BREAKING NEWS

दवाओं की कोई कमी नहीं, फोन पर पाबंदी से जिंदगियां बचीं : सत्यपाल मलिक◾निगमबोध घाट पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अरुण जेटली का अंतिम संस्कार किया गया◾मन की बात: PM मोदी ने दो अक्टूबर से प्लास्टिक कचरे के खिलाफ जन आंदोलन का किया आह्वान ◾लोकतांत्रिक अधिकारों को समाप्त करने से अधिक राजनीतिक और राष्ट्र-विरोधी कुछ नहीं : प्रियंका गांधी◾जी-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए PM मोदी फ्रांस रवाना◾सोनिया गांधी ने कहा- सीट बंटवारे को जल्द अंतिम रूप दें महाराष्ट्र के नेता◾व्यक्तिगत संबंधों के कारण से सभी राजनीतिक दलों में अरुण जेटली ने बनाये थे अपने मित्र◾अनंत सिंह को लेकर पटना पहुंची बिहार पुलिस, एयरपोर्ट से बाढ़ तक कड़ी सुरक्षा◾पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी बोले- कश्मीर में आग से खेल रहा है भारत◾निगमबोध घाट पर होगा पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का अंतिम संस्कार◾भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए मुख्य संकटमोचक थे अरुण जेटली◾PM मोदी को बहरीन ने 'द किंग हमाद ऑर्डर ऑफ द रेनेसां' से नवाजा, खलीफा के साथ हुई द्विपक्षीय वार्ता◾मोदी ने जेटली को दी श्रद्धांजलि, बोले- सत्ता में आने के बाद गरीबों का कल्याण किया◾जेटली के आवास पर तीन घंटे से अधिक समय तक रुके रहे अमित शाह ◾भाजपा को हर कठिनाई से उबारने वाले शख्स थे अरुण जेटली◾राहुल और अन्य विपक्षी नेता श्रीनगर हवाईअड्डे पर रोके गये, सभी को भेजा वापिस ◾अरूण जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर लाया गया, भाजपा और विपक्षी नेताओं ने दी श्रद्धांजलि ◾वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के निधन पर प्रधानमंत्री ने कहा : मैंने मूल्यवान मित्र खो दिया ◾क्रिेकेटरों ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन : राजनीतिक खेमे में दुख की लहर◾

अन्य राज्य

विशेष दर्जा समाप्त होने से खत्म होगा अलगाववादियों का प्रभुत्व : मनसुख मंडाविया

केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता मनसुख मंडाविया ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म होने के बाद अलगाववादियों का ‘प्रभुत्व’ खत्म होगा। गुजरात से राज्यसभा सदस्य मंडाविया ने कहा कि राजनीतिक हितों से प्रभावित और अलगावादी चाहते थे कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा बना रहे ताकि उनका एजेंडा चलता रहे। 

उन्होंने कहा, प्रत्येक भारतीय हमेशा से चाहता था कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बने। अंतत: उनका उनकी इच्छा इस ऐतिहासिक फैसले और अनुच्छेद 35 ए और अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों के समाप्त होने के साथ पूरी हुई।