BREAKING NEWS

प्रियंका गांधी को बनाया जाए कांग्रेस अध्यक्ष, पार्टी के सांसद ने पेश की ये बड़ी दलील◾अशोक गहलोत का कटेगा पत्ता? कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर संशय◾आज का राशिफल (29 सितंबर 2022)◾दिग्विजय बनाम थरूर की ओर बढ़ रहा कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव◾दिल्ली पहुंचे गहलोत ने सोनिया के नेतृत्व को सराहा व संकट सुलझने की जताई उम्मीद ◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की सुनील छेत्री की सराहना◾टाट्रा ट्रक भ्रष्टाचार मामले में पूर्व रक्षा मंत्री ए के एंटनी से की गई जिरह◾PFI से पहले RSS पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए था - लालू◾IND vs SA (T20 Match) : भारत ने पहले टी20 मैच में दक्षिण अफ्रीका को 8 विकेट से हराया◾Ukraine crisis : यूक्रेन संकट का स्वरूप अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए ‘घोर चिंता’ का विषय - भारत◾Uttar Pradesh: फरार नेता हाजी इकबाल की अवैध खनन से अर्जित करोड़ों की सम्पत्ति कुर्क◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव : प्रियंका संभाले पार्टी की कमान, सांसद खालिक ने दिया बेतुका तर्क ◾सीडीएस नियुक्ति :चौहान ने सर्जिकल स्ट्राइक में निभाई थी अहम भूमिका, रिटायर होने के बाद भी केंद्र ने सौंपी जिम्मेदारी ◾महंगाई की जड़ 'मोदी'! कांग्रेस का BJP पर कटाक्ष- केंद्र की दमन नीतियों के कारण गरीब का हो रहा शोषण ◾रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान होंगे देश के नए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ ◾पाकिस्तान में चीनी नागरिक की हत्या, डेंटल क्लीनिक में मरीज बनकर दाखिल हुआ था हमलावर ◾केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा संगठन पर प्रतिबंध लगाने के निर्णय को स्वीकार करते है: PFI ◾पीएम मोदी ने कहा- 80 करोड़ लोगों को गरीब कल्याण अन्न योजना के विस्तार से मिलेगा फायदा◾गुजरात विधानसभा चुनाव : हीरा कारोबारी ने जॉइन की बीजेपी, पूर्व में कर्मचारियों को 'आप' से दूर रहने के लिए कहा था ◾Gold today Price: खुशखबरी-खुशखबरी! त्यौहारों से पहले सस्ता हुआ सोना, फटाफट इतने में खरीदे 10gm Gold ◾

पतंजलि को नोटिस भेजेगा उत्तराखंड आयुर्वेद विभाग, कोरोना नहीं कफ और बुखार की दवा का मांगा था लाइसेंस

कोरोना की दावा कोरोनिल का दावा करने वाली पतंजलि को उत्तराखंड आयुर्वेद विभाग नोटिस जारी करने वाला है। विभाग का कहना है कि पतंजलि को इम्यूनिटी बूस्टर, कफ और बुखार ठीक करने की दवा का लाइसेंस दिया गया था। वहीं इससे पहले भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने जांच पूरी होने तक प्रचार प्रसार पर रोक लगा दी है।

उत्तराखंड आयुर्वेद विभाग के लाइसेंस अधिकारी ने बताया कि पतंजलि के आवेदन के अनुसार, हमने उन्हें लाइसेंस जारी किया। उन्होंने अपने आवेदन में कोरोना वायरस का जिक्र नहीं किया था। हमने केवल इम्यूनिटी बूस्टर, खांसी और बुखार के लिए लाइसेंस को मंजूरी दी। उन्होंने कहा, हम उन्हें नोटिस जारी करके पूछेंगे कि उन्हें कोविड-19 के लिए किट बनाने की अनुमति कैसे मिली।

पतंजलि की कोरोना दवा के प्रचार-प्रसार पर आयुष मंत्रालय ने लगाई रोक, मंत्रालय ने मांगे ट्रायल के रिकॉर्ड

कोरोना वायरस के इलाज के लिए पतंजलि द्वारा बनाई गई दवा कोरोनिल को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। दरअसल, पतंजलि आयुर्वेद ने मंगलवार को कोरोना इलाज के लिए कारगार होने का दवा करते हुए कोरोनिल को लॉन्च किया था। वहीं आयुष मंत्रालय ने कहा कि पतंजलि की ओर से जो दावा किया गया है उसके तथ्य और साइंटिफिक स्टडी को लेकर मंत्रालय के पास किसी भी तरह की जानकारी नहीं पहुंची है। 

जिसके बाद मंत्रालय ने कंपनी को सूचित करते हुए इस संबंध में कहा कि इस तरह का प्रचार करना कि इस दवाई से कोरोना का 100 प्रतिशत इलाज होता है, ड्रग्स एंड मैजिक रेमेडीज (आपत्तिजनक विज्ञापन) कानून 1954 का उल्लंघन है। साथ ही, मंत्रालय ने विषय की जांच-पड़ताल होने तक कंपनी को इस उत्पाद का प्रचार भी बंद करने का आदेश दिया।