BREAKING NEWS

विकास दर में कमी, महंगाई में तेजी की ‘दोहरी मार’ से लोग प्रभावित : कांग्रेस ◾विधानसभा चुनावों की घोषणा : कांग्रेस ने निर्णय का किया स्वागत, कहा - लोग भाजपा को ‘करारा’ जवाब देंगे ◾टीएमसी, अन्य ने बंगाल में आठ चरणों में चुनाव पर सवाल उठाए, भाजपा ने आयोग के फैसले का किया स्वागत◾सीतारमण ने जी-20 बैठक में कोरोना संकट से निपटने की भारत की नीति की जानकारी दी ◾कांग्रेस ने अर्थव्यवस्था को लेकर केंद्र सरकार पर साधा निशाना ◾ममता बनर्जी ने उठाए आठ चरणों में वोटिंग पर सवाल, कहा- BJP के कहने पर चुनाव आयोग ने लिया फैसला◾TMC के शासन काल में राजनीतिक हिंसा ‘‘नई ऊंचाइयों’’ पर पहुंच गई है : राजनाथ सिंह ◾विधानसभा में जो भाषा मुख्यमंत्री बोलते है, वह किसी योगी द्वारा नहीं बोली जा सकती : अखिलेश यादव ◾ईंधन मूल्यों की बढ़ोतरी को सीतारमण ने बताया धर्मसंकट, शिवसेना ने कहा- पद पर बने रहने का अधिकार नहीं ◾अर्थव्यवस्था में आयी ऊंचाई , तीसरी तिमाही में जीडीपी में दर्ज हुई 0.4 प्रतिशत की वृद्धि ◾कोविड टीके के लिए वरिष्ठ नागरिक, बीमारी से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक आयु के लोग कराएं ‘ऑन-साइट’ पंजीकरण ◾निर्वाचन आयोग ने बंगाल सहित 5 राज्यों में किया चुनावी तारीखों का ऐलान, 2 मई को आएंगे सभी राज्यों के नतीजे ◾बंगाल चुनाव के ऐलान से पहले ममता बनर्जी ने घोषणाओं की लगाई झड़ी, श्रमिकों का बढ़ाया वेतन ◾केंद्रीय गृह मंत्रालय ने किया ऐलान - कोविड-19 पर मौजूदा दिशानिर्देश 31 मार्च तक लागू रहेंगे ◾गुजरात में बोले केजरीवाल - जनता जानती है हम सच्चे देशभक्त हैं, 2022 चुनाव में एक बड़ी क्रांति आएगी◾पश्चिम बंगाल में रोड शो कर स्मृति रानी ने ममता बनर्जी को दिया जवाब, कहा - बंगाल में खिलेगा कमल◾CTET Result 2021: सीबीएसई द्वारा घोषित किए गए नतीजे, 6.5 लाख उम्मीदवार सफल◾PM मोदी ने किया खेलो इंडिया Winter games का उद्घाटन, कहा -स्पोर्ट सिर्फ एक हॉबी नहीं स्पिरिट है ◾MGR यूनिवर्सिटी को संबोधित करते हुए PM मोदी बोले- देश में 2014 से मेडिकल PG की बढ़ीं 24 हजार सीटें◾कोयला तस्करी मामला : ईडी की ताबड़तोड़ छापेमारी जारी, पश्चिम बंगाल में 15 ठिकानों की तलाशी ली ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- निजामुद्दीन मरकज की घटना से संक्रमण के मामलों में हुई वृद्धि, देश को लगा बड़ा झटका

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने रविवार को कहा कि निजामुद्दीन मरकज की घटना के बाद कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में अचानक वृद्धि के कारण भारत को बड़ा झटका लगा। उन्होंने कहा कि यह घटना सभी समुदायों के लिए सबक है कि जब देश कोई सामूहिक निर्णय लेता है तो अनुशासित होकर उसका पालन करना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि इस बारे में अभी बात करने का कोई अर्थ नहीं है क्योंकि तबलीगी जमात के कार्यक्रम में भाग लेने वाले सभी व्यक्तियों के संपर्क में आए लोगों का पता लगा लिया गया था और जो कोरोना वायरस से संक्रमित थे, उनका उपचार किया गया।

भाजपा प्रवक्ता जीवीएल नरसिंह राव के साथ हुई बातचीत में हर्षवर्धन ने कहा कि राज्य सरकारें, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल और गृह मंत्री अमित शाह ने तबलीगी जमात की घटना के बाद निगरानी रखने में अहम भूमिका निभाई। राव द्वारा पूछे जाने पर कि क्या इस घटना से संक्रमण की शुरुआत हुई, वर्धन ने कहा, “हमें यह मुद्दा उठाना अच्छा नहीं लगता लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं कि मार्च के दूसरे सप्ताह के आसपास जब विश्व में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा था और भारत में संक्रमण का पहला मामला सामने आने के डेढ़ महीने बाद भी कुछ राज्यों में बहुत कम मामले सामने आए थे, तब यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई।”

उन्होंने कहा, “दिल्ली में कानून लागू होने की वजह से 10-15 लोग एकत्रित नहीं हो सकते थे। उस समय डेढ़ दर्जन देशों से आए लोग वहां एकत्रित थे।” हर्षवर्धन ने कहा कि निजामुद्दीन की घटना में सामाजिक दूरी के नियम का पालन नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि बाहर से आए लोग अपने साथ बीमारी ला रहे थे और ऐसे समय में प्रशासन की जानकारी के बिना एक हजार से अधिक लोग एकत्रित थे। वर्धन ने कहा कि अधिकारियों को जब इसकी सूचना मिली तब इन लोगों को हटाया गया और बहुत से लोग खुद ही वहां से चले गए।

उन्होंने कहा, “उस समय देश को बड़ा झटका लगा जब संक्रमण के मामले अचानक से बढ़ गए और सरकार को लॉकडाउन तथा अन्य कड़े कदम उठाने का निर्णय लेना पड़ा।” केंद्रीय मंत्री ने कहा, “यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी और देश के सभी वर्गों और समुदायों के लिए एक सबक है कि जब देश कोई सामूहिक निर्णय लेता है तब सभी को अनुशासन पूर्वक उसका पालन करना चाहिए क्योंकि वह सबके वृहद हित में होता है।” वर्धन ने लॉकडाउन लागू किए जाने को सही समय पर लिया गया साहसिक निर्णय बताया और कहा कि लॉकडाउन ने वायरस के विरुद्ध एक “सामाजिक टीके” का काम किया है।म