BREAKING NEWS

दिल्ली में समाप्ती की ओर कोरोना, 24 घंटे में 135 नए मामले, 7 मरीजों की गई जान◾24 जून को पीएम मोदी ने बुलाई सर्वदलीय मीटिंग, कांग्रेस बोली- केंद्र से नहीं मिला कोई निमंत्रण ◾पंचत्व में विलीन हुए फ्लाइंग सिंख मिल्खा सिंह, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार◾आगरा के पारस अस्पताल को क्लीन चिट मिले पर प्रियंका बोली- सरकार ने न्याय की उम्मीद खत्म की◾यूपी चुनावों से पहले भाजपा ने पूर्व IAS एके शर्मा को दी बड़ी जिम्मेदारी, नियुक्त किया प्रदेश उपाध्यक्ष ◾तीन महीने बाद उत्तर प्रदेश में कम हुए कोरोना के एक्टिव केस, 24 घंटे में सामने आये संक्रमण के 294 नए मामले◾ओम बिरला द्वारा उठाए गए कदमों ने हमारे संसदीय लोकतंत्र को समृद्ध किया : PM मोदी◾गाजियाबाद : बुजुर्ग के साथ मारपीट मामले में सपा नेता उम्मेद पहलवान गिरफ्तार◾हम लोकतंत्र, संविधान और कानून के साथ समझौता नहीं कर सकते : राज्यपाल धनखड़◾राजस्थान में 'राजे ही भाजपा, भाजपा ही राजे' से मचा कोहराम, पूनिया बोले- पार्टी का संविधान सर्वोपरि◾अनलॉक में मिली ढील... कहीं बन ना जाए कोरोना की डील, केंद्र का राज्यों को आदेश अपनाए '3T+V' फॉर्मूला◾IAF में 2022 तक 36 राफेल को शामिल करने का लक्ष्य, LAC विवाद पर चीन के साथ बातचीत जारी : भदौरिया ◾CBSE 12वीं परीक्षा की रिजल्ट स्‍कीम से असंतुष्‍ट छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती◾मिल्खा को जिंदगी ने दिए काफी जख्म, संघर्षो की नींव पर उपलब्धियों की गाथा लिखने वाला बना 'फ्लाइंग सिख'◾AIIMS चीफ की चेतावनी- 2 महीने के अंदर भारत में कोरोना की तीसरी लहर दे सकती है दस्तक ◾150 दिनों में 30 करोड़ लोगों को लगाई गई कोरोना वैक्सीन, जो बाइडेन ने घोषित किया 'समर ऑफ जॉय'◾असम में 4.2 तीव्रता का भूकंप, पूर्वोत्तर क्षेत्र में 24 घंटे में पांच बार हिली धरती ◾Covid 19 : देशभर में पिछले 24 घंटे में 60753 नए केस, कोरोना संक्रमण से 1,647 लोगों ने गंवाई जान ◾विश्वभर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 17.77 करोड़, मृतकों की संख्या 38.4 लाख से अधिक◾नहीं रहे महान एथलीट मिल्खा सिंह, राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री समेत कई नेताओं ने जताया शोक◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सोशल मीडिया कंपनी के कर्मचारियों को जेल भेजने की धमकी कभी नहीं दी: IT मंत्रालय

देश में केंद्र सरकार ने सोशल मीडिया की निगरानी और उसे रेगुलेट करने के लिए नियमों का ऐलान किया है। इसके बाद सोशल मीडिया पर अफवाहें उड़ने लगी कि सोशल मीडिया कंपनियों के कर्मचारियों को जेल भेजने का प्रावधान भी किया गया है। इस अफवाह को केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने सिरे से खारिज करते हुए कहा कि सरकार ने कभी भी किसी भी सोशल मीडिया कंपनी के कर्मचारी को जेल भेजने की धमकी नहीं दी है।

मंत्रालय ने फेसबुक, व्हाट्सएप और ट्विटर आदि के कर्मचारियों के लिये जेल की सजा का प्रावधान किये जाने की खबरों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म अन्य व्यवसायों की तरह भारत के कानूनों और भारत के संविधान का पालन करने के लिये बाध्य हैं। उसने कहा, ‘‘जैसा कि संसद में व्यक्त किया गया है, सोशल मीडिया के उपयोगकर्ता सरकार, प्रधानमंत्री या किसी भी मंत्री की आलोचना कर सकते हैं, लेकिन हिंसा को बढ़ावा देना, सांप्रदायिक विभाजन और आतंकवाद के प्रसार को रोकना होगा।’’

सरकार ने ट्विटर को सैकड़ों पोस्ट, अकाउंट और हैशटैग हटाने का आदेश दिया था। सरकार का कहना है कि ये नियमों का उल्लंघन करते हैं। ट्विटर ने शुरू में पूरी तरह से इसका अनुपालन नहीं किया, लेकिन सरकार द्वारा दंडात्मक प्रावधानों का हवाला देने के बाद उसने पूरी तरह से अमल किया।