BREAKING NEWS

दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा का नारा 'अबकी बार, तीन पार' होगा : केजरीवाल◾एनआरसी के खिलाफ कल जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेगी पार्टी : संजय सिंह◾राकांपा नेता उमाशंकर यादव बोले- नैतिकता के आधार पर तत्काल इस्तीफा दें CM योगी◾बलात्कारी के लिए मृत्युदंड से सख्त सजा कुछ नहीं हो सकती, पालक भी जिम्मेदारी समझें : स्मृति ईरानी◾CM केजरीवाल ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत को बताया शर्मनाक, ट्वीट कर कही ये बात ◾बलात्कार की घटनाओं पर स्वत: संज्ञान लें सुप्रीम कोर्ट : मायावती◾PM मोदी, अमित शाह और अजीत डोभाल पुणे में शीर्ष पुलिस अधिकारियों के सम्मेलन में हुए शामिल ◾केरल में बोले राहुल गांधी- महिलाओं के खिलाफ हिंसा और ज्यादतियों में हुई बढ़ोतरी◾सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर PM मोदी ने लोगों से किया अनुरोध, बोले- सशस्त्र बल के कल्याण के लिए योगदान दें◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के विरोध में BJP मुख्यालय पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे अखिलेश यादव, कहा- वो जिंदा रहना चाहती थी◾उन्नाव पीड़िता की मौत पर बोली स्वाति मालीवाल- सरकार बलात्कार पीड़िताओं के प्रति असंवेदनशील ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत पर बोली प्रियंका गांधी- यह हम सबकी नाकामयाबी है हम उसे न्याय नहीं दिला पाए◾उन्नाव रेप केस: बुजुर्ग पिता की गुहार, बेटी के गुनहगारों को मिले मौत की सजा◾उन्नाव रेप पीड़िता की दर्दनाक मौत अति-कष्टदायक : मायावती◾सीएम बनने के बाद PM मोदी से पहली बार मिले उद्धव ठाकरे, सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए मुम्बई रवाना हुए मोदी ◾झारखंड विधानसभा चुनाव : सिल्ली में जीत का 'चौका' लगा पाएंगे सुदेश महतो?◾झारखंड: विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए 20 सीटों पर मतदान जारी, PM मोदी ने की लोगों से वोट डालने की अपील ◾जिंदगी की जंग हार गई उन्नाव रेप पीड़िता, सफदरजंग अस्पताल में हुई मौत◾महिलायें अपने हाथ में लें देश की बागडोर : प्रियंका गांधी वाड्रा◾

देश

रोहिंग्या शरणार्थियों की याचिका पर 13 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट करेगा सुनवाई

 sc

उच्चतम न्यायालय ने आज कहा कि रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस म्यांमार भेजने के सरकार के आदेश को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर 13 अक्टूबर को सुनवाई की जायेगी। शीर्ष अदालत ने कहा कि वह सिर्फ कानूनी बिन्दुओं पर ही बहस सुनेगी। न्यायालय ने सभी पक्षों से कहा कि वे भावनात्मक पहलू पर बहस करने से गुरेज करें क्योंकि यह मामला मानवीय मुद्दे और मानवता से संबंधित है जिस पर परस्पर सम्मान के साथ सुनवाई की आवश्यकता है।

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड की तीन सदस्यीय खण्डपीठ ने केंद्र और याचिका दायर करने वाले रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों से कहा कि वे न्यायालय की मदद के लिये सारे दस्तावेज और अंतरराष्ट्रीय कंवेन्शन का विवरण तैयार करके दाखिल करें।

पीठ ने कहा कि सरकार के रूख सहित इस मामले से जुडे विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से सुनवाई की जायेगी। सरकार का तर्क है कि यह मामला न्यायालय में विचार योज्ञ नहीं है।

रोहिंग्या शरणार्थियों की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता फली नरिमन ने सरकार के रूख का विरोध किया और कहा कि संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत दायर याचिका विचार योज्ञ है क्योंकि संविधान वैयक्तिक अधिकार की गारंटी देता है। अतिरिक्त सालिसीटर जनरल तुषार मेहता का कहना था कि सरकार नहीं चाहती कि इस मामले को टुकडों में सुना जाये। उन्होंने कहा कि वह एक दिन विस्तार से सुनवाई के पक्ष में हैं।