BREAKING NEWS

PNB धोखाधड़ी मामला: इंटरपोल ने नीरव मोदी के भाई के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस फिर से किया सार्वजनिक ◾कोरोना संकट के बीच, देश में दो महीने बाद फिर से शुरू हुई घरेलू उड़ानें, पहले ही दिन 630 उड़ानें कैंसिल◾देशभर में लॉकडाउन के दौरान सादगी से मनाई गयी ईद, लोगों ने घरों में ही अदा की नमाज ◾उत्तर भारत के कई हिस्सों में 28 मई के बाद लू से मिल सकती है राहत, 29-30 मई को आंधी-बारिश की संभावना ◾महाराष्ट्र पुलिस पर वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, अब तक 18 की मौत, संक्रमितों की संख्या 1800 के पार ◾दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर किया गया सील, सिर्फ पास वालों को ही मिलेगी प्रवेश की अनुमति◾दिल्ली में कोविड-19 से अब तक 276 लोगों की मौत, संक्रमित मामले 14 हजार के पार◾3000 की बजाए 15000 एग्जाम सेंटर में एग्जाम देंगे 10वीं और 12वीं के छात्र : रमेश पोखरियाल ◾राज ठाकरे का CM योगी पर पलटवार, कहा- राज्य सरकार की अनुमति के बगैर प्रवासियों को नहीं देंगे महाराष्ट्र में प्रवेश◾राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने हॉकी लीजेंड पद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾CM केजरीवाल बोले- दिल्ली में लॉकडाउन में ढील के बाद बढ़े कोरोना के मामले, लेकिन चिंता की बात नहीं ◾अखबार के पहले पन्ने पर छापे गए 1,000 कोरोना मृतकों के नाम, खबर वायरल होते ही मचा हड़कंप ◾महाराष्ट्र : ठाकरे सरकार के एक और वरिष्ठ मंत्री का कोविड-19 टेस्ट पॉजिटिव◾10 दिनों बाद एयर इंडिया की फ्लाइट में नहीं होगी मिडिल सीट की बुकिंग : सुप्रीम कोर्ट◾2 महीने बाद देश में दोबारा शुरू हुई घरेलू उड़ानें, कई फ्लाइट कैंसल होने से परेशान हुए यात्री◾हॉकी लीजेंड और पद्मश्री से सम्मानित बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन◾Covid-19 : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 54 लाख के पार, अब तक 3 लाख 45 हजार लोगों ने गंवाई जान ◾देश में कोरोना से अब तक 4000 से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 39 हजार के करीब ◾पीएम मोदी ने सभी को दी ईद उल फितर की बधाई, सभी के स्वस्थ और समृद्ध रहने की कामना की ◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- निजामुद्दीन मरकज की घटना से संक्रमण के मामलों में हुई वृद्धि, देश को लगा बड़ा झटका ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

VVPAT पर्चियों के मिलान की हमारी मांग के विरोध में क्यों है चुनाव आयोग : सिंघवी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने ईवीएम के साथ लगी वीवीपैट की कम से कम 50 फीसदी पर्चियों के मिलान की मांग दोहराते हुए मंगलवार को सवाल किया कि आखिर चुनाव आयोग को इस पर क्या आपत्ति है और वह इसके विरोध में क्यों है? उन्होंने यह भी दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ‘विभाजनकारी और घृणात्मक’ बयान दे रहे हैं ताकि मुख्य मुद्दों से ध्यान भटकाया जा सके।

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता सिंघवी ने कहा, ‘‘हमारा यह कहना है कि चुनाव आयोग को कोई जिद नहीं करनी चाहिए। हम ईवीएम पर विश्वास नहीं करते, लेकिन फिलहाल कोई विकल्प नहीं है क्योंकि समय ही नहीं है। हम कह रहे हैं कि ईवीएम से चुनाव हो, लेकिन कम से कम 40-50 फीसदी वीवीपैट पर्चियों का मिलान होना चाहिए।

इसमें आयोग का इतना विरोध क्यों है? इसके लिए तो चुनाव आयोग को खुद पहल करनी चाहिए।’’ उन्होंने यह भी आरोप लगाया, ‘‘वीपीपैट की पर्चियों के मिलान की बात देश की एक राष्ट्रीय पार्टी (बीजेपी) नहीं मानती। यह तो चोर की दाढ़ी में तिनके वाली बात है।’’ चुनाव आयोग की ‘लॉजिस्टिक की कमी’ वाली दलील पर सिंघवी ने कहा, ‘‘यह विश्वसनीयता की बात है। एक तरफ विश्वसनीयता का प्रश्न है तो दूसरी तरफ लॉजिस्टिक का प्रश्न है।

\"vvpat\"

पर्चियों के मिलान के लिए अगर एक की बजाय पांच टीमें लगा दी जाएंगी तो एक या दो दिन में काम पूरा हो जाएगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पहले चरण के मदतान के दौरान ईवीएम में गड़बड़ी और वोटरलिस्ट से नाम गायब होने जैसी कई शिकायतें आई हैं। ये तथ्य हमने चुनाव आयोग के समक्ष रखे हैं।’’

प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी के कुछ दूसरे नेताओं के चुनावी भाषणों के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री, अमित शाह और योगी के घृणात्मक बयान आ रहे हैं। वे सेना का इस्तेमाल राजनीति के लिए कर रहे हैं। यह उनकी घबराहट और बौखलाहट को दिखाता है। इनके पास रोजगार पर कोई जवाब नहीं है। मुख्य मुद्दों से भटकाने के लिए ये ऐसे हथकंडे अपना रहे हैं। हमने इनके विभाजनकारी और घृणात्मक वक्तव्यों के बारे में चुनाव आयोग को बताया है।’’

कांग्रेस के ‘न्याय’ संबंधी चुनावी वादे पर सिंघवी ने कहा, ‘‘ न्याय कोई जुमलेबाजी नहीं है। इसको चार महीने के गंभीर विचार विमर्श के बाद उच्च कोटि के अर्थशास्त्रियों द्वारा तैयार किया गया है। हमने कहा है कि इसका चरणबद्ध तरीके से क्रियान्वयन किया जाएगा। ये वो पार्टी कह रही है जो मनरेगा और खाद्य सुरक्षा कानून जैसी दुनिया की सबसे बड़ी योजनाएं लाई है। हम इस वादे को पूरा करेंगे।’’