BREAKING NEWS

करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾PM मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर शोक प्रकट किया ◾पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि ◾निर्भया गैंगरेप: अपराध के समय दोषी पवन नाबलिग था या नहीं? 20 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾सीएए पर प्रदर्शनों के बीच CJI बोबड़े ने कहा- यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट और गारे की इमारतें नहीं◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾PM मोदी ने मंत्रियों से कहा, कश्मीर में विकास का संदेश फैलाएं और गांवों का दौरा करें ◾भाजपा ने अब तक 8 पूर्वांचलियों पर लगाया दांव◾यूरोपीय संघ के उच्च प्रतिनिधि ने PM मोदी से भेंट की◾दिल्ली पुलिस आयुक्त को NSA के तहत मिला किसी को भी हिरासत में लेने का अधिकार◾

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर AIADMK ने द्रमुक की आलोचना की, बताया कांग्रेस का ‘गुलाम’

चेन्नई : तमिलनाडु में सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक ने नागरिकता (संशोधन) कानून को लेकर विपक्षी दल द्रमुक की आलोचना करते हुए शनिवार को उससे पूछा कि 17 साल केंद्र की सत्ता साझेदारी करने के दौरान क्या उसने श्रीलंका के तमिल शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता दिए जाने के बारे में कभी एक शब्द भी कहा था। अन्नाद्रमुक ने अपने मुखपत्र ‘नमाधु अम्मा’ में एमके स्टालिन के नेतृत्व वाली पार्टी की सहयोगी कांग्रेस पर भी निशाना साधा। 

अन्नाद्रमुक ने आरोप लगाया कि स्वतंत्रता के बाद कांग्रेस ने करीब 50 साल तक भारत में शासन किया और उसने शरणार्थियों के मुद्दे पर स्थायी समाधान के लिए कभी मदद नहीं की। उल्लेखनीय है कि नागरिकता (संशोधन) कानून में श्रीलंका से आए तमिल शरणार्थियों को नागरिकता दिए जाने पर विचार नहीं किया गया है और इसलिए द्रमुक इसका विरोध कर रहा है। 

अन्नाद्रमुक ने पूछा कि क्या द्रमुक को कांग्रेस का ‘‘गुलाम’’ बनकर ‘‘राजनीतिक फायदा’’ उठाने की कोशिश करते शर्म नहीं आती, जिसका शरणार्थियों से संबंधित मुद्दों के समाधान पर पिछला रिकार्ड ऐसा रहा है। पार्टी ने जानना चाहा कि क्या द्रमुक सिर्फ अभी-अभी भारत में श्रीलंकाई तमिलों की दुर्दशा पर जागी है, जब केंद्र नागरिकता अधिनियम में संशोधन लेकर आया। अन्नाद्रमुक ने कहा कि यह कानून 130 करोड़ भारतीयों के कल्याण के लिए है। 

अपनी धुर विरोधी पार्टी (द्रमुक) का उपहास उड़ाते हुए तमिलनाडु में सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक ने पूछा कि क्या द्रमुक ने ‘‘करीब 17 साल केंद्र में सत्ता साझा करने के दौरान ईलम तमिलों को नागरिकता दिए जाने के संबंध कभी एक शब्द भी बोला।’’ ईलम का अर्थ मातृभूमि होता है और तमिलनाडु में ‘‘ईलम तमिल’’ शब्द का इस्तेमाल श्रीलंका के तमिल अल्पसंख्यकों को संबोधित करने के लिए किया जाता है।