BREAKING NEWS

अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री से मुलाकात की ◾ओवैसी बोले- डराइए मत, शाह बोले- अगर डर जेहन में है तो क्या करें ◾मोदी ने असम के मुख्यमंत्री से फोन पर बात की, बाढ़ का हाल पूछा ◾Top 20 News -15 July : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾विश्वास मत के दौरान अनुपस्थित रह सकते है कर्नाटक के बागी विधायक ◾ बिहार में बाढ़ का कहर जारी, 55 प्रखंड के 18 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित ◾उदयपुर में बढ़ा तनाव : उग्र भीड़ ने दो रोडवेज बसें फूंकी, पुलिसकर्मियों पर किया पथराव◾लोकसभा में NIA संशोधन विधेयक 2019 को मिली मंजूरी◾सिद्धू के इस्तीफे पर बोले कैप्टन - यदि वह अपना काम नहीं करना चाहते, तो मैं कुछ नहीं कर सकता◾NIA कानून का इस्तेमाल शुद्ध रूप से आतंकवाद को खत्म करने के लिए ही करेंगे : अमित शाह ◾हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल नियुक्त हुए कलराज मिश्रा, आचार्य देवव्रत को भेजा गया गुजरात ◾ओवैसी को शाह की नसीहत, बोले - सुनने की भी आदत डालिए साहब, इस तरह से नहीं चलेगा◾बीजेपी ने CM कुमारस्वामी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की मांग की ◾सूरत रेप मामले में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की आसाराम की जमानत याचिका◾इलाहाबाद हाई कोर्ट से अगवा हुए युवक-युवती फतेहपुर से बरामद, अपहरणकर्ता गिरफ्तार ◾इलाहाबाद HC का आदेश, BJP विधायक की बेटी साक्षी और अजितेश को मिलेगी सुरक्षा◾बागी कर्नाटक विधायकों ने फिर लिखा पुलिस को पत्र, कहा- कांग्रेसी नेताओं से खतरा ◾हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत ढही , 6 जवान समेत सात लोगों की मौत◾चंद्रयान-2 का काउंटडाउन रोका गया , जल्द ही नई तारीख का होगा ऐलान !◾World Cup 2019 ENG vs NZ : स्टोक्स और ‘बाउंड्री’ के दम पर इंग्लैंड बना विश्व चैंपियन ◾

देश

कुछ कंपनियां दवाओं की कीमत वास्तविक मूल्य से 3000 प्रतिशत अधिक निर्धारित करती हैं : सरकार

नयी दिल्ली : सरकार ने शुक्रवार को राज्यसभा में यह चौंकाने वाल तथ्य स्वीकार किया कि कुछ दवा कंपनियां दवाओं की अधिकतम खुदरा कीमत उनकी वास्तविक कीमत से 3000 प्रतिशत अधिक निर्धारित करती हैं। 

रसायन एवं उर्वरक मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा ने राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में उच्च सदन को बताया कि सरकार इस बात से अवगत है कि ऐसे उदाहरण हैं जहां एक दवा पर छपी अधिकतम खुदरा कीमत उसके उत्पादन की लागत के 3000 प्रतिशत से अधिक है। कांग्रेस के मोतीलाल वोरा ने पूछा था कि क्या सरकार को यह जानकारी है कि दवा निर्माता कंपनियां दवाओं की कीमत उनके वास्तविक मूल्य से 3000 प्रतिशत अधिक निर्धारित करती हैं, जिनके कारण मरीजों के लिये दवा खरीदना कठिन हो गया है। 

इसके जवाब में मंत्री ने कहा, ‘‘जी, हां। सरकार इस बात से अवगत है कि ऐसे उदाहरण हैं जहां एक दवा पर छपी एमआरपी उसके उत्पादन की लागत का 3000 प्रतिशत से अधिक है।’’ दवा कंपनियों के इस कदाचार को खत्म करने और निर्धारित सीमा तक इन कंपनियों का लाभ सुनिश्चित करने के लिये कोई कानूनी व्यवस्था बनाने से जुड़े सवाल के जवाब में गौड़ा ने कहा, ‘‘औषधि कंपनियों के मुनाफे की अधिकतम सीमा निर्धारित करने के लिये सरकार के समक्ष कोई प्रस्ताव नहीं है।’’ 

गौड़ा ने कहा कि दवाओं की कीमतें देश में औषध मूल्य नियंत्रण आदेश 2013 के प्रावधानों के अनुसार विनियमित होती है। 
भाजपा के विकास महात्मे के उचित मूल्य पर दवायें उपलब्ध कराने से जुड़ी ‘प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि योजना’ से जुड़े सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि इस साल आठ जुलाई तक देश में 5415 जन औषधि केन्द्र खोले गये हैं। इन औषधि केन्द्रों पर 900 प्रकार दवायें और 154 सर्जिकल सामग्री उपलब्ध करायी जाती है।