BREAKING NEWS

‘निवार’ चक्रवात के समुद्र तट पर दस्तक देने की प्रक्रिया शुरू हुई : मौसम विभाग◾पिछली सरकारों पर निशाना साधते हुए PM मोदी ने कहा : देश ने अपनी क्षमताओं का इस्तेमाल नहीं किया ◾सौरव गांगुली समेत भारतीय खेलप्रेमियों ने दी माराडोना को श्रृद्धांजलि ◾राहुल ने डिएगो के निधन पर जताया शोक, कहा - 'जादूगर' माराडोना ने हमें दिखाया कि फुटबॉल क्यों खूबसूरत खेल है◾फुटबॉल के एक युग का अंत, नहीं रहे डिएगो माराडोना ◾यूपी की राह पर शिवराज सरकार - ‘लव जिहाद’ के दोषी को होगी 10 साल की सजा, लाएंगे विधेयक◾यूपी में योगी सरकार ने एस्मा लागू किया, अगले 6 माह तक नहीं होगी हड़ताल ◾लखनऊ विश्वविद्यालय : सामर्थ्य के इस्तेमाल का बेहतर उदाहरण है रायबरेली का रेल कोच फैक्ट्री- PM मोदी◾असंतुष्ट नेताओं से ममता बनर्जी की अपील : पार्टी को गलत मत समझिए, हम गलतियों को सुधारेंगे◾कोरोना के खिलाफ केंद्र ने कसी कमर, 31 दिसंबर तक के लिए जारी की नई गाइडलाइंस, जानें क्या हैं नियम◾लक्ष्मी विलास बैंक के DBS बैंक में विलय को मिली मंजूरी , सरकार ने निकासी की सीमा भी हटाई ◾ललन पासवान बोले-मुझे लगा लालू जी ने बधाई देने के लिए फोन किया, लेकिन वे सरकार गिराने की बात करने लगे◾पंजाब में एक दिसंबर से नाइट कर्फ्यू, कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने पर 1000 का जुर्माना◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾निर्वाचित प्रतिनिधियों की अनुशासनहीनता से उन्हें चुनने वाले लोगों की भावनाएं आहत होती हैं : कोविंद◾भारत में बैन हुए 43 मोबाइल ऐप पर ड्रैगन को लगी मिर्ची, व्यापार संबंधों की दी दुहाई ◾भाजपा MP के विवादित बोल - रोहिंग्याओं, पाकिस्तानियों को भगाने के लिए भाजपा करेगी 'सर्जिकल स्ट्राइक'◾विपक्ष के जबरदस्त हंगामे के बीच NDA के विजय सिन्हा बने बिहार विधानसभा के स्पीकर◾सुशील मोदी का दावा-लालू ने BJP MLA को दिया मंत्री पद का लालच, ट्विटर पर जारी किया ऑडियो◾UN में 'झूठ का डोजियर' पेश करने के लिए भारत ने पाक को लगाई फटकार, कहा- यह उसकी पुरानी आदत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

..जब अमित शाह ने जेल में खार्ई थी कांग्रेस के खात्मे की सौगंध

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह राजनीति के धुरंधर माने जाते हैं। अपने शानदार चुनावी प्रदर्शन से वो बीजेपी के अब तक से सबसे सफल अध्यक्ष बन चुके हैं। हाल ही में बिहार में बीजेपी के समर्थन से नीतीश कुमार की सरकार बनी और इसके बाद फिर अपनी रणनीतियों को लेकर शाह चर्चा में हैं। शाह को बीजेपी गुजरात से राज्यसभा भी भेज रही है। हो सकता है आने वाले दिनों में वो मोदी सरकार में कोई अहम जिम्मेदारी भी निभाएं। हम आपको बता रहे हैं अमित शाह की जिंदगी से जुड़ी अहम बातें...

Source

अमित शाह का जन्म 22 अक्टूबर 1964 को मुंबई के एक बिजनेसमैन परिवार में हुआ था। अमित शाह का पूरा नाम अमित अनिलचंद्र शाह है। उन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाई मेहसाणा से की। इसके बाद बायोकेमिस्ट्री से ग्रैजुएशन करने के लिए वो अहमदाबाद चले गए। उनके पिता का पाइप का बिजनेस था जिसे कुछ समय अमित साह ने संभाला। इसके अलावा उन्होंने को-ऑपरेटिव बैंक में स्कॉकब्रोकर के तौर पर भी काम किया है। अमित शाह के बचपन से आरएसएस के साथ संबंध रहे हैं और इसी के चलते उन्हें राजनीति में एंट्री मिली। कॉलेज के दिनों में ही वो आरएसएस के स्वयंसेवक बन गए थे।

Source

अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक- दूसरे को पिछले 25 सालों से जानते हैं। पहली बार दोनों की मुलाकात साल 1982 में अहमदाबाद में हुई थी। उस समय मोदी आरएसएस प्रचारक हुआ करते थे। अमित शाह ने अपना राजनीतिक करियर आरएसएस के स्टूडेंट विंग अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के तौर पर साल 1983 में शुरू किया था। इसके बाद साल 1986 में उन्होंने बीजेपी जॉइन कर ली।इसके बाद साल 1987 में वो बीजेपी यूथ विंग भारतीय जनता युवा मोर्चा के एक्टिविस्ट बन गए। इसके बाद उन्हें वॉर्ड सेक्रेटरी, तालुका सेक्रेटरी, स्टेट सेक्रेटरी, वाइस प्रेजिडेंट और जनरल सेक्रेटरी जैसे पद संभाले। इसके बाद साल 1991 में हुए लोकसभा चुनावों में उन्होंने लाल कृष्ण अडवाणी के लिए गांधीनगर में कैंपेन चलाया।

Source

साल 1995 में बीजेपी ने पहली बार केशुभाई पटेल के नेतृत्व में गुजरात में सरकार बनाई। उस समय बीजेपी की विपक्षी पार्टी कांग्रेस हुआ करती थी। मोदी और अमित शाह ने पिछड़े इलाकों में कांग्रेस को हराने के लिए साथ काम किया। बताया जाता है कि दोनों की रणनीति थी कि हर गांव में दूसरा सबसे प्रभावशाली नेता ढूंढे और उन्हें बीजेपी में शामिल करें। इस तरह दोनों ने मिलकर 8000 लोगों का बड़ा नेटवर्क तैयार किया।

Source

इस तरह अमित शाह लगातार राजनीति में आगे ही बढ़ते रहे। इसी दौरान उन पर गुजरात दंगों में शामिल रहने के भी आरोप लगे और उन्हें जेल भी जाना पड़ा। उनकी वेबसाइट पर भी इसका जिक्र है जिसमें लिखा है कि नरेंद्र मोदी का करीबी होने की वजह से कांग्रेस ने उन्हें निशाना बनाया। अमित शाह के गृह मंत्री रहते हुए सोहराबुद्दीन एंकाउंटर को कांग्रेस ने फर्जी बताया था।

Source

सोहराबुद्दीन एंकाउंटर में नाम आने के बाद 25 जुलाई 2010 में अमित शाह को 90 दिन के लिए जेल जाना पड़ा था। इसके बाद वो जमानत पर बाहर आए और उन्हें अपने राज्य में घुसने पर 2 साल तक रोक लगी। साल 2015 में स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने उन्हें सभी आरोपों से मुक्त कर दिया। साल 2016 में एक वेबसाइट की खबर आई जिसके मुताबिक जेल में रहते हुए अमित शाह कैदियों को जेल में भगवद गीता के श्लोक सुनाते थे। इसके साथ ही जेल में उन्होंने कांग्रेस के खात्मे की प्रतिज्ञा ली थी।

Source

हाल ही में बिहार की राजनीति में बड़ा भूचाल आया जिसमें कांग्रेस-आरजेडी-जेडीयू का महागठबंधन खत्म हो गया और बीजेपी के समर्थन वाली नीतीश सरकार बन गई। अब तक 29 में से 18 राज्यों में बीजेपी और उसके समर्थन वाली सरकार है जबकि कांग्रेस केवल 6 राज्यों तक सिमट कर रह गई है।