BREAKING NEWS

PM मोदी ने SP पर साधा निशाना , कहा - लाल टोपी वाले लोग खतरे की घंटी,आतंकवादियों को जेल से छुड़ाने के लिए चाहते हैं सत्ता◾ किसान आंदोलन को खत्म करने के लिए राकेश टिकैत ने कही ये बात◾DRDO ने जमीन से हवा में मार करने वाली VL-SRSAM मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾बिना कांग्रेस के विपक्ष का कोई भी फ्रंट बनना संभव नहीं, संजय राउत राहुल गांधी से मुलाकात के बाद बोले◾केंद्र की गलत नीतियों के कारण देश में महंगाई बढ़ रही, NDA सरकार के पतन की शुरूआत होगी जयपुर की रैली: गहलोत◾अमरिंदर ने कांग्रेस पर साधा निशाना, अजय माकन को स्क्रीनिंग कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त करने पर उठाए सवाल◾SKM की बैठक खत्म, क्या समाप्त होगा आंदोलन या रहेगा जारी? कल फाइनल मीटिंग◾महाराष्ट्र: आदित्य ठाकरे ने 'ओमिक्रॉन' से बचने के लिए तीन सुझाव सरकार को बताए, केंद्र को भेजा पत्र◾गांधी का भारत अब गोडसे के भारत में बदल रहा है..महबूबा ने केंद्र सरकार को फिर किया कटघरे में खड़ा, पूर्व PM के लिए कही ये बात◾UP चुनाव: सपा-रालोद आई एक साथ, क्या राज्य में बनेगी डबल इंजन की सरकार, रैली में उमड़ा जनसैलाब ◾बेंगलुरु का डॉक्टर रिकवरी के बाद फिर हुआ कोरोना पॉजिटिव, देश में ओमीक्रॉन के 23 मामलों की हुई पुष्टि ◾समाजवादी पार्टी पर PM मोदी का हमला, बोले-'लाल टोपी' वालों को सिर्फ 'लाल बत्ती' से मतलब◾पीेएम मोदी ने पूर्वांचल को दी 10 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात, सपा के लिए कही ये बात◾सदन में पैदा हो रही अड़चनों के लिए सरकार जिम्मेदार : मल्लिकार्जुन खड़गे◾UP चुनाव में BJP कस रही धर्म का फंदा? आनन्द शुक्ल बोले- 'सफेद भवन' को हिंदुओं के हवाले कर दें मुसलमान... ◾नगालैंड गोलीबारी केस में सेना ने नगारिकों की नहीं की पहचान, शवों को ‘छिपाने’ का किया प्रयास ◾विवाद के बाद गेरुआ से फिर सफेद हो रही वाराणसी की मस्जिद, मुस्लिम समुदाय ने लगाए थे तानाशाही के आरोप ◾लोकसभा में बोले राहुल-मेरे पास मृतक किसानों की लिस्ट......, मुआवजा दे सरकार◾प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों को दी कड़ी नसीहत-बच्चों को बार-बार टोका जाए तो उन्हें भी अच्छा नहीं लगता ...◾Winter Session: निलंबन वापसी के मुद्दे पर राज्यसभा में जारी गतिरोध, शून्यकाल और प्रश्नकाल हुआ बाधित ◾

विनोद कुमार यादव ने विस्तारित कार्यकाल में रेलवे बोर्ड अध्यक्ष का कार्यभार संभाला

विनोद कुमार यादव ने बुधवार को अपने विस्तारित कार्यकाल में रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाल लिया और उम्मीद है कि वह राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर के पहले सीईओ बनाए जाएंगे। राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर का हाल ही में व्यापक प्रशासनिक पुनर्गठन किया गया और इसी के तहत सीईओ (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) का पद सृजित किया गया है पुनर्गठन कवायद के मद्देनजर यादव का एक साल का कार्यकाल विस्तार अहम है। 

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने हाल ही में इसके पुनर्गठन के लिए मंजूरी दी थी। विनोद कुमार यादव को उनके पहले कार्यकाल में एक जनवरी 2019 को रेलवे बोर्ड का अध्यक्ष और भारत सरकार का पदेन प्रमुख सचिव नियुक्त किया गया था। उससे पहले उन्होंने दक्षिण मध्य रेलवे के महाप्रबंधक के रूप में काम किया था। रेलवे बोर्ड अध्यक्ष के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान न केवल कैडरों के विलय की घोषणा की गई बल्कि बोर्ड को छोटा भी किया गया और लगभग 50 अधिकारियों को मुख्यालय से जोनल कार्यालयों में स्थानांतरित कर दिया गया। 


GST संग्रह दिसंबर में 1.03 लाख करोड़, लगातार दूसरे महीने में 1 लाख करोड़ से अधिक हुई प्राप्ति

इसके अलावा, ‘‘निजी परिचालकों’’ को कुछ ट्रेनें चलाने की अनुमति दी गयी और रेलवे के सार्वजनिक उपक्रमों के निगमीकरण की घोषणा भी की गयी। यादव की शैक्षणिक योग्यता में आस्ट्रेलिया के ला ट्रोब विश्वविद्यालय से एमबीए और इलाहाबाद विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग (इलेक्ट्रिकल) में स्नातक शामिल है। यदि यादव को सीईओ नियुक्त किया जाता है तो उन पर कैडर नियंत्रण की जिम्मेदारी होगी और डीजी (एचआर) उनकी सहायता करेंगे। 

यादव रेलवे में कई महत्वपूर्ण कार्यकारी और प्रबंधकीय पदों पर काम कर चुके हैं। अपने दूसरे कार्यकाल में, रेलवे के सर्वोच्च रैंकिंग वाले अधिकारी के रूप में यादव पर यह सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी भी होगी कि रेलवे का महत्वाकांक्षी कैडर विलय बिना किसी अड़चन के लागू किया जाए । हालांकि, उनकी सबसे बड़ी चुनौती रेलवे को वित्तीय रूप से मजबूत बनाना होगा क्योंकि पिछले कुछ वर्षों से राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर गंभीर नकदी संकट का सामना कर रहा है।