BREAKING NEWS

पड़ोसी देशों में उत्पीड़न के शिकार लोगों को भारतीय नागरिकता देने से बेहतर कल सुनिश्चित होगा : PM मोदी ◾हैदराबाद गैंगरेप : एनकाउंटर के बाद पुलिसवालों पर बरसाए गए फूल, महिलाओं ने राखी बांधकर किया धन्यवाद ◾हैदराबाद गैंगरेप: जिस फ्लाईओवर के नीचे जिंदा जलाई गई थी डॉक्टर, उसी जगह मारे गए आरोपी◾हैदराबाद गैंगरेप: आरोपियों के एनकाउंटर पर पीड़िता के परिवार का बयान, कहा- 'न्याय मिला'◾हैदराबाद गैंगरेप केस के चारों आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया◾झारखंड चुनाव : बिना 'कप्तान' के मैदान में डटे JDU के 'खिलाड़ी' मायूस!◾भीमराव अंबेडकर की पुण्यतिथि पर उपराष्ट्रपति, पीएम मोदी और अमित शाह ने दी श्रद्धांजलि◾थानों में महिला हेल्प डेस्क की स्थापना के लिए 100 करोड़ रुपये आवंटित◾कर्नाटक उपचुनाव में 62.18 प्रतिशत मतदान, 12 सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला ◾प्याज को लेकर भाजपा सांसद ने कांग्रेस पर कसा तंज ◾मोदी को तानाशाह के रूप में बदनाम करने की साजिश : स्वामी◾आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री पहुंचे दिल्ली, मिलेंगे प्रधानमंत्री एवं केंद्रीय मंत्रियों से ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता दिल्ली हवाई अड्डे पहुंची, पुलिस ने अस्पताल तक बनाया ग्रीन कॉरीडोर ◾अनुच्छेद 370 : लाइव स्ट्रीमिंग संबंधी याचिका पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾हफ्ते भर बाद भी मंत्रियों को नहीं मिला विभाग, भाजपा ने की आलोचना ◾बैंक धोखाधड़ी : ईडी ने रतुल पुरी की जमानत अर्जी का किया विरोध◾राहुल गांधी ने प्याज पर सीतारमण के बयान को लेकर तंज कसा ◾TOP 20 NEWS 05 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾PNB घोटाला : नीरव मोदी भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित ◾DTC और क्लस्टर बसों में लगेंगे CCTV कैमरे, पैनिक बटन, GPS : केजरीवाल ◾

जम्मू-कश्मीर

कश्मीर में फोन करने के लिए लंबी कतारें, दो घंटे इंतजार के बाद दो मिनट की बात

 jammu kasmir

कश्मीर में फोन पर केवल दो मिनट बात करने के लिए लोग करीब दो घंटे तक कतार में लग रहे हैं। यहां उपायुक्त (डीसी) कार्यालय के बाहर कतार में लगे कई कश्मीरियों को इन दिनों इस स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। वे घाटी से बाहर अपने परिवार के सदस्यों और अन्य लोगों से बात करने के लिए बड़ी बेचैनी से अपनी बारी का इंतजार करते दिख रहे हैं। अपना सुख-दुख साझा करने के लिए उनके पास कई सारी बातें हैं। जल्दबाजी में सब कुछ बयां करने की कोशिश करने के बावजूद यह छोटी सी अवधि कई बार उनके लिए कम पड़ जाती है। 

राहुल पर सत्यपाल मलिक का पलटवार, बोले- कश्मीर के हालात दिखाने के लिए भेजेंगे विमान

जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को रद्द करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों-जम्मू कश्मीर और लद्दाख- में विभाजित करने की केंद्र की घोषणा के मद्देनजर पांच अगस्त तड़के से कश्मीर घाटी में संचार व्यवस्था बंद है। केबल नेटवर्क पर न्यूज चैनल भी बंद रखे गये हैं। फोन और इंटरनेट सेवाएं बंद किये जाने के एक सप्ताह से अधिक समय बीत जाने के बाद लोगों में निराशा बढ़ती जा रही है।

उपायुक्त कार्यालय में आम आदमी के लिए सरकार द्वारा मुहैया किये गए फोन लाइन पर बात करने के लिए मारूफा भट को दो घंटे इंतजार करना पड़ा। लेकिन अपनी भावनाओं पर काबू पाने के बाद वह दिल्ली में अपनी बहन से बात कर सकीं। उन्होंने फोन पर कहा, ‘‘हैलो, क्या आप ठीक हो।’’? इसके बाद फूट फूट कर रोने लगी। अपने एक साल के बेटे को गोद में लिये मारूफा ने कहा, ‘‘हाल ही में मेरे पिता की दिल्ली में हार्ट बाईपास सर्जरी हुई है। हम कुछ दिन पहले ही लौटे हैं और अब दवाइयां खत्म हो रही हैं। यही कारण है कि मुझे दिल्ली में अपनी बहन से संपर्क करना था।’’ परिवार में किसी का निधन हो जाना, कारोबारी लेन-देन और परीक्षाएं ...फोन करने की ऐसी कई सारी जरूरी वजहें हैं। 

पाकिस्तान की धमकियों पर बोले सेना प्रमुख- किसी भी हालात से निपटने के लिए हैं तैयार

मोहम्मद अशरफ अपने बेटे हमस से बात करने के दौरान रो पड़े। हमस के दादाजी का पांच दिन पहले निधन हो गया था और अशरफ मंगलवार को अपने बेटे को यह खबर दे सके। घाटी में कर्फ्यू जैसी स्थिति नौवें दिन भी है और यहां के लोग इस हालात का सामना करने की तैयारी में जुटे हुए हैं। लियाकत शाह नाम के एक कारोबारी ने कहा कि मोबाइल युवाओं को व्यस्त रखेगा।

वे इंटरनेट का उपयोग करेंगे और जानेंगे कि देश-दुनिया में क्या हो रहा है। वह लुधियाना स्थित अपने थोक विक्रेता को चमड़े की वस्तुओं की आपूर्ति रोकने के लिए फोन करने के वास्ते अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे। सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि एहतियाती उपाय के तहत संचार संपर्क को बंद करना पड़ा। 

जावड़ेकर बोले- कश्मीर पर कांग्रेस में अलग-अलग आवाजें 'दिशाहीन राजनीति' को दिखाती हैं

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘हर तरह की अफवाह फैलाने और घटनाओं की गलत रिपोर्टिंग का प्रसार करने के लिए यह एक हथकंडा बन गया है। हाल ही में एक अंतरराष्ट्रीय चैनल ने खबर दी कि शहर के बाहरी इलाके में बीते शुक्रवार की नमाज के दौरान गोलीबारी हुई। 

जबकि कोई गोली नहीं चली थी। यदि वहां मोबाइल फोन होते, तो इस तरह की गलत रिपोर्टिंग घाटी के अन्य इलाकों में भी आग की तरह फैल जाती।’’ हालांकि, कुछ अधिकारी यह भी स्वीकार कर रहे हैं कि फोन लाइनों के बंद रहने से जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। राज्य प्रशासन ने रविवार को कहा था कि 300 ‘पब्लिक बूथ’ शुरू किये गए हैं लेकिन लोगों का कहना है कि वे इस बात से अनजान हैं। एक परीक्षा का फार्म भरने के लिए चंडीगढ़ स्थिति अपने एक रिश्तेदार से बात करना चाह रहे अरसलान वानी ने कहा, ‘‘मुझे मेरे मोबाइल फोन बजने के सपने आते हैं।’’