BREAKING NEWS

कोविड-19 : देश में संक्रमण के मामले 18 लाख के पार, स्वस्थ होने वालों की संख्या 11.86 लाख हुई◾पीएम मोदी, राजनाथ, नड्डा ने रक्षा बंधन पर दी देशवासियों को शुभकामनाएं ◾दिल्लीः उपराज्यपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री केजरीवाल ने रक्षाबंधन की बधाई दी ◾सुशांत राजपूत मामले की जांच के लिए मुंबई पहुंचे IPS विनय तिवारी को बीएमसी ने किया क्वारनटीन◾कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा भी कोरोना पॉजिटिव, अस्पताल में कराए गए भर्ती◾विदेशों से आने वाले यात्रियों के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने नए गाइडलाइन्स जारी किए ◾बिहार में बाढ़ की स्थिति और बिगड़ी, 53.67 लाख लोग बेहाल और जनजीवन बुरी तरह प्रभावित◾आईपीएल के लिए सरकार ने दी हरी झंडी, फाइनल 10 नवंबर को, चीनी प्रायोजक बरकरार ◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 4.41 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 9,509 नए केस◾ममता बनर्जी समेत अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के जल्द स्वस्थ होने की कामना की◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने प्रेम और भाईचारे के त्योहार रक्षाबंधन के अवसर पर देशवासियों को दी शुभकामनाएं◾तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित कोरोना पॉजिटिव पाए गए◾8 महीने बाद भी लटका है CAA , गृह मंत्रालय ने नियम बनाने के लिए तीन और महीने का समय मांगा◾बीते 24 घंटों में रिकॉर्ड 51,000 कोरोना मरीज हुए स्वस्थ, रिकवरी रेट बढ़कर हुआ 65.44 प्रतिशत◾कोरोना वायरस की चपेट में आए गृहमंत्री अमित शाह, ट्वीट कर दी जानकारी ◾राम मंदिर भूमि पूजन में शामिल होंगे महंत नरेंद्र गिरी, सुन्नी वक्फ बोर्ड को भी न्योता◾सुशांत सुसाइड केस : जांच में तेजी लाने के लिए पटना के सिटी SP विनय तिवारी को भेजा गया मुंबई ◾सुशांत सिंह राजपूत केस : केंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने CBI जांच की मांग को बताया जायज◾गैरकानूनी तरीके से नेताओं को हिरासत में लेने पर देश के लोकतंत्र को पहुंचता है नुकसान : राहुल गांधी◾UP की कैबिनेट मंत्री कमल वरुण का कोरोना संक्रमण से निधन, CM योगी ने जताया शोक ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दलितों के घर भोजन करने को सावित्री बाई फुले ने बताया बहुजन समाज का ‘अपमान’

बीजेपी नेताओ द्वारा दलितों के घरों में खाना खाने के चलन पर बहराइच सुरक्षित लोकसभा सीट से बीजेपी सांसद साध्वी सावित्री बाई फुले के बगावती सुर थमने का नाम नहीं ले रहे है। सावित्री बाई फुले ने इसे दिखावा और बहुजन समाज का ‘अपमान‘ करार दिया है। सांसद ने योगी सरकार के ग्राम स्वराज अभियान के तहत गांव-गांव दलितों के घर जाकर नेताओं के समरसता भोज पर सवाल उठाए। कहा कि बीजेपी नेताओं का अनुसूचित जाति के घर जाना व उनके बीच खाना-पीना अनुसूचित जाति के लोगों का सबसे बड़ा अपमान है।

सावित्री बाई फुले ने कहा कि बाबा साहब भीमराव आंबेडकर ने भारत के संविधान में जाति व्यवस्था को खत्म करते हुए सबको बराबर की जिंदगी जीने का अधिकार दिया है, लेकिन आज भी अनुसूचित जाति के प्रति लोगों की मानसिकता साफ नहीं है। उन्होंने कहा ‘‘इसीलिये लोग उनके घर में खाना खाने तो जाते हैं, लेकिन उनका बनाया हुआ खाना नहीं खाते। उनके लिए बाहर से बर्तन आते हैं, बाहर से खाना बनाने वाले आते हैं, वे ही परोसते भी हैं।

दिखावे के लिये दलित के दरवाजे पर खाना खाकर फोटो खिंचवायी जा रही है और उन्हें व्हाट्सअप, फेसबुक पर वायरल किये जाने के साथ-साथ टीवी चैनलों पर चलवाकर वाहवाही लूटी जा रही है। इससे पूरे देश के बहुजन समाज का अपमान हो रहा है।’’पिछले दिनों ही उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री सुरेश राणा द्वारा एक दलित के घर में रात्रि भोज पर जाने को लेकर विवाद उत्पन्न हो गया था, जहां आरोप लगे थे कि मंत्री अपनी तरफ से भोजन और पानी लेकर वहां पहुंचे थे।

सावित्री ने कहा कि बात तो तब हो जब दलित के हाथ का बनाया हुआ खाना खाएं और खुद उसके बर्तनों को धोएं। उन्होंने कहा कि अगर अनुसूचित जाति के लोगों का सम्मान बढ़ाना है तो उनके घर पर खाना खाने के बजाय उनके लिये रोटी, कपड़े, मकान और रोजगार का इंतजाम किया जाए। हम सरकार से मांग करते हैं कि वह अनुसूचित जाति के लोगों के लिये नौकरियां सृजित करे। केवल खाना खाने से अनुसूचित जाति के लोग आपसे नहीं जुड़ेंगे।

क्या वह इस मुद्दे को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के सामने रखेंगी, इस सवाल पर पार्टी सांसद ने कोई साफ जवाब नहीं दिया। सावित्री ने आरोप लगाया कि अनुसूचित जाति के लोगों को आज भी हीन भावना से देखा जाता है। मैं सांसद हूं और मुझे बीजेपी सांसद के बजाय दलित सांसद कहा जाता है। देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को दलित राष्ट्रपति कहा जाता है। क्या यह अनुसूचित जाति के लोगों का अपमान नहीं है। उन्होंने कहा कि इस नजरिये से आज भी संविधान को नहीं माना जा रहा है।

अगर संविधान को उसकी मूल भावना से लागू कर दिया जाए तो देश में गैर बराबरी और जाति व्यवस्था खुद ब खुद ही खत्म हो जाएगी। आज आंबेडकर प्रतिमा को तोड़ा जा रहा है और उसे खंडित करने वालों की गिरफ्तारी नहीं हो रही है। घोड़ी चढ़ने पर दलित की हत्या की जा रही है। इससे पहले पिछले महीने सांसद सावित्री ने उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित कांशीराम स्मृति उपवन में 'भारतीय संविधान और आरक्षण बचाओ महारैली का आयोजन' कर सरकार के लिए असहज स्थिति पैदा कर दी थी।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहाँ क्लिक  करें।