BREAKING NEWS

अनुपम खेर ने ट्विटर पर दिया नसीरुद्दीन शाह को जवाब, कहा - कुछ पदार्थों के सेवन का नतीजा है यह बयान◾अगले दस दिन में देश में 5,000 और शाहीन बाग होंगे : आजाद ◾पुरुष घर पर रजाई में सो रहे, महिलाएं चौराहे पर : सीएए विरोध पर बोले योगी आदित्यनाथ ◾मौत की सजा पाने वाले दोषियों को सात दिन में फांसी देने के लिये केन्द्र पहुंचा न्यायालय◾नेताजी जयंती को लेकर भाजपा में उत्साह नहीं, पोते चंद्र कुमार हैरान !◾गणतंत्र दिवस परेड में गुरु नानक के साथ जयपुर के परकोटा और गुजरात की बावड़ी की झलक◾राहुल 30 जनवरी को वायनाड में करेंगे सीएए विरोधी रैली◾CAA के समर्थन में नड्डा करेंगे आगरा में रैली◾दिल्ली कांग्रेस के कई नेता आम आदमी पार्टी में शामिल◾केजरीवाल ने भाजपा,कांग्रेस समर्थकों से भी मांगे वोट◾मानवयुक्त अंतरिक्ष मिशन से पहले इसरो, महिला रोबोट ‘‘व्योममित्र’’ को अंतरिक्ष की सैर कराएगा◾रक्षामंत्री राजनाथ सिंह बोले- जो मुस्लिम भारत का नागरिक है, उसे कोई छू नहीं पाएगा◾TOP 20 NEWS 22 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾एटलस साइकिल की मालकिन नताशा कपूर ने खुदकुशी की, पंखे से लटका मिला शव◾एलआईसी को नुकसान पहुंचाकर करोड़ों लोगों के भविष्य को जोखिम में डाल रही है मोदी सरकार : राहुल गांधी ◾ममता ने अमित शाह से CAA की धाराओं पर मांगा स्पष्टीकरण, केन्द्र पर झूठ फैलाने का लगाया आरोप ◾CAA-NRC पर ओवैसी ने अमित शाह को दी बहस की चुनौती, कहा- ममता, राहुल और अखिलेश से क्यों, किसी दाढ़ी वाले से कीजिए◾कांग्रेस को अपना नाम बदल कर मुस्लिम लीग कांग्रेस रख लेना चाहिए : संबित पात्रा◾दिल्ली चुनाव : बादली में अरविंद केजरीवाल ने किया रोड शो, बोले- परिवार के बड़े बेटे की तरह किया काम◾पाकिस्तान और अमेरिका भी धर्मशासित देश है, केवल हम ही धर्मनिरपेक्ष : राजनाथ सिंह ◾

विशेष दर्जा समाप्त होने से खत्म होगा अलगाववादियों का प्रभुत्व : मनसुख मंडाविया

केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता मनसुख मंडाविया ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म होने के बाद अलगाववादियों का ‘प्रभुत्व’ खत्म होगा। गुजरात से राज्यसभा सदस्य मंडाविया ने कहा कि राजनीतिक हितों से प्रभावित और अलगावादी चाहते थे कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा बना रहे ताकि उनका एजेंडा चलता रहे। 

उन्होंने कहा, प्रत्येक भारतीय हमेशा से चाहता था कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बने। अंतत: उनका उनकी इच्छा इस ऐतिहासिक फैसले और अनुच्छेद 35 ए और अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों के समाप्त होने के साथ पूरी हुई।