BREAKING NEWS

दिल्ली में कोरोना के 412 नये मामले आए सामने, मृतक संख्या 288 हुई ◾LAC पर चीन से बिगड़ते हालात को लेकर PM मोदी ने की हाईलेवल मीटिंग, NSA, CDS और तीनों सेना प्रमुख हुए शामिल◾महाराष्ट्र : उद्धव सरकार पर भड़के रेल मंत्री पीयूष गोयल, कहा- राज्य में सरकार नाम की कोई चीज नहीं◾महाराष्ट्र : फडणवीस की CM ठाकरे को नसीहत, कहा- कोरोना से निपटने में मजबूत नेतृत्व का करें प्रदर्शन ◾दिल्ली से अब तक करीब 2.41 लाख लोगों को 196 ट्रेनों से उनके गृह राज्य वापस भेजा : सिसोदिया◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- ढील दिए जाने के बाद 5 राज्यों में बढ़े कोरोना मामले◾राजनाथ सिंह ने CDS और तीनों सेना प्रमुखों के साथ की बैठक, सड़क का निर्माण कार्य रहेगा जारी ◾राहुल गांधी के वार पर BJP का पलटवार, नकवी ने कांग्रेस को बताया राजनीतिक पाखंड की प्रयोगशाला◾चीन और नेपाल से जुड़े मुद्दों पर पारदर्शिता की जरूरत, केंद्र को करना चाहिए स्पष्ट : राहुल गांधी◾कोविड-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 412 लोगों में संक्रमण की पुष्टि, पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 14 हजार 465◾बिहार बोर्ड 10वीं कक्षा का रिजल्ट जारी, 96.20 प्रतिशत अंक के साथ टॉपर बने हिमांशु राज◾राहुल गांधी ने लॉकडाउन को बताया विफल, बोले-आगे की रणनीति बताएं प्रधानमंत्री ◾तबलीगी जमात मामले में दिल्ली पुलिस ने 83 विदेशी नागरिकों के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट◾उद्धव ठाकरे और शरद पवार की मुलाकात पर बोले राउत-सरकार मजबूत, चिंता करने की जरूरत नहीं◾कोरोना वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, US कंपनी ने 131 लोगों पर शुरू किया ह्यूमन ट्रायल◾दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर पर लगा भयंकर जाम, सिर्फ पास वालों को मिल रही है जाने की इजाजत◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का खौफ जारी, कुल संक्रमितों का आंकड़ा 55 लाख के करीब ◾पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 45 हजार के पार, अब तक 4167 लोगों ने गंवाई जान ◾दिल्ली : तुगलकाबाद गांव की झुग्गियों में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची दमकल की 30 गाड़ियां ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

INX मीडिया मामले में चिदंबरम की अपील पर 5 सितंबर को फैसला सुनाएगा सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि आईएनएक्स मीडिया धन शोधन मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की अपील पर पांच सितंबर को फैसला सुनाया जाएगा। चिदंबरम ने अपनी अग्रिम जमानत याचिका खारिज करने के दिल्ली हाई कोर्ट के 20 अगस्त के फैसले को चुनौती दे रखी है। 

न्यायमूर्ति आर भानुमति और न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना की पीठ ने आईएनएक्स मीडिया धन शोधन मामले में चिदंबरम को गिरफ्तारी से मिले संरक्षण की अवधि भी पांच सितंबर तक बढ़ा दी है। इस बीच, पीठ ने प्रवर्तन निदेशालय को वे दस्तावेज और सामग्री सीलबंद लिफाफे में पेश करने का निर्देश दिया है जिसे वह इस मामले में कोर्ट के अवलोकन के लिए देना चाहता था। 

पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने सोमवार तक सीबीआई की हिरासत में रहने की कोर्ट में पेशकश की। लेकिन पीठ ने इस पर कोई टिप्पणी करने से इंकार कर दिया क्योंकि सालिसीटर जनरल तुषार मेहता का कहना था कि हिरासत की अवधि तो सिर्फ सीबीआई कोर्ट ही बढ़ा सकती है। 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह इस सवाल पर निर्णय लेगी कि क्या उसे प्रवर्तन निदेशालय द्वारा सीलबंद लिफाफे में पेश दस्तावेजों का अवलोकन करना चाहिए। इससे पहले, दिन में सुनवाई के दौरान प्रवर्तन निदेशालय की ओर से सालिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट में बहस करते हुए कहा कि धन शोधन ‘समाज और राष्ट्र’ के खिलाफ अपराध है और आईएनएक्स मीडिया धन शोधन मामले में बड़ी साजिश का पता लगाने के लिए पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम से हिरासत में पूछताछ करने की आवश्यकता है। 

भारत के आंतरिक मामलों पर पाकिस्तान के बयानों की हम कड़ी निंदा करते है : विदेश मंत्रालय

मेहता ने पीठ से कहा कि वह फिलहाल चिदंबरम से जांच के दौरान जुटाई गई सामग्री को नहीं दिखा सकता क्योंकि धन किन-किन हाथों से गुजरा इससे जुड़े साक्ष्य को नष्ट किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि ‘अग्रिम जमानत के स्तर पर आरोपी को सामग्री, सूत्र और साक्ष्य दिखाने की कोई जरूरत नहीं है’ और जांच करना जांच एजेंसी का विशेषाधिकार वाला क्षेत्र है। 

उन्होंने दलील दी , ‘‘धन शोधन समाज और राष्ट्र के खिलाफ अपराध है और समूची साजिश का पता लगाना जांच एजेंसी का अधिकार और कर्तव्य है।’’ मेहता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट लगातार कहती रही है कि आर्थिक अपराध ‘गंभीर से गंभीरतम’ प्रकृति के हैं, भले ही उनके लिए सजा कुछ भी निर्धारित हो। 

मेहता ने कहा, ‘‘मेरे पास 2009 के बाद और अब भी (आईएनएक्स मीडिया मामले में) धन शोधन जारी रहने की बात दर्शाने के लिए सामग्री है।’’ उन्होंने कहा कि निदेशालय चिदंबरम से हिरासत में और अग्रिम जमानत के ‘सुरक्षा कवच’ के बिना पूछताछ करना चाहता है। 

आईएनएक्स मीडिया प्रकरण में सीबीआई ने 15 मई 2017 को दर्ज एक प्राथमिकी में आरोप लगाया था कि 2007 में वित्त मंत्री चिदंबरम के कार्यकाल में आईएनएक्स मीडिया समूह को विदेश से 305 करोड़ का निवेश प्राप्त करने के लिए विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड की मंजूरी देने में अनियमिततायें की गयीं। 

जांच ब्यूरो की प्राथमिकी के बाद प्रवर्तन निदेशालय ने भी 2017 में धन शोधन का मामला दर्ज किया था। दिल्ली हाई कोर्ट ने सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय के मामलों में चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी। चिदंबरम ने दोनों ही आदेशों को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। 

लेकिन चूंकि इसके बाद चिदंबरम की गिरफ्तारी हो गयी थी, इसलिए कोर्ट ने सीबीआई के मामले में दायर अपील को निरर्थक करार देते हुए उसका निस्तारण कर दिया था। कोर्ट इस समय प्रवर्तन निदेशालय के मामले में चिदंबरम की अपील पर सुनवाई कर रहा था।