BREAKING NEWS

अखिलेश-जयंत आज मुजफ्फरनगर में संयुक्त रैली को करेंगे संबोधित, CM योगी घर-घर जाकर मांगेंगे वोट ◾RRB NTPC Result : छात्रों का बिहार बंद, सड़कों पर टायर जलाकर किया प्रदर्शन◾श्वेता तिवारी पर टूटा मुश्किलों का पहाड़, धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप में दर्ज हुई FIR◾देश में गिरता कोरोना का ग्राफ, एक दिन में ढाई लाख नए केस, रिकवरी रेट में भी इजाफा◾World Corona Update : वैश्विक स्तर पर 36.56 करोड़ से अधिक पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा◾दिल्ली के किसानों की फसल बर्बाद, मुआवजा देने के नाम पर CM का झूठ का खेल पंजाब तक चालू : दिल्ली कांग्रेस◾मुंबई : ACB ने तीसरी बार पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को किया तलब, पिछले दो समन पर नहीं हुए थे पेश ◾ केंद्र सरकार ने देश के 407 में संक्रमण दर 10 फीसदी से ज्यादा होने पर कोविड प्रतिबंध 28 फरवरी तक बढ़या◾पंजाब में सिद्धू या चन्नी में से कौन होगा मुख्यमंत्री का फेस ?राहुल गांधी ने दिया यह जवाब...◾चौधरी चरण सिंह मेरे आदर्श, जाट समुदाय भाजपा से नाराज नहीं रह सकता : राजनाथ◾ दिल्ली में कोविड-19 के 4,291 नये मामले, 34 और लोगों की महामारी से मौत◾ विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर COVID19 पॉजिटिव हुए, कांटेक्ट में आए लोगों को दी एहतियात बरतने की सलाह◾यूपी चुनाव : बीजेपी अध्यक्ष नड्डा कल शाहजहांपुर में करेंगे जन संपर्क अभियान, कार्यक्रम को करेंगे संबोधित ◾दिल्ली के बाद चंडीगढ़ में कोविड प्रतिबंधों में ढील, 10वीं से 12वीं तक के लिए स्कूल खोलने की अनुमति ◾भारत-मध्य एशिया शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने की मेजबानी, अफगानिस्तान को लेकर कही यह बात ◾SP ने जारी की 56 प्रत्याशियों की लिस्ट, गैर यादव OBC नेताओं पर खास ध्यान, जानें किसे कहां से मिला टिकट ◾यूपी चुनाव : आजम खान ने सीतापुर की जेल से ही भरा नामांकन, SP ने रामपुर से ही दिया टिकट◾आखिरकार टाटा के पास पहुंचा 'महाराजा' का स्वामित्व, अब एयरलाइन में बड़े बदलाव करेगा समूह◾उत्तराखंड चुनाव: कांग्रेस-BJP में जारी है रूठों को मनाने की कवायद, जानें पार्टियों में क्या हुए बदलाव? ◾1971 में मुख्यमंत्री टी एन सिंह को गोरखपुर के लोगों ने हराया था, अब फिर से इतिहास दोहराएंगे : चंद्रशेखर ◾

किसान मुद्दे पर बोले आनंद शर्मा-जो स्थिति पैदा हुई, उसके लिए भारत सरकार जिम्मेदार

कृषि कानूनों के खिलाफ विपक्ष के विरोध के बीच एक बार फिर शुक्रवार को राज्यसभा की कार्रवाई शुरू हुई। सदन में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव की चर्चा जारी है। कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने किसान आंदोलन पर बोलते हुए कहा कि आज जो स्थिति पैदा हुई है, उसके लिए भारत सरकार जिम्मेदार है।

सदन में अपनी बात रखते हुए कांग्रेस सांसद ने कहा, हम 26 जनवरी की हिंसा के दौरान घायल हुए पुलिस कर्मियों और अधिकारियों के प्रति सहानुभूति व्यक्त करते हैं। किसी को भी उन पर हमला करने का अधिकार नहीं है जो अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हैं। लाल किले की घटना ने पूरे देश में स्तब्ध कर दिया है और इसकी जांच होनी चाहिए।

आनंद शर्मा ने कहा, किसानों को अपने अधिकारों के लिए लड़ने और न्याय पाने के लिए मजबूर होना पड़ा। जो स्थिति पैदा हुई है, उसके लिए भारत सरकार जिम्मेदार है। मैं विरोध के दौरान मारे गए 194 किसानों को श्रद्धांजलि देना चाहता हूं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्रजातंत्र में एक मत हो, एक विचार हो ये ना संभव है ना स्वीकार्य है। भारत की परंपरा चर्चा और चिंतन की रही है, वाद-विवाद की संवाद की रही है। 

राज्यसभा में विपक्ष ने की कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग, शिवसेना बोली- हक मांगने वाले खालिस्तानी कैसे

आनंद ने कहा, सरकार के हर निर्णय और नीति को जनता स्वीकार करे और विपक्ष अनुमोदन करे ये ना तो अनिवार्य है और ना ही स्वीकार्य है और यदि ऐसा हो तो हम जनतंत्र नहीं रहे। वहीं कांग्रेस के प्रताप सिंह बाजवा ने अपनी बात रखते हुए कहा कि सितंबर माह में तीनों कृषि कानून पारित किए गए। उन्होंने कहा ‘‘तब भी मैंने इन कानूनों को किसानों का ‘डेथ वारंट’ बताया था। मेरी बात सही निकली। यह कानून कुछ बड़े कारपोरेट घरानों को लाभ देने के लिए लाए गए हैं। ’’ 

उन्होंने कहा ‘‘कोविड-19 का कहर पूरी दुनिया पर टूटा। अर्थव्यवस्था तबाह हो गई, लोगों की नौकरियां चली गईं, प्रवासी मजदूर बेहाल हो गए। ऐसे में सरकार को इन कानूनों को लाने की क्या जल्दी थी ? क्या कुछ समय तक इंतजार नहीं किया जा सकता था ? ये कानून किसानों के हित में तो हैं ही नहीं। फिर इन्हें जल्दबाजी में अध्यादेशों का रास्ता चुन कर क्यों लाया गया ?’’

बाजवा ने कहा ‘‘1971 में बांग्लादेश के लिए हुई लड़ाई में पाकिस्तान के 93 हजार युद्धबंदी हमारे पास थे। हमने दो साल तक उनके खाने पीने रहने का इंतजाम किया। लेकिन आज आपने अपने ही किसानों का बिजली, पानी बंद कर दिया। यह क्या है ? किसी ने सपने में भी नहीं सोचा था कि महात्मा गांधी के देश में यह सब होगा। कल 12 दलों के नेता गाजीपुर गये, उन्हें पुलिस ने अंदर जाने नहीं दिया। क्या यह लोकतंत्र है?’’