BREAKING NEWS

केजरीवाल ने BJP पर साधा निशाना - बिजली सब्सिडी खत्म कर देगी भाजपा◾महाराष्ट्र, हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए मतदान आज , देशभर में 51 विधानसभा सीटों के लिए भी उपचुनाव◾पोस्ट पेमेंट बैंक ने चुनौतियों को अवसर में बदला : PM मोदी ◾प्याज के मुद्दे पर भाजपा का केजरीवाल पर हमला, मुख्यमंत्री आवास का होगा घेराव◾सीमा पार तीन आतंकी शिविर ध्वस्त किये गए, 6-10 पाक सैनिक ढेर : सेना प्रमुख ◾PoK में भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई : सेना ने LoC पार जैश, हिजबुल के 35 आतंकी मार गिराए◾30 अक्टूबर को जामिया के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति कोविंद होंगे मुख्य अतिथि◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए कल होगा मतदान, BJP लगातार दूसरे कार्यकाल की कोशिश में ◾वैश्विक आर्थिक जोखिमों के कारण बहुपक्षीय सहयोग को मजबूत करने की जरूरत : सीतारमण ◾मनमोहन सिंह करतारपुर गलियारे के औपचारिक उद्घाटन में नहीं होंगे शामिल : सूत्र◾TOP 20 NEWS 20 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत की तरफ से गोलीबारी में हमारे 4 जवान शहीद, हमने भारतीय सेना के 9 सैनिकों को मार गिराया : PAK◾कमलेश तिवारी हत्याकांड: योगी से मिले परिजन, पत्नी बोली- CM ने हर संभव कार्रवाई का दिया आश्‍वासन◾भारतीय सेना ने PoK में तबाह किए आतंकी कैंप, 5 पाकिस्तानी सैनिक ढेर◾अभिजीत बनर्जी को लेकर BJP पर राहुल ने साधा निशाना, कहा- ये बड़े लोग नफरत से अंधे हो गए है◾अभिजीत बनर्जी के नोबेल पुरस्कार को राजनीतिक चश्मे से न देखा जाए : मायावती◾क्रिप्टोकरेंसी को लेकर सतर्कता बरत रहे हैं देश : निर्मला सीतारमण◾पाकिस्तान ने किया संषर्ष विराम का उल्लंघन, 2 सैनिक शहीद, 1 नागरिक की मौत◾तुर्की ने कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का दिया साथ, PM मोदी ने रद्द की यात्रा ◾ओवैसी बोले- एक दिन में 15 बोतल किया रक्तदान, हुए ट्रोल◾

देश

INX मीडिया मामले में चिदंबरम की अपील पर 5 सितंबर को फैसला सुनाएगा सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि आईएनएक्स मीडिया धन शोधन मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की अपील पर पांच सितंबर को फैसला सुनाया जाएगा। चिदंबरम ने अपनी अग्रिम जमानत याचिका खारिज करने के दिल्ली हाई कोर्ट के 20 अगस्त के फैसले को चुनौती दे रखी है। 

न्यायमूर्ति आर भानुमति और न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना की पीठ ने आईएनएक्स मीडिया धन शोधन मामले में चिदंबरम को गिरफ्तारी से मिले संरक्षण की अवधि भी पांच सितंबर तक बढ़ा दी है। इस बीच, पीठ ने प्रवर्तन निदेशालय को वे दस्तावेज और सामग्री सीलबंद लिफाफे में पेश करने का निर्देश दिया है जिसे वह इस मामले में कोर्ट के अवलोकन के लिए देना चाहता था। 

पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने सोमवार तक सीबीआई की हिरासत में रहने की कोर्ट में पेशकश की। लेकिन पीठ ने इस पर कोई टिप्पणी करने से इंकार कर दिया क्योंकि सालिसीटर जनरल तुषार मेहता का कहना था कि हिरासत की अवधि तो सिर्फ सीबीआई कोर्ट ही बढ़ा सकती है। 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह इस सवाल पर निर्णय लेगी कि क्या उसे प्रवर्तन निदेशालय द्वारा सीलबंद लिफाफे में पेश दस्तावेजों का अवलोकन करना चाहिए। इससे पहले, दिन में सुनवाई के दौरान प्रवर्तन निदेशालय की ओर से सालिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट में बहस करते हुए कहा कि धन शोधन ‘समाज और राष्ट्र’ के खिलाफ अपराध है और आईएनएक्स मीडिया धन शोधन मामले में बड़ी साजिश का पता लगाने के लिए पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम से हिरासत में पूछताछ करने की आवश्यकता है। 

भारत के आंतरिक मामलों पर पाकिस्तान के बयानों की हम कड़ी निंदा करते है : विदेश मंत्रालय

मेहता ने पीठ से कहा कि वह फिलहाल चिदंबरम से जांच के दौरान जुटाई गई सामग्री को नहीं दिखा सकता क्योंकि धन किन-किन हाथों से गुजरा इससे जुड़े साक्ष्य को नष्ट किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि ‘अग्रिम जमानत के स्तर पर आरोपी को सामग्री, सूत्र और साक्ष्य दिखाने की कोई जरूरत नहीं है’ और जांच करना जांच एजेंसी का विशेषाधिकार वाला क्षेत्र है। 

उन्होंने दलील दी , ‘‘धन शोधन समाज और राष्ट्र के खिलाफ अपराध है और समूची साजिश का पता लगाना जांच एजेंसी का अधिकार और कर्तव्य है।’’ मेहता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट लगातार कहती रही है कि आर्थिक अपराध ‘गंभीर से गंभीरतम’ प्रकृति के हैं, भले ही उनके लिए सजा कुछ भी निर्धारित हो। 

मेहता ने कहा, ‘‘मेरे पास 2009 के बाद और अब भी (आईएनएक्स मीडिया मामले में) धन शोधन जारी रहने की बात दर्शाने के लिए सामग्री है।’’ उन्होंने कहा कि निदेशालय चिदंबरम से हिरासत में और अग्रिम जमानत के ‘सुरक्षा कवच’ के बिना पूछताछ करना चाहता है। 

आईएनएक्स मीडिया प्रकरण में सीबीआई ने 15 मई 2017 को दर्ज एक प्राथमिकी में आरोप लगाया था कि 2007 में वित्त मंत्री चिदंबरम के कार्यकाल में आईएनएक्स मीडिया समूह को विदेश से 305 करोड़ का निवेश प्राप्त करने के लिए विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड की मंजूरी देने में अनियमिततायें की गयीं। 

जांच ब्यूरो की प्राथमिकी के बाद प्रवर्तन निदेशालय ने भी 2017 में धन शोधन का मामला दर्ज किया था। दिल्ली हाई कोर्ट ने सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय के मामलों में चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी। चिदंबरम ने दोनों ही आदेशों को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। 

लेकिन चूंकि इसके बाद चिदंबरम की गिरफ्तारी हो गयी थी, इसलिए कोर्ट ने सीबीआई के मामले में दायर अपील को निरर्थक करार देते हुए उसका निस्तारण कर दिया था। कोर्ट इस समय प्रवर्तन निदेशालय के मामले में चिदंबरम की अपील पर सुनवाई कर रहा था।