BREAKING NEWS

प्रियंका गांधी बोली- भाजपा सरकार भी डींगें हांकने के लिए डाटा छिपाने में लगी है◾प्रदूषण को लेकर SC ने 4 राज्यों के चीफ सेक्रेटरी को किया तलब, कहा- ऑड-ईवन स्थायी समाधान नहीं◾INX मीडिया : दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज की चिदंबरम की जमानत याचिका ◾राहुल बोले- 'मोदीनॉमिक्स' ने इतना नुकसान कर दिया कि सरकार को अपनी रिपोर्ट छिपानी पड़ रही है◾शरद पवार बोले-शिवसेना, NCP और कांग्रेस की सरकार 5 साल का कार्यकाल पूरा करेगी◾ऑड-ईवन योजना की अवधि बढ़ाए जाने पर सोमवार को होगा फैसला : केजरीवाल◾NCP नेता नवाब मलिक बोले- शिवसेना को किया गया अपमानित, निश्चित रूप से CM उनका ही होगा◾SC ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में शिवकुमार की जमानत के खिलाफ ED की याचिका की खारिज◾5 साल की बात क्यों, हम चाहते हैं 25 साल रहे शिवसेना का CM : संजय राउत◾दिल्ली-NCR में आज भी प्रदूषण की स्थिति गंभीर, आसमान में छाई धुंध की चादर◾ऑड-ईवन योजना का अंतिम दिन आज, स्कीम को आगे बढ़ाने पर संशय बरकरार◾तीस हजारी कांड : पथराव करने वाले वकील ही थे, क्या गारंटी?◾INX मीडिया मामला: चिदंबरम की जमानत याचिका पर आज आ सकता है कोर्ट का फैसला◾महाराष्ट्र में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के गठबंधन के खिलाफ SC में याचिका दायर◾चीन के साथ 1962 के युद्ध ने विश्व मंच पर भारत की स्थिति को काफी नुकसान पहुंचाया : जयशंकर ◾झारखंड में रघुबर दास नहीं, मोदी-शाह करेंगे चुनाव प्रचार का नेतृत्व ◾भारत ने अयोध्या, कश्मीर पर पाकिस्तानी दुष्प्रचार का दिया करारा जवाब◾शी चिनफिंग और मोदी के बीच वार्ता ◾महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना में विलगाव ने कांग्रेस-राकांपा को किया है एकजुट ◾गृहमंत्री अमित शाह शुक्रवार को जायेंगे सीआरपीएफ के मुख्यालय ◾

देश

मेरे फैसले पर संदेह करने वाले गलत : मनमोहन सिंह

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि वैश्वीकरण जारी रहेगा और 25 साल देश की नई नीतियों को लेकर संदेह करने वाले गलत साबित हुए हैं। उन्होंने कहा, 'यह गर्व की बात है कि आर्थिक नीतियों का जोर और उसकी दिशा पिछले 25 साल से बरकरार है।'. सिंह को 1990 के दशक की शुरुआत में किए गये आर्थिक सुधारों का सूत्रधार माना जाता है। पूर्व पीएम ने इंडियन स्कूल ऑफ बिजनस लीडरशिप समिट-2017 के 15वें सत्र में शुक्रवार शाम को यह बात कही। उन्होंने कहा, 'आप सभी को पता है कि 1991 में हमने अर्थव्यवस्था के प्रबंधन के लिए नया रुख अपनाया। इसमें घरेलू और बाह्य अर्थव्यवस्था दोनों में प्रगतिशील उदारीकरण शामिल है। इस दौरान जीडीपी में उल्लेखनीय वृद्धि हुई और साथ ही गरीबी रेखा के नीचे गुजर-बसर करने वालों के अनुपात में भी कमी आई।'

बता दें कि इस दौरान सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में उल्लेखनीय वृद्धि हुई और साथ ही गरीबी रेखा के नीचे गुजर-बसर करने वालों के अनुपात में भी कमी आयी। सिंह ने कहा कि निसंदेह कई चुनौतियां हैं। खासकर स्वास्थ्य, शिक्षा और पर्यावरण के क्षेत्र में। साथ ही आय एवं संपत्ति में असामनता को पाटने के लिये व्यावहारिक उपाय किये जाने की जरूरत है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि वैश्वीकरण बरकरार रहेगा।