भाजपा की जम्मू कश्मीर इकाई ने सुरक्षा वजहों से राज्य में विधानसभा चुनाव टालने के चुनाव आयोग के फैसले का मंगलवार को समर्थन किया।

चुनाव आयोग ने रविवार को लोकसभा चुनाव के कार्यक्रम की घोषणा की थी, लेकिन जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव उसके साथ नहीं कराने का फैसला किया था। इसको लेकर राज्य में विभिन्न राजनीतिक दलों की ओर से तीखी प्रतिक्रिया आई।

उन्हें चुनिए जो संसद में आपकी आवाज सुने जाने को सुनिश्चित करें : फारूक अब्दुल्ला 

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कहा कि हाल में पंचायत और शहरी स्थानीय निकायों के चुनाव का बहिष्कार करने वाली कुछ पार्टियों द्वारा की गई आलोचना अनुचित थी।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रविंदर रैना ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘यद्यपि भाजपा लोकसभा और विधानसभा चुनाव एकसाथ कराए जाने के लिये तैयार है। हम अकेले संसदीय चुनाव कराने के चुनाव आयोग के फैसले का स्वागत करते हैं।’’