BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं में आई बड़ी गिरावट, सरकार ने राज्यसभा में बताया पिछले एक साल में इतने जवान हुए शहीद ◾UP चुनाव : BJP ने खेला धार्मिक कार्ड, केशव मौर्य का नारा 'अयोध्या-काशी.... जारी, अब मथुरा की तैयारी' ◾अखिलेश का BJP पर कटाक्ष, बोले- जिनके पास परिवार नहीं है, वे जनता का दर्द नहीं समझ सकते ◾दिल्ली में 8 रुपए सस्ता हुआ पेट्रोल, केजरीवाल सरकार ने VAT में कटौती का किया ऐलान◾SKM का दावा '700 से ज्यादा किसानों ने गंवाई जान', तोमर बोले- सरकार के पास मौतों का कोई रिकॉर्ड नहीं...◾4 दिसंबर को होगी SKM की अहम बैठक, रणनीति को लेकर होगी बड़ी घोषणा, टिकैत बोले- आंदोलन रहेगा जारी ◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के नेताओं के विवादित बयान ◾निलंबन के खिलाफ महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विपक्ष का प्रदर्शन, राहुल समेत कई नेता हुए शामिल ◾EWS वर्ग की आय सीमा मापदंड पर केंद्र करेगी पुनर्विचार, SC की फटकार के बाद किया समिति का गठन ◾Today's Corona Update : एक दिन में 8 हजार से ज्यादा नए मामले, 1 लाख से कम हुए एक्टिव केस◾जम्मू-कश्मीर : पुलवामा मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के शीर्ष कमांडर समेत 2 आतंकी ढेर◾Winter Session: लोकसभा में आज 'ओमिक्रॉन' पर हो सकती है चर्चा, सदन में कई बिल पेश होने की संभावना ◾महंगाई : महीने की शुरुआत में कॉमर्श‍ियल सिलेंडर की कीमतों में हुआ इजाफा, रेस्टोरेंट का खाना हो सकता है मंहगा◾UPTET 2021 पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार◾कोरोना के नए वेरिएंट के बीच भारतीय एयरलाइन कंपनियों ने दोगुनी की कीमतें, जानिए कितना देना होगा किराया ◾IPL नीलामी से पहले कोहली, रोहित, धोनी रिटेन ; दिल्ली की कमान संभालेंगे ऋषभ पंत, पढ़ें रिटेंशन की पूरी लिस्ट ◾गृह मंत्री अमित शाह दो दिन के राजस्थान दौरे पर जाएंगे, BSF जवानों की करेंगे हौसला अफजाई◾पंजाबः AAP नेता चड्ढा ने सभी राजनीतिक दलों पर लगाया आरोप, कहा- विधानसभा चुनाव में केजरीवाल बनाम सभी पार्टी होगा◾'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾

पश्चिम बंगाल में 'राजनीतिक हिंसा' को लेकर 150 विशिष्ट जनों ने लिखा राष्ट्रपति को पत्र, स्टेट टेरर को बताया जिम्मेदार

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा को लेकर विशिष्ट जनों के एक समूह ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखा है। पत्र में राजनीतिक हिंसा के लिये ''स्टेट टेरर'' को जिम्मेदार बताते हुए उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत न्यायाधीश की निगरानी में निष्पक्ष जांच कराने और शीघ्र न्याय सुनिश्चित करने की अपील की गई है।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के बाद ''निशाना बनाकर की जा रही राजनीतिक हत्याओं'' और इन्हें लेकर स्थानीय प्रशासन तथा पुलिस के ''ढुलमुल और अनुचित'' रवैये की ओर इशारा करते हुए उन्होंने इन मामलों की जांच एनआईए को सौंपने की मांग की। पत्र में कहा गया है कि पश्चिम बंगाल अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटा राज्य है, लिहाजा देश की संस्कृति और अखंडता पर ''राष्ट्र-विरोधी'' हमले से निपटने के लिए इन मामलों की जांच एनआईए को सौंपी जानी चाहिये।

सेवानिवृत न्यायाधीशों, राजनयिकों, नौकरशाहों, पुलिस अधिकारियों और सैनिकों समेत करीब 150 लोगों ने सोमवार को राष्ट्रपति को यह ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में कहा गया है: ''हम उन लोगों के खिलाफ चुनावी प्रतिशोध में की गई कथित हिंसा से बहुत परेशान हैं, जिन्होंने किसी एक या दूसरे राजनीतिक दल को वोट देने के अपने लोकतांत्रिक अधिकार का प्रयोग किया।''

उन्होंने मीडिया में आईं खबरों का हवाला देते हुए कहा कि राज्य में चुनाव के बाद हुई कथित हिंसा की 15 हजार से अधिक घटनाओं में महिलाओं समेत दर्जनों लोगों की मौत हुई, जिसकी वजह से कथित रूप से चार से पांच हजार लोगों को असम, झारखंड, और ओडिशा प्रवास करना पड़ा।

हिंसा के लिये भाजपा ने जहां सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेदार बताया है तो वहीं टीएमसी ने भाजपा पर हिंसक घटनाओं के राजनीतिकरण का आरोप लगाया है। राज्य सरकार ने बड़े पैमाने पर हिंसा होने की बात का खंडन किया है।

राष्ट्रपति को सौंपे गए ज्ञापन पर दिल्ली उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश बी सी पटेल, बंबई उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश क्षितिज व्यास, 'रॉ' के पूर्व प्रमुख संजीव त्रिपाठी, पंजाब के पूर्व डीजीपी पीसी डोगरा और जम्मू-कश्मीर के पूर्व डीजीपी एस पी वैद समेत कई लोगों ने हस्ताक्षर किये हैं।