BREAKING NEWS

बवाल के बाद किसानों को दिल्ली में एंट्री की अनुमति, बुराड़ी के निरंकारी ग्राउंड में प्रदर्शन कर सकेंगे◾सिडनी वनडे : भारत के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया ने पहले मैच में बनाया 374 रनों का विशाल स्कोर ◾प्रदर्शनकारी किसानों के साथ पुलिस की सख्ती पर CM अमरिंदर बोले - तुरंत बात करे केंद्र, इंतजार न कराये ◾बॉम्बे HC में कंगना रनौत की जीत, कोर्ट ने कहा- 'गलत इरादे' से BMC ने की मुंबई ऑफिस में तोड़फोड़◾टिकरी, सिंघु बॉर्डर पर किसानों और पुलिस के बीच झड़प, आंसू गैस के गोले दागे गए, कई मेट्रो स्टेशन बंद ◾महबूबा मुफ्ती का आरोप-एक बार फिर मुझे हिरासत में लिया गया, बाहर निकलने से रोक रही है पुलिस◾रोहिंग्या मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री का ओवैसी को जवाब, हमारे पास पूरी जानकारी, पुलिस करती है मॉनिटरिंग◾लव जिहाद : सपा सांसद ने कहा - मुस्लिम युवा हिंदू लड़कियों को बहन मानें, वर्ना होगा जबरदस्त टॉर्चर ◾देश में कोरोना मुक्त होने वालों की संख्या 87 लाख के पार, एक्टिव केस 4 लाख 55 हजार ◾दुर्घटनाग्रस्त होकर अरब सागर में गिरा भारतीय नेवी का मिग -29 K, लापता पायलट की खोज जारी◾कड़े सुरक्षा बंदोबस्त भी नहीं रोक पा रहे है अन्नदाताओं के कदम, दिल्ली के करीब पहुंचा किसान मार्च◾दुनियाभर में कोरोना महामारी का हाहाकार, पॉजिटिव मामलों की संख्या 6 करोड़ 8 लाख के पार ◾कप्तान कोहली के सवाल पर BCCI ने दिया बयान बीमार पिता को देखने के लिए मुंबई लौटे रोहित शर्मा◾IND vs AUS : ऑस्ट्रेलिया का टॉस जीत पहले बल्लेबाजी का फैसला◾गुजरात के राजकोट में कोविड-19 अस्पताल में भीषण आग लगने से 6 मरीजों की झुलस कर मौत◾आज का राशिफल ( 27 नवंबर 2020 )◾एफसी कोहली का 96 वर्ष की आयु में निधन; प्रधानमंत्री समेत कई हस्तियों ने जताया शोक◾PM मोदी 28 नवंबर को पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का करेंगे दौरा◾प्रधानमंत्री द्वारा तीसरे ग्लोबल रिन्यूबल एनर्जी इन्वेस्टर्स मीट एक्सपो का शुभारंभ, शिवराज हुए शामिल◾सड़क परियोजनाओं की मिली सौगात, सड़कें बेहतर होंगी तो लगेंगे उद्योग, मिलेगा रोजगार : नितिन गडकरी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

JNU परिसर में हमला ‘‘आतंकवादी वामपंथी छात्रों’’ की करतूत : राम माधव

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने शनिवार को आरोप लगाया कि दिल्ली स्थित जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में हिंसा की घटना कुछ ‘‘आतंकवादी वामपंथी छात्रों’’ की करतूत है जो दशकों से वहां हजारों छात्रों की पढ़ाई और शोध बाधित कर रहे हैं। उन्होंने पांच जनवरी को जेएनयू में हुई हिंसा को “वामपंथी और उनके समर्थकों की साजिश” करार दिया। 

राम माधव ने आरोप लगाया, ‘‘दशकों से हजारों छात्रों को वामपंथी छात्रों के आतंक की वजह से जेएनयू में प्रताड़ना का सामना करना पड़ रहा है। जो हिंसा अभी दिखी है वह इसी का नतीजा है। कुछ आतंकवादी वामपंथी छात्र हमेशा उन हजारों छात्रों के अधिकारों को बाधित करते हैं, जो जेएनयू में पढ़ते हैं और शोध करते हैं। 

मायावती का प्रियंका गांधी पर वार, कहा- यूपी में घड़ियाली आंसू बहाने आतीं है

उल्लेखनीय है कि रॉड और डंडों से लैस नकाबपोश लोगों ने 5 जनवरी की रात छात्रों और शिक्षकों पर हमला किया और सार्वजनिक संपत्ति में तोड़फोड़ की। इस घटना में कई लोग घायल हुए थे। वामपंथी छात्र संगठनों और आरएसएस से संबद्ध अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) हिंसा के लिए एक दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। 

जम्मू-कश्मीर के हालात के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में राम माधव ने दावा किया कि केंद्र शासित प्रदेश में स्थिति सामान्य हो रही है, काफी हद तक इंटरनेट सेवा बहाल कर दी गई है और हिरासत में लिए गए स्थानीय नेता रिहा किए जा रहे हैं।  उन्होंने दावा किया कि अब केवल 20 से 25 नेता ही हिरासत में हैं और उन्हें चरणबद्ध तरीके से रिहा किया जाएगा। 

राम माधव ने कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर में लोग सामान्य जीवन जी रहे हैं। वहां पर दो बड़ी पाबंदिया है। पहला, इंटरनेट पर रोक जिसे हटाने की तैयारी है। काफी हद तक मोबाइल सेवा बहाल कर दी गई है। वहीं हिरासत में लिए गए अधिकतर नेता बाहर हैं और मेरा विश्वास है कि सरकार बचे हुए 20-25 नेताओं को चरणबद्ध तरीके से रिहा कर देगी।’’ 

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर पर विशेष चर्चा करने की जरूरत नहीं हैं जैसा कि पहले वह देश के अन्य राज्यों की तरह नहीं था। बीजेपी नेता ने कहा कि विदेशी प्रतिनिधिमंडल को अशांत क्षेत्र में जाने की अनुमति देना दुनिया में जम्मू-कश्मीर के बारे में फैलाई गई भ्रांतियों को दूर करने के प्रयासों का हिस्सा है। 

JNU के पूर्व VC सुधीर कुमार सोपोरी ने कैंपस में हिंसा की घटनाओं को बताया निराशाजनक

राम माधव ने कहा, ‘‘सभी को स्थिति के अनुरूप जाने की अनुमति दी जाएगी।’’ उन्होंने यह बात विपक्षी नेताओं को जम्मू-कश्मीर जाने की अनुमति नहीं दिए जाने के सवाल पर कही।’’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की प्रशंसा करते हुए राम माधव ने दावा किया कि 90 फीसदी लोग जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 के प्रावधानों को निरस्त करने, राम मंदिर और संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) सहित केंद्र के फैसलों का समर्थन कर रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि सीएए भेदभावपूर्ण नहीं है जिसके खिलाफ पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। राम माधव ने कहा, ‘‘ नागरिकता अलग कानून नहीं है। सभी को कुछ अर्हताओं को पूरी कर नागरिकता हासिल करने का अधिकार है। यह संशोधन कुछ वर्गों को जल्द नागरिकता देने के लिए किया गया लेकिन लोगों को दुष्प्रचार के जरिये भ्रमित किया जा रहा है।’’ उन्होंने ने कहा, ‘‘कुछ लोग जो राजनीतिक रूप से मोदीजी का मुकाबला नहीं कर पा रहे हैं वे आतंकवाद और झूठ का इस्तेमाल कर देश में अव्यवस्था पैदा कर रहे हैं।’’