BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर : कुलगाम में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में एक आतंकवादी को किया ढेर ◾कांग्रेस का प्रधानमंत्री से सवाल, कहा- PM मोदी बताएं कि क्या चीन का भारतीय जमीन पर कब्जा नहीं◾कानपुर मुठभेड़ : विकास दुबे को लेकर UP प्रशासन सख्त, कुख्यात अपराधी का गिराया घर◾नेपाल : कम्युनिस्ट पार्टी की बैठक टली, भारत विरोधी बयान देने वाले PM ओली के भविष्य पर होना था फैसला◾देश में कोरोना वायरस के एक दिन में 23 हजार से अधिक मामले आये सामने,मृतकों की संख्या 18,655 हुई ◾चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात को नजरअंदाज न करे सरकार, देश को चुकानी पड़ेगी कीमत : राहुल गांधी◾धर्म चक्र दिवस पर बोले PM मोदी- भगवान बुद्ध के उपदेश ‘विचार और कार्य’ दोनों में देते हैं सरलता की सीख ◾World Corona : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का हाहाकार, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 10 लाख के पार ◾पूर्वी लद्दाख गतिरोध : चीन के साथ तनातनी के बीच भारत को मिला जापान का समर्थन◾ट्रेनों के निजीकरण पर रेलवे का बयान : नौकरियां नहीं जाएंगी, लेकिन काम बदल सकता है ◾तमिलनाडु में कोरोना मरीजों की संख्या एक लाख के पार ,बीते 24 घंटों में 4329 नये मामले और 64 लोगों की मौत◾पीएम के लेह दौरे पर बोले अधीर रंजन - सैनिकों का मनोबल बढ़ा लेकिन चीनी अतिक्रमण नकारे नहीं ◾दिल्ली में कोरोना का कहर जारी, बीते 24 घंटे में 2,520 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 94 हजार के पार◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस ने फिर तोड़ा रिकॉर्ड , 6364 नये मामले आये सामने और 198 लोगों की मौत ◾मोदी की लद्दाख यात्रा पर तिलमिलाए चीन ने कहा - हमें विस्तारवादी कहना आधारहीन◾दिल्ली-NCR में 4.7 रिक्टर स्केल तीव्रता भूकंप के झटके, राजस्थान के अलवर में था भूकंप का केंद्र◾सीएम योगी का ऐलान - शहीद पुलिसकर्मियों के परिवार को सरकारी नौकरी और एक करोड़ रुपये का मुआवजा ◾चीन से सीमा विवाद पर भारत के समर्थन में आया जापान, कहा- LAC की यथास्थिति बदलने के एकतरफा प्रयास का करेंगे विरोध◾पीएम मोदी ने गलवान घाटी झड़प में घायल सैनिकों से कहा- ‘आपने करारा जवाब दिया’◾लद्दाख में अतिक्रमण को लेकर राहुल ने ट्वीट किया वीडियो, कहा-कोई तो बोल रहा है झूठ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आतंकवादी भारत के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाएं, इसलिए किया गया था बालाकोट हमला : जनरल रावत

थलसेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि फरवरी में पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायुसेना ने हवाई हमले को इसलिए अंजाम दिया था ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सीमा पार प्रशिक्षित किए जा रहे आतंकवादी भारत के खिलाफ कोई कदम उठाने के लिए बचें ही नहीं। उन्होंने कहा कि सीमा पार आतंकवाद से निपटने के लिए विभिन्न सरकारी एजेंसियों की ओर से प्रयास किए जा रहे हैं। 

यहां पत्रकारों से बातचीत में कश्मीर में आतंकवाद के मुद्दे पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में जनरल रावत ने कहा, ‘‘विभिन्न सरकारी एजेंसियों के समन्वित प्रयासों के जरिए..अब एनआईए ने दखल दिया है...प्रवर्तन निदेशालय ने दखल दिया है...और सभी यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि आतंकवादियों को उपलब्ध वित्तपोषण और धनराशि बिल्कुल खत्म कर दी जाए।’’ उन्होंने यह भी कहा कि वहां हालात काबू में कर लिया गया है।

 रावत ने कहा कि देश आजादी के बाद से ही आतंकवाद का सामना कर रहा है और सुरक्षा बल एवं उनका समर्थन कर रही सभी एजेंसियां इस चुनौती का डटकर मुकाबला कर रही हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम यह सुनिश्चित करने में सफल रहे हैं कि आतंकवाद पर काबू पाया जाए। निश्चित तौर पर, कश्मीर घाटी में हम आतंकवाद में उतार-चढ़ाव देखते रहे हैं।’’ जनरल रावत ने कहा, ‘‘ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उन्हें हमारे पश्चिमी पड़ोसी से समर्थन मिलता है। 

वहीं, कई लोग आतंकवादियों की ओर से चलाए जा रहे दुष्प्रचार अभियान के कारण भी भटक जाते हैं। लेकिन हमने हालात को काबू में किया है।’’ थलसेना प्रमुख कल भारतीय नौसेना, भारतीय तटरक्षक बल एवं 10 अंतरराष्ट्रीय कैडेटों के 264 प्रशिक्षुओं के पासिंग-आउट परेड की समीक्षा करने के बाद मीडिया से मुखातिब थे। प्रधानमंत्री मोदी की ‘रेडार’ वाली टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर रावत ने कहा कि कुछ रेडार अपने काम करने के तरीके के कारण बादलों के पार नहीं देख पाते।

 उन्होंने कहा, ‘‘अलग-अलग प्रौद्योगिकियों से काम करने वाले विभिन्न प्रकार के रेडार हैं। कुछ में बादलों के पार देखने की क्षमता होती है जबकि कुछ में ऐसी क्षमता नहीं होती। कुछ रेडार अपने काम करने के तरीके की वजह से बादलों के पार नहीं देख पाते। 

कभी-कभी ऐसा हो सकता है, कभी-कभी नहीं हो सकता।’’ मोदी ने हाल में एक टीवी इंटरव्यू में कहा था कि खराब मौसम के कारण जब कुछ रक्षा विशेषज्ञ उन्हें बालाकोट हमले की तारीख टालने को कह रहे थे, तो उन्होंने अपनी ‘‘थोड़ी-बहुत समझ’’ के आधार पर 26 फरवरी को ही हमला करने को कहा ताकि पाकिस्तान के रेडार भारतीय विमानों की गतिविधियां पकड़ नहीं पाएं।