BREAKING NEWS

कोरोना से मरने वालों के परिजनों को मिलेंगे 50 हजार रुपए, जानें केजरीवाल सरकार की अन्य घोषनाएं◾देश में कोविड-19 से अब तक दो प्रतिशत से कम आबादी प्रभावित, 98 फीसदी पर संक्रमण का खतरा बरकरार: केंद्र सरकार◾केरल : पिनराई की नई कैबिनेट में पुराने चेहरे 'OUT', दामाद के साथ नए चेहरों को एंट्री◾इजराइल और हमास के बीच युद्ध के बादल, दूसरे सप्ताह भी संघर्ष जारी, अब तक 200 फलस्तीनियों की मौत◾‘फर्जी टूलकिट' के जरिए बेशर्मी का फर्जीवाड़ा कर रही है BJP, नड्डा और पात्रा के खिलाफ दर्ज कराएंगे FIR : कांग्रेस ◾कोरोना पर जिलाधिकारियों से PM मोदी ने की बात, बोले- जब आपका जिला जीतता है, तो देश की होती है जीत◾BJP ने कांग्रेस पर भारत को बदनाम करने का लगाया आरोप, कहा- संकट काल में 'गिद्धों की राजनीति' हुई उजागर◾चक्रवात 'ताउते' का प्रभाव : फंसे हुए 297 लोगों को बचाने में जुटी नौसेना, रेस्क्यू ऑपेरशन जारी◾नारदा केस : तबियत बिगड़ने के बाद अस्पताल में एडमिट हुए सुब्रत मुखर्जी◾बच्चों की सुरक्षा पर राहुल की चेतावनी, कहा- देश के भविष्य के लिए मोदी ‘सिस्टम’ को जगाना जरूरी◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में 2 लाख 63 हजार नए मामलों की पुष्टि, 4329 मरीजों की मौत ◾दुनियाभर में कोरोना महामारी का कहर बरकरार, भारत मौत के मामलों में दूसरे स्थान पर ◾PM मोदी आज राज्यों और जिलों के अधिकारियों के साथ करेंगे बातचीत, कोरोना प्रबंधन पर होगी चर्चा ◾नारदा स्टिंग मामला : गिरफ्तार किए गए TMC के चारों मंत्री, कड़ी सुरक्षा में चिकित्सकीय जांच के बाद भेजा गया जेल ◾ चक्रवातीय तूफान तौकते ने गुजरात में मचाई तबाही, 2 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थान पर करना पड़ा शिफ्ट ◾मरीज के लापता होने पर इलाहाबाद HC की तल्ख टिप्पणी-छोटे शहरों और गांवों में चिकित्सा व्यवस्था राम भरोसे◾ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की कीमत पर लगाम लगाने के लिए फॉर्मूला बनाए केंद्र सरकार : दिल्ली HC◾पश्चिम बंगाल : नारदा मामले में गिरफ्तारी के 7 घंटे बाद चारों टीएमसी नेताओं को CBI कोर्ट से मिली जमानत◾दिल्ली को कोरोना से मिली राहत, पिछले 24 घंटे में आए 4524 नए मामले, 340 की हुई मौत◾नारदा केस : TMC का प्रदर्शन, अभिषेक बनर्जी बोले- लॉकडाउन का करें पालन, लड़ाई कानूनी तरीके से लड़ेंगे◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भारत-ब्रिटेन शिखर समिट में उठा आर्थिक भगौड़ों का मुद्दा, विजय माल्या, नीरव मोदी के प्रत्यर्पण पर जोर

भारत और ब्रिटेन के बीच मंगलवार को डिजिटल शिखर सम्मेलन में विजय माल्या और नीरव मोदी के प्रत्यर्पण का मुद्दा उठा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जोर दिया कि आर्थिक अपराध से जुड़े लोगों को सुनवाई के लिये जल्द ही वापस देश भेजा जाना चाहिए । वित्तीय धोखाधड़ी से जुड़े मामलों में कथित तौर पर शामिल होने के संबंध में सुनवाई को लेकर भारत, ब्रिटेन पर माल्या और नीरव मोदी का प्रत्यर्पण करने को लेकर जोर देता रहा है ।

विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पश्चिमी यूरोप) संदीप चक्रवर्ती ने संवाददाताओं को बताया कि ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस बात का उल्लेख किया कि ब्रिटेन इसका हर संभव प्रयास करेगा कि आर्थिक अपराधियों को प्रत्यर्पित किया जाए ।चक्रवर्ती ने कहा, ‘‘ दोनों नेताओं ने आर्थिक अपराधियों के प्रत्यर्पण के विषय पर चर्चा की और प्रधानमंत्री (मोदी) ने कहा कि अपराधियों को सुनवाई के लिये जल्द ही वापस देश भेजा जाना चाहिए । ’’

उन्होंने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री जॉनसन ने कहा कि ब्रिटेन की आपराध न्याय प्रणाली की प्रकृति के कारण उन्हें कुछ कानूनी बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन वे इससे अवगत हैं तथा वे इस इस बात का हर संभव प्रयास करेंगे कि इन लोगों को जल्द प्रत्यर्पित किया जाए ।’’विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव इस बारे में संवाददाताओं के सवालों का जवाब दे रहे थे ।

उल्लेखनीय है कि माल्या मार्च 2016 से ब्रिटेन में है और तीन वर्ष पहले जारी स्काटलैंड यार्ड के प्रत्यर्पण वारंट पर जमानत पर है । पिछले वर्ष मई में भगोड़े कारोबारी को भारत प्रत्यर्पित किये जाने के खिलाफ ब्रिटिश उच्चतम न्यायालय में दायर अपील खारिज हो गई थी ।वहीं, पिछले महीने ब्रिटेन की गृह मंत्री प्रीति पटेल ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण संबंधी आदेश पर हस्ताक्षर किया था जो भारत में धोखाधड़ी और धन शोधन के मामले में वांछित है ।

यह पूछे जाने पर कि क्या ब्रिटेन ने अपने यहां अवैध रूप से रह रहे भारतीयों को वापस लेने को कहा है, चक्रवर्ती ने मंगलवार को दोनों देशों के बीच आव्रजन और पारगमन से संबंधित सहयोग पर हस्ताक्षर किये जाने का उल्लेख किया ।उन्होंने कहा कि भारत अवैध रूप से आव्रजन के खिलाफ है क्योंकि यह वैध रूप से आव्रजन को नुकसान पहुंचाता है और साथ ही संकेत दिया कि वह उनको वापस लेगा जिन्हें राष्ट्रीयता नहीं मिली है या आवास परमिट प्राप्त नहीं हुआ है ।