BREAKING NEWS

संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ जामिया के छात्रों का उग्र प्रदर्शन, 3 बसों में लगाई आग◾गुवाहाटी में पुलिस गोलीबारी में घायल हुए 2 और लोगों की हुई मौत, अब तक 4 की गई जान◾नागपुर में बोले फडणवीस- सावरकर पर टिप्पणी के लिए माफी मांगें राहुल गांधी◾कांग्रेस ने नागरिकता कानून को लेकर बवाल खड़ा किया : PM मोदी◾महाराष्ट्र: प्रदर्शन के बाद PMC के जमाकर्ता हिरासत में, CM उद्घव ने मदद का दिलाया भरोसा◾नागरिकता कानून वापस लेने के लिए याचिका दायर करेगी BJP की सहयोगी असम गण परिषद◾वीर सावरकर पर बयान देकर मुश्किल में फंसे राहुल, पोते रंजीत ने की कार्रवाई की मांग◾सावरकर वाले बयान पर कांग्रेस पर हमलावर हुई मायावती, कहा- अब भी शिवसेना के साथ क्यों, यह आपका दोहरा चरित्र नहीं?◾नेपाल के सिंधुपलचौक में यात्रियों से भरी बस दुर्घटनाग्रस्त, 14 लोगों की दर्दनाक मौत◾भारतीय मुसलमान घुसपैठिए और शरणार्थी नहीं, डरना नहीं चाहिए : रिजवी◾निर्भया के दोषियों को फांसी देना चाहती हैं इंटरनेशनल शूटर वर्तिका, अमित शाह को खून से लिखा खत ◾पश्चिम बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन, कई स्थानों पर सड़कें अवरुद्ध◾नागरिकता संशोधन बिल में बदलाव को लेकर गृहमंत्री अमित शाह ने दिए संकेत◾अनशन पर बैठीं दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल हुईं बेहोश, LNJP अस्पताल में भर्ती◾CAB के खिलाफ प्रदर्शनों के बाद आज गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ के कुछ हिस्सों में कर्फ्यू में ढील◾झारखंड विधानसभा चुनाव: देवघर में प्रत्याशियों की आस्था दांव पर◾ममता ने नागरिकता कानून को लेकर बंगाल में तोड़फोड़ करने वालों को कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी ◾भाजपा ने आज तक जो भी वादे किए है वह पूरे भी किए गए हैं - राजनाथ◾असम में हालात काबू में, 85 लोगों को गिरफ्तार किया गया : असम DGP◾पीएम मोदी के सामने मंत्री देंगे प्रजेंटेशन, हो सकता है कैबिनेट विस्तार◾

देश

अपने निर्वाचन क्षेत्र में कम दिखने वाले सांसदों को मुश्किल समय का करना पड़ता है सामना : थरूर

 sashi tharoor

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने कहा है कि अपने निर्वाचन क्षेत्र से अलग तरह का संबंध रखने वाले और वहां बहुत कम दिखने वाले सांसदों को मुश्किल समय का सामना करना पड़ता है। केरल के तिरूवनंतपुरम से 2009 से लगातार तीन बार लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए थरूर ने यहां एक कार्यक्रम में कहा कि उन्हें लगता है कि उन्होंने अपना काम बखूबी किया और यही कारण है कि लोगों ने उन पर एक बार फिर से भरोसा जताया। 

उल्लेखनीय है कि हालिया लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद राजनीतिक विश्लेषकों ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के गढ़ अमेठी में राहुल गांधी की हार का कारण इस क्षेत्र के मतदाताओं से उनका कटे रहना या संपर्क में नहीं रहना बताया था। हालांकि, थरूर ने इस बात का जिक्र किया कि सिर्फ भाजपा के सांसद और उत्तर भारत के सांसद उनकी इस दलील के समर्थन में हैं। 

राज्यसभा में सीतारमण बोली- बजट में किय गये उपायों से निवेश को मिलेगी गति

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘खास तौर पर उत्तर (भारत) के सांसद, जिनके अपने निर्वाचन क्षेत्रों से कुछ अलग तरह के संबंध हैं और जो वहां कम दिखते हैं, उन्हें मुश्किल समय का सामना करना पड़ता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘वे लोग उनमें शामिल हैं जो शायद नरेंद्र मोदी के नाम पर जीत सकते है और इस बार भी ऐसा ही हुआ। लेकिन हममें से बहुतों को जो चीज उनसे अलग करती है वह निर्वाचन क्षेत्र में हमारे द्वारा किया गया काम है।’’ 

उन्होंने कहा कि लोगों ने उन्हें दोबारा चुना क्योंकि लोगों ने यह माना कि उन्होंने अपना काम बखूबी किया है। थरूर ने कहा, ‘‘लोगों ने मुझे देखा, अपने सुख-दुख में शामिल होते देखा और यही कारण है कि उन लोगों ने भरोसा जताया तथा मुझे वोट दिया।’’ थरूर ने यहां बृहस्पतिवार को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस द्वारा आयोजित दक्षिण एशिया परिचर्चा के तीसरे सत्र में यह कहा। इसमें शोधार्थियों, नीति निर्माता, नौकरशाह और पत्रकारों ने आधुनिक दक्षिण एशिया को परिभाषित करने वाले समकालिक विचारों को परिभाषित किया।