BREAKING NEWS

चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, रंधावा ने हाईकमान के फैसले का किया स्वागत◾महबूबा मुफ्ती ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- वोट लेने के लिए पाकिस्तान का करती है इस्तेमाल ◾आतंकियों की नापाक साजिश होगी नाकाम, ड्रोन के लिए काल बनेगी ‘पंप एक्शन गन’! सरकार ने सुरक्षा बलों को दिए निर्देश◾TMC में शामिल होने के बाद बाबुल सुप्रियो ने रखी दिल की बात, बोले- जिंदगी ने मेरे लिए नया रास्ता खोल दिया है ◾सिद्धू पर लगे एंटीनेशनल के आरोपों पर BJP का सवाल, सोनिया और राहुल चुप क्यों हैं?◾सुखजिंदर रंधावा हो सकते पंजाब के नए मुख्यमंत्री, अरुणा चौधरी और भारत भूषण बनेंगे डिप्टी सीएम◾इस्तीफा देने से पहले सोनिया को अमरिंदर ने लिखी थी चिट्ठी, हालिया घटनाक्रमों पर पीड़ा व्यक्त की◾सिद्धू के सलाहकार का अमरिंदर पर वार, कहा-मुझे मुंह खोलने के लिए मजबूर न करें◾पंजाब : मुख्यमंत्री पद की रेस में नाम होने पर बोले रंधावा-कभी नहीं रही पद की लालसा◾प्रियंका गांधी का योगी पर हमला, बोलीं- जनता से जुड़े वादों को पूरा करने में असफल क्यों रही सरकार ◾पंजाब कांग्रेस की रार पर बोली BJP-अमरिंदर की बढ़ती लोकप्रियता के डर से लिया गया उनका इस्तीफा◾कैप्टन के भाजपा में शामिल होने के कयास पर बोले नेता, अमरिंदर जताएंगे इच्छा, तो पार्टी कर सकती है विचार◾कौन संभालेगा पंजाब CM का पद? कांग्रेस MLA ने कहा-अगले 2-3 घंटे में नए मुख्यमंत्री के नाम का होगा फैसला◾पंजाब में हो सकती है बगावत? गहलोत बोले-उम्मीद है कि कांग्रेस को नुकसान पहुंचाने वाला कदम नहीं उठाएंगे कैप्टन ◾CM योगी ने साढ़े चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर गिनाईं अपनी सरकार की उपलब्धियां◾राहुल ने ट्वीट किया कोरोना टीकाकरण का ग्राफ, लिखा-'इवेंट खत्म'◾अंबिका सोनी ने पंजाब CM की कमान संभालने से किया इनकार, टली कांग्रेस विधायक दल की बैठक◾अफगानिस्तान में आगे बुनियादी ढांचा निवेश को जारी रखने के बारे में पीएम मोदी करेंगे निर्णय : नितिन गडकरी◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 30,773 नए मामलों की पुष्टि, 309 लोगों की हुई मौत◾पंजाब के बाद अब राजस्थान और छत्तीसगढ़ पर टिकी निगाहें, क्या होगा उलटफेर?◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

आंध्र प्रदेश: विभिन्न योजनाओं के तहत लगभग 700 करोड़ रुपये की सरकारी राशि गलत हाथों में गई

देश अभी भी कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर से जूझ रहा है, ऐसे में जानकारी के मुताबिक, आंध्र प्रदेश में सरकारी पैसा गलत हाथों में चला गया है। वित्त विभाग के शुरुआती सत्यापन में यह हैरान कर देने वाली बात सामने आई है कि आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा लागू की जा रही विभिन्न प्रत्यक्ष नकद हस्तांतरण योजनाओं के तहत इस साल अब तक लगभग 700 करोड़ रुपये की राशि गलत हाथों में चली गई है। 

वाई एस जगन मोहन रेड्डी सरकार ने दावा किया है कि उसने जून 2019 और जून 2021 के बीच विभिन्न योजनाओं के तहत एक लाख करोड़ रुपये से अधिक की राशि दी है। जब राज्य के वित्त मंत्री बुगना राजेंद्रनाथ ने हाल ही में अपने विभाग के शीर्ष अधिकारियों के साथ नकद हस्तांतरण की स्थिति की समीक्षा की, तो विभिन्न योजनाओं के तहत सभी लाभार्थियों के आंकड़े के पुनर्मूल्यांकन करने का निर्णय लिया गया।

वित्त विभाग के आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि कुछ प्रमुख योजनाओं की एक नमूना जांच ने लाभार्थियों के आंकड़ों में अंतर को उजागर किया और संकेत दिया कि ‘‘बड़ी रकम’’ गलत खातों में चली गई। सूत्रों ने बताया, ‘‘हमने अभी शुरुआत की है, लेकिन मूल निष्कर्ष अपने आप में चौंकाने वाले हैं। अब हमें संदेह है कि पिछले दो वर्षों में 3,000 करोड़ रुपये से अधिक संदिग्ध व्यक्तियों के पास गए होंगे।’’

लाखों लाभार्थियों को बड़ी राशि देने वाली वार्षिक योजनाओं में प्रमुख हैं अम्मा वोडी (प्रत्येक मां को 15,000 रुपये), पीएम किसान रायथु भरोसा (प्रत्येक किसान को 13,500 रुपये), चेयुता (प्रत्येक बीसी, अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति और 45 वर्ष से अधिक आयु की अल्पसंख्यक महिला को 18,750 रुपये), वाहन मित्र (प्रत्येक कैब / ऑटो चालक को 10,000 रुपये) और मत्स्यकार भरोसा (प्रत्येक मछुआरे को 10,000 रुपये) हैं।

गत 22 जून को चेयुता योजना के तहत 23,41,827 लाभार्थियों को 18,750 रुपये प्रत्येक को हस्तांतरित किये गये थे। वित्त विभाग के सूत्रों ने कहा कि लेकिन बाद में 89,694 महिलाओं के लिए 168.17 करोड़ रुपये का भुगतान रोक दिया गया है क्योंकि सरकार ने लाभार्थियों की वास्तविकता को सत्यापित करने की मांग की है।

गत 18 मई को मुख्यमंत्री ने मत्स्यकार भरोसा के तहत 1,19,875 मछुआरों के बैंक खातों में 119.88 करोड़ रुपये की राशि जमा करने के लिए कंप्यूटर बटन दबाया था लेकिन बाद में 21,736 कथित लाभार्थियों के लिए 21.73 करोड़ रुपये की राशि रोक दी गई क्योंकि अधिकारियों को उनकी सत्यता के बारे में ‘‘कुछ गड़बड़ी’’ लगी।

एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, ‘‘अम्मा वोडी, जिसका उद्देश्य माताओं को अपने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए प्रोत्साहित करना है, की शुरुआत जनवरी 2020 में की गई थी लेकिन उसके बाद कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण स्कूलों में मुश्किल से दो महीने ही चल पाए। इसलिए, यह सत्यापित करने का कोई तरीका नहीं है कि लक्षित बच्चों को स्कूलों में नामांकित किया गया है, जो योजना के तहत अनिवार्य है।’’