BREAKING NEWS

कोविड टीकाकरण में बना विश्व रिकॉर्ड, एक दिन में लगे सवा दो करोड़ से ज्यादा टीके◾उप्र में पांच साल में बेरोजगारी दर 17 प्रतिशत से घटकर चार-पांच प्रतिशत रह गई : योगी◾जीएसटी काउंसिल बैठक: कई दवाईयां GST मुक्त, पेट्रोल-डीजल पर लिया ये फैसला◾बिना समझौते के बनी तालिबान सरकार, दुनिया सोच-समझकर फैसला ले : PM मोदी◾बंटवारे के समय बरती जाती सावधानियां तो करतापुर साहिब पाकिस्तान में नहीं भारत में होता: राजनाथ सिंह ◾शोएब ने न्यूजीलैंड पर खेल की हत्या करने का लगाया आरोप, बाबर आजम बोले- श्रृंखला रद्द होने से निराश हूं◾प्रियंका की यूपी सरकार से मांग, कहा- मूसलाधार बारिश से नुकसान झेलने वाले किसानों को मिले मुआवजा◾नितिन गडकरी हर महीने यूट्यूब से चार लाख रुपये कमा रहे, बताया कैसे मिल रहा फायदा◾दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 33 नए मामले सामने आए, 56 लोग ठीक हुए और 1 की मौत◾स्मृति ईरानी का कांग्रेस पर तंज, कहा- उन्होंने कभी अमेठी का भला नहीं किया ◾अब्बास नकवी ने विपक्ष पर साधा निशाना, कहा- UP में अपराधियों की हिरासत” बनाम “अपराध की हिफाज़त” बड़ा मुद्दा◾न्यूजीलैंड ने की पाकिस्तान की फजीहत, मैच से ठीक पहले कीवी टीम ने रद्द किया दौरा◾बिहार चुनाव में EVM और DM ने की बेईमानी, UP में रहना होगा सावधान : अखिलेश यादव◾PM मोदी के जन्मदिन को लेकर कांग्रेस का तंज- कौन सी उपलब्धि का मनाया जाए जश्न ◾PM मोदी के जन्मदिन पर मेगा वैक्सीनेशन अभियान, दोपहर तक लगी 1 करोड़ से ज्यादा डोज ◾सचिन वाजे का खुलासा- तबादले के आदेश रुकवाने के लिए देशमुख और अनिल परब को मिले 40 करोड़ रुपए ◾अगले लोकसभा चुनाव से पहले भक्तों के लिए खोल दिया जाएगा राम मंदिर, दिसंबर 2023 से होंगे दर्शन◾SCO समिट में बोले PM मोदी- दुनिया के लिए कट्टरता एक बड़ी चुनौती, अफगानिस्तान है इसका उदाहरण◾यूपी में मानसून की भीषण तबाही जारी, अबतक 42 लोगों की मौत, ये जिले है सबसे ज्यादा प्रभावित ◾World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 23 करोड़ के करीब, साढ़े 46 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

CWC मीटिंग में चुनावी हार पर बोलीं सोनिया- हमें चीजों को करना होगा दुरुस्त, केंद्र से की फ्री वैक्सीन की मांग

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने चार राज्यों और एक केंद्रशासित प्रदेश के हालिया विधानसभा चुनावा में पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन पर चिंता प्रकट करते हुए सोमवार को कहा कि यह परिणाम स्पष्ट करते हैं कि कांग्रेस में चीजों को दुरुस्त करना होगा। उन्होंने कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की डिजिटल बैठक में यह भी कहा कि वह इस चुनावी हार के कारणों पर विचार करने के लिए एक छोटे समूह का गठन करना चाहती हैं।

इन गंभीर झटकों का संज्ञान लेने की जरूरत 

सोनिया ने कहा, ‘‘हमें इन गंभीर झटकों का संज्ञान लेने की जरूरत है। यह कहना कम होगा कि हम बहुत निराशा हैं। मेरा इरादा है कि इन झटकों के कारण रहे हर पहलू पर गौर करने के लिए एक छोटे का समूह का गठन करूं और उससे बहुत जल्द रिपोर्ट ली जाए।’’

अगर हम तथ्यों को सही ढंग से नहीं देखते तो हम सही सबक नहीं लेंगे

उन्होंने कहा, ‘‘हमें इसे समझना होगा कि हम केरल और असम में मौजूदा सरकारों को हटाने में विफल क्यों रहे तथा बंगाल में हमारा खाता तक क्यों नहीं खुला? इन सवालों के कुछ असहज करने वाले सबक जरूर होंगे, लेकिन अगर हम वास्तविकता का सामना नहीं करते, अगर हम तथ्यों को सही ढंग से नहीं देखते तो हम सही सबक नहीं लेंगे।’’

चुनाव नतीजें स्पष्ट तौर पर बताते हैं कि हमें अपनी चीजों को दुरुस्त करना होगा

सोनिया ने कहा, ‘‘जब हम गत 22 जनवरी को मिले थे तो हमने फैसला किया था कि कांग्रेस के अध्यक्ष का चुनाव जून के मध्य तक पूरा हो जाएगा। चुनाव प्राधिकरण के प्रमुख मधुसूदन मिस्त्री ने चुनाव कार्यक्रम तय किया है। वेणुगोपाल कोविड-19 और चुनाव नतीजों पर चर्चा के बाद इसे पढ़ेंगे।’’ उन्होंने इस बात पर जोर दिया, ‘‘ये चुनाव नतीजें स्पष्ट तौर पर बताते हैं कि हमें अपनी चीजों को दुरुस्त करना होगा।’’

केंद्र सरकार ने महामारी से निपटने में दायित्वों से पल्ला झाड़ते हुए टीकाकरण का जिम्मा राज्यों को सौंप दिया 

वहीं सोनिया गांधी ने कहा है कि केंद्र सरकार ने महामारी से निपटने में दायित्वों से पल्ला झाड़ते हुए टीकाकरण का जिम्मा राज्यों को सौंप दिया है। उन्होंने बैठक में कोरोना की तीसरी संभावित लहर को लेकर चिंता जाहिर की और कहा कि मोदी सरकार जिम्मेदारियों से भाग रही है । उन्होंने कहा कि यह बेहतर होगा कि केंद्र सरकार देश में सभी नागरिकों को निशुल्क कोरोना टीका उपलब्ध कराए।

गौरतलब है कि असम और केरल में सत्ता में वापसी का प्रयास कर रही कांग्रेस को हार झेलनी पड़ी। वहीं, पश्चिम बंगाल में उसका खाता भी नहीं खुल सका। पुडुचेरी में उसे करारी हार का सामना करना पड़ा जहां कुछ महीने पहले तक वह सत्ता में थी। तमिलनाडु में उसके लिए राहत की बात रही कि द्रमुक की अगुवाई वाले उसके गठबंधन को जीत मिली।

विधानसभा चुनाव नतीजों पर CWC मीटिंग में मंथन, कोरोना संकट को लेकर भी होगी चर्चा