BREAKING NEWS

बवाल के बाद किसानों को दिल्ली में एंट्री की अनुमति, बुराड़ी के निरंकारी ग्राउंड में प्रदर्शन कर सकेंगे◾सिडनी वनडे : भारत के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया ने पहले मैच में बनाया 374 रनों का विशाल स्कोर ◾प्रदर्शनकारी किसानों के साथ पुलिस की सख्ती पर CM अमरिंदर बोले - तुरंत बात करे केंद्र, इंतजार न कराये ◾बॉम्बे HC में कंगना रनौत की जीत, कोर्ट ने कहा- 'गलत इरादे' से BMC ने की मुंबई ऑफिस में तोड़फोड़◾टिकरी, सिंघु बॉर्डर पर किसानों और पुलिस के बीच झड़प, आंसू गैस के गोले दागे गए, कई मेट्रो स्टेशन बंद ◾महबूबा मुफ्ती का आरोप-एक बार फिर मुझे हिरासत में लिया गया, बाहर निकलने से रोक रही है पुलिस◾रोहिंग्या मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री का ओवैसी को जवाब, हमारे पास पूरी जानकारी, पुलिस करती है मॉनिटरिंग◾लव जिहाद : सपा सांसद ने कहा - मुस्लिम युवा हिंदू लड़कियों को बहन मानें, वर्ना होगा जबरदस्त टॉर्चर ◾देश में कोरोना मुक्त होने वालों की संख्या 87 लाख के पार, एक्टिव केस 4 लाख 55 हजार ◾दुर्घटनाग्रस्त होकर अरब सागर में गिरा भारतीय नेवी का मिग -29 K, लापता पायलट की खोज जारी◾कड़े सुरक्षा बंदोबस्त भी नहीं रोक पा रहे है अन्नदाताओं के कदम, दिल्ली के करीब पहुंचा किसान मार्च◾दुनियाभर में कोरोना महामारी का हाहाकार, पॉजिटिव मामलों की संख्या 6 करोड़ 8 लाख के पार ◾कप्तान कोहली के सवाल पर BCCI ने दिया बयान बीमार पिता को देखने के लिए मुंबई लौटे रोहित शर्मा◾IND vs AUS : ऑस्ट्रेलिया का टॉस जीत पहले बल्लेबाजी का फैसला◾गुजरात के राजकोट में कोविड-19 अस्पताल में भीषण आग लगने से 6 मरीजों की झुलस कर मौत◾आज का राशिफल ( 27 नवंबर 2020 )◾एफसी कोहली का 96 वर्ष की आयु में निधन; प्रधानमंत्री समेत कई हस्तियों ने जताया शोक◾PM मोदी 28 नवंबर को पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का करेंगे दौरा◾प्रधानमंत्री द्वारा तीसरे ग्लोबल रिन्यूबल एनर्जी इन्वेस्टर्स मीट एक्सपो का शुभारंभ, शिवराज हुए शामिल◾सड़क परियोजनाओं की मिली सौगात, सड़कें बेहतर होंगी तो लगेंगे उद्योग, मिलेगा रोजगार : नितिन गडकरी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कश्मीर में फोन करने के लिए लंबी कतारें, दो घंटे इंतजार के बाद दो मिनट की बात

कश्मीर में फोन पर केवल दो मिनट बात करने के लिए लोग करीब दो घंटे तक कतार में लग रहे हैं। यहां उपायुक्त (डीसी) कार्यालय के बाहर कतार में लगे कई कश्मीरियों को इन दिनों इस स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। वे घाटी से बाहर अपने परिवार के सदस्यों और अन्य लोगों से बात करने के लिए बड़ी बेचैनी से अपनी बारी का इंतजार करते दिख रहे हैं। अपना सुख-दुख साझा करने के लिए उनके पास कई सारी बातें हैं। जल्दबाजी में सब कुछ बयां करने की कोशिश करने के बावजूद यह छोटी सी अवधि कई बार उनके लिए कम पड़ जाती है। 

राहुल पर सत्यपाल मलिक का पलटवार, बोले- कश्मीर के हालात दिखाने के लिए भेजेंगे विमान

जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को रद्द करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों-जम्मू कश्मीर और लद्दाख- में विभाजित करने की केंद्र की घोषणा के मद्देनजर पांच अगस्त तड़के से कश्मीर घाटी में संचार व्यवस्था बंद है। केबल नेटवर्क पर न्यूज चैनल भी बंद रखे गये हैं। फोन और इंटरनेट सेवाएं बंद किये जाने के एक सप्ताह से अधिक समय बीत जाने के बाद लोगों में निराशा बढ़ती जा रही है।

उपायुक्त कार्यालय में आम आदमी के लिए सरकार द्वारा मुहैया किये गए फोन लाइन पर बात करने के लिए मारूफा भट को दो घंटे इंतजार करना पड़ा। लेकिन अपनी भावनाओं पर काबू पाने के बाद वह दिल्ली में अपनी बहन से बात कर सकीं। उन्होंने फोन पर कहा, ‘‘हैलो, क्या आप ठीक हो।’’? इसके बाद फूट फूट कर रोने लगी। अपने एक साल के बेटे को गोद में लिये मारूफा ने कहा, ‘‘हाल ही में मेरे पिता की दिल्ली में हार्ट बाईपास सर्जरी हुई है। हम कुछ दिन पहले ही लौटे हैं और अब दवाइयां खत्म हो रही हैं। यही कारण है कि मुझे दिल्ली में अपनी बहन से संपर्क करना था।’’ परिवार में किसी का निधन हो जाना, कारोबारी लेन-देन और परीक्षाएं ...फोन करने की ऐसी कई सारी जरूरी वजहें हैं। 

पाकिस्तान की धमकियों पर बोले सेना प्रमुख- किसी भी हालात से निपटने के लिए हैं तैयार

मोहम्मद अशरफ अपने बेटे हमस से बात करने के दौरान रो पड़े। हमस के दादाजी का पांच दिन पहले निधन हो गया था और अशरफ मंगलवार को अपने बेटे को यह खबर दे सके। घाटी में कर्फ्यू जैसी स्थिति नौवें दिन भी है और यहां के लोग इस हालात का सामना करने की तैयारी में जुटे हुए हैं। लियाकत शाह नाम के एक कारोबारी ने कहा कि मोबाइल युवाओं को व्यस्त रखेगा।

वे इंटरनेट का उपयोग करेंगे और जानेंगे कि देश-दुनिया में क्या हो रहा है। वह लुधियाना स्थित अपने थोक विक्रेता को चमड़े की वस्तुओं की आपूर्ति रोकने के लिए फोन करने के वास्ते अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे। सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि एहतियाती उपाय के तहत संचार संपर्क को बंद करना पड़ा। 

जावड़ेकर बोले- कश्मीर पर कांग्रेस में अलग-अलग आवाजें 'दिशाहीन राजनीति' को दिखाती हैं

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘हर तरह की अफवाह फैलाने और घटनाओं की गलत रिपोर्टिंग का प्रसार करने के लिए यह एक हथकंडा बन गया है। हाल ही में एक अंतरराष्ट्रीय चैनल ने खबर दी कि शहर के बाहरी इलाके में बीते शुक्रवार की नमाज के दौरान गोलीबारी हुई। 

जबकि कोई गोली नहीं चली थी। यदि वहां मोबाइल फोन होते, तो इस तरह की गलत रिपोर्टिंग घाटी के अन्य इलाकों में भी आग की तरह फैल जाती।’’ हालांकि, कुछ अधिकारी यह भी स्वीकार कर रहे हैं कि फोन लाइनों के बंद रहने से जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। राज्य प्रशासन ने रविवार को कहा था कि 300 ‘पब्लिक बूथ’ शुरू किये गए हैं लेकिन लोगों का कहना है कि वे इस बात से अनजान हैं। एक परीक्षा का फार्म भरने के लिए चंडीगढ़ स्थिति अपने एक रिश्तेदार से बात करना चाह रहे अरसलान वानी ने कहा, ‘‘मुझे मेरे मोबाइल फोन बजने के सपने आते हैं।’’