तानी रेंजरों ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन , भारतीयों जवानों ने दिया मुहतोड़ जवाब◾TOP 20 NEWS 17 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत को एक पड़ोसी देश से ‘अलग तरह की चुनौती, उसे सामान्य व्यवहार करना चाहिए : जयशंकर ◾जन्मदिन पर PM मोदी ने मां हीराबेन से की मुलाकात, साथ में खाया खाना◾गृह मंत्री अमित शाह बोले- देश की सुरक्षा को लेकर कोई समझौता बर्दाश्त नहीं ◾आज देश सरदार पटेल के एक भारत-श्रेष्ठ भारत के सपने को साकार होते हुए देख रहा है : PM मोदी◾मायावती ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- गैर भरोसेमंद और धोखेबाज है◾शारदा चिट फंड घोटाला : कोलकाता HC ने राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई से किया इनकार◾

देश

लोकसभा चुनाव में हार के बाद आज अमेठी दौरे पर राहुल गांधी

लोकसभा चुनाव में अमेठी संसदीय सीट पर केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से हारने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज यानि बुधवार को अपनी पहली यात्रा पर यहां आएंगे। केरल प्रान्त के वायनाड सीट से मौजूदा सांसद राहुल गांधी 15 साल तक अमेठी संसदीय सीट से सांसद रहे। 

अमेठी संसदीय सीट से इस वर्ष हुए लोकसभा चुनाव में हार मिलने के बाद पहली बार वे एक दिवसीय दौरे पर बुधवार को यहां आएंगे। इस दौरान राहुल गांधी पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात करेंगे और चुनाव में मिली हार के कारणों का पता लगायेंगे। 

जिला कांग्रेस प्रवक्ता अनिल सिंह ने बताया कि राहुल गौरीगंज में निर्मला देवी शैक्षिक संस्थान में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करेंगे। कांग्रेस ने इससे पहले पार्टी के गढ़ अमेठी में हार के कारणों का पता लगाने के लिए दो सदस्यीय पैनल का गठन किया था, जिसमें संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (सप्रंग) अध्यक्ष सोनिया गांधी के प्रतिनिधि के एल शर्मा और एआईसीसी सचिव जुबैर खान शामिल थे। 

दो सदसीय पैनल के निष्कर्षों के अनुसार, समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के कार्यकर्ताओं द्वारा जमीनी स्तर पर "असहयोग" को चुनाव के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था। सपा और बसपा ने लोकसभा चुनाव में गठबंधन किया था। गठबंधन ने कांग्रेस को समर्थन देने के लिए अमेठी और रायबरेली सीट से कोई उम्मीदवार चुनाव मैदान में नही उतारा था। 

स्थानीय नेताओं ने कथित तौर पर यह भी दावा किया कि राहुल गांधी की हार का कारण बसपा द्वारा कोई उम्मीदवार चुनाव मैदान में नही उतारना भी था। भले ही राहुल को वर्ष 2014 हुए चुनाव से अधिक वोट मिले। पैनल को बताया गया कि बसपा उम्मीदवार के न होने से उनकी पार्टी के वोट कांग्रेस को ट्रांसफर होने के बजाय भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार को हो गए। 

एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने यहां तक कहा, "पार्टी प्रमुख ने 2014 में 4,08,651 वोट हासिल किए थे, जबकि 2019 में उन्हें 4,13,994 वोट मिले थे। 2014 में अमेठी से बसपा उम्मीदवार को लगभग 57,000 वोट मिले थे। इस बार राहुल अमेठी सीट से लगभग 55,000 से हार गये।" 

स्थानीय कांग्रेस नेता योगेंद्र मिश्रा ने कहा, "बसपा का उम्मीदवार न होने कारण वोट कांग्रेस में जाने के बजाय भाजपा में स्थानांतरित हो गए। साथ ही, सपा सरकार में खनन मंत्री व गायत्री प्रजापति के बेटे और गौरीगंज से सपा विधायक राकेश प्रताप सिंह ने भाजपा को अपना समर्थन दिया था। सिंह ने नेतृत्व से निर्देश प्राप्त करने के बाद राहुल गांधी को समर्थन दिया, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।"