BREAKING NEWS

मरम्मत के लिये ब्यास हाइडल नहर बंद होने से दिल्ली में प्रभावित होगी जलापूर्ति : चड्ढा ◾HC ने तांडव वेब सीरीज मामले में अपर्णा पुरोहित की अग्रिम जमानत याचिका खारिज की◾सरकार किसानों की आय बढ़ाने को बांस की खेती को दे रही है प्रोत्साहन : तोमर ◾प्रियंका ने पार्टी की यूपी चुनाव घोषणापत्र समिति के सदस्यों के साथ की बैठक ◾मुंबई में मुकेश अंबानी के घर के पास मिली संदिग्ध कार, विस्फोटक सामग्री बरामद ◾INDvsENG : नरेंद्र मोदी स्टेडियम में भारत का ऐतिहासिक आगाज, इंग्लैंड को 10 विकेट से हराया ◾तमिलनाडु का व्यापार के जरिए विकास का है शानदार इतिहास: पीएम मोदी◾प्रेस कांफ्रेंस में गैस सिलेंडर लेकर पहुंचे कांग्रेस प्रवक्ता, एलपीजी मूल्य वृद्धि पर केंद्र को घेरा ◾ब्रिटेन की अदालत का फैसला, PNB घोटाला मामले में भगौड़े नीरव मोदी को भारत प्रत्यर्पण की मंजूरी ◾बंगाल को कटमनी, टोलाबाजी के लिए टीके की आवश्यकता, भाजपा करेगी इसका प्रबंध : जे पी नड्डा ◾ अमित शाह ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- सत्ता की लालसा में बदरुद्दीन अजमल से हाथ मिलाया ◾PM मोदी का तमिलनाडु को तोहफा, 12,400 करोड़ रुपये की कई परियोजनाओं का उद्घाटन, शिलान्यास किया ◾केंद्र ने 'समलैंगिक विवाह' का किया विरोध, कहा-'सेम सेक्स' जोड़े का साथ रहना फैमिली नहीं◾BJP अध्यक्ष जे पी नड्डा ने बंकिम चंद्र चटोपाध्याय के नैहाटी स्थित आवास पहुंचकर अर्पित की श्रद्धांजलि ◾IND vs ENG 3rd Test : भारत की पहली पारी 145 रन पर सिमटी, रूट ने झटके 5 विकेट ◾सोशल मीडिया प्लेटफार्म नहीं कर सकेंगे मनमानी, केंद्र सरकार ने बनाए सख्त नियम◾भाजपा की यात्रा तब पूरी होगी, जब असम जीडीपी में सर्वाधिक योगदान देने वाला राज्य बनेगा : अमित शाह◾चीन के बाद पाकिस्तान भी पड़ा नरम, सभी एलओसी समझौतों के सख्ती से पालन पर हुआ सहमत ◾प्रधानमंत्री बोले-कांग्रेस झूठ बोलने में गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल विजेता◾पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के खिलाफ CM ममता का अनूठा विरोध, ई-स्कूटर पर बैठकर पहुंचीं सचिवालय◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

केंद्रीय मंत्री ने रिजेक्ट की 11 हजार करोड़ की फाइल , 5 हजार करोड़ की सरकार को बचत हुई

एशिया की सबसे लंबी जोजिला सुरंग के निर्माण के लिए अफसरों ने 11 हजार करोड़ रुपये की भारी-भरकम बजट की फाइल केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के सामने पेश की थी। मगर, नितिन गडकरी ने फाइल रिजेक्ट करते हुए संबंधित अफसरों से दो टूक कह दिया कि इतनी भारी लागत में टनल नहीं बनेगी। 

उन्होंने तकनीकी एक्सपर्ट से राय लेकर नए सिरे से फाइल तैयार करने का निर्देश दिया। नतीजा रहा कि जोजिला टनल के सिर्फ एक प्रोजेक्ट में ही करीब पांच हजार करोड़ रुपये की सरकार को बचत हुई है। लेह और श्रीनगर को 12 महीने जोड़े रखने के लिए सामरिक लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण इस सुरंग का निर्माण बीते 15 अक्टूबर से चल रहा है। 

दरअसल, जोजिला सुरंग का निर्माण एनएचएआई डीसीएल को करना था। चार बार टेंडर होने के बावजूद निर्माण शुरू नहीं हो पाया। देरी का कारण डिपार्टमेंट ने लागत बढ़ने का हवाला देते हुए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के पास 11 हजार रुपये का बजट स्वीकृत करने की फाइल भेज दी थी। इस पर नितिन गडकरी ने नोट में लिखा, मैं इससे सहमत नहीं हूं। मैं रिजेक्ट कर रहा हूं। पहले एक्सपर्ट के साथ बैठकर चर्चा करें। फिर प्रभावी लागत पर टनल निर्माण की योजना बनाकर लाएं। तभी टेंडर करें। आखिरकार संशोधित दर के हिसाब से जब प्लान तैयार हुआ तो पांच हजार करोड़ रुपये की कमी आई।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने टेक्निकल एक्सपर्ट, कंट्रैक्टर और कंसल्टेंट के साथ शनिवार को एक वर्चुअल कार्यक्रम में कहा, मुझे बताते हुए खुशी हो रही है कि पहली बार जोजिला टनल को लेकर अच्छे टेंडर आए। एक्सपर्ट के सहयोग से प्रोजेक्ट पर हमने पांच हजार करोड़ रुपये बचाए। यह देश के लिए बड़ी बचत है।नितिन गडकरी के मुताबिक, जोजिला टनल के निर्माण की जिम्मेदारी बेहतर ट्रैक रिकार्ड वाली मेघा इंजीनियरिंग को मिली है। ऐसे में निर्धारित से डेढ़ से वर्ष पहले कार्य पूरा होने की उम्मीद है। 

जोजिला टनल का निर्माण पूरा होने के बाद लद्दाख की राजधानी लेह और जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर के बीच 12 महीने आवागमन जारी रहेगा। वहीं लेह और श्रीनगर के बीच यात्रा में 3 घंटे का समय कम लगेगा। दरअसल, 11,578 फुट की ऊंचाई पर स्थित जोजिला र्दे के कारण नवंबर से अप्रैल तक छह महीने बर्फबारी के कारण श्रीनगर-कारगिल-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग बंद रहता है। ऐसे में जोजिला टनल के निर्माण से बर्फबारी के समय भी लेह से श्रीनगर की यात्रा आसान रहेगी। इससे सेना को भी सहूलियतें होंगी। बीते 15 अक्टूबर को नितिन गडकरी ने इस टनल के निर्माण का वर्चुअल माध्यम से शुभारंभ किया था। करीब छह वर्ष के अंदर टनल का निर्माण होना है।